स्वरूपानंद महाविद्यालय में विभाजन विभीषिका दिवस का शानदार आयोजन

 भिलाई ।

असल बात न्यूज़।।

स्वामी श्री स्वरूपानंद सरस्वती महाविद्यालय में विश्वविद्यालय अनुदान आयोग के निर्देशानुसार यूजीसी, एनएसएस ,एनसीसी के संयुक्त तत्वाधान में विभाजन विभीषिका दिवस का आजादी के अमृत महोत्सव के अंतर्गत उत्साह पूर्वक आयोजन किया गया ।

 कार्यक्रम के उद्देश्यों पर प्रकाश डालते हुए संयोजिका डॉ सावित्री शर्मा ,प्राध्यापिका ,शिक्षा विभाग ने कहा कि भारत को आजादी मिलने के ठीक एक दिन पहले 14 अगस्त को देश का सबसे बड़ा बंटवारा हुआ था और हमें स्वतंत्रता की मिठास के साथ साथ विभाजन के आघात को भी सहना पड़ा। देश के उस परिदृश्य को हम सब विशेष रूप से आज की युवा पीढ़ी समझ सके और उस दुख भरी दास्तान से अवगत हो सके, इसलिए भारत सरकार द्वारा यह दिवस मनाने का निर्णय लिया गया है। इस दिवस को मनाने का उद्देश्य एकता, सामाजिक सद्भावना और मानव सशक्तिकरण की भावना को मजबूत करना है। मानवता और मानवीय संवेदनाएं इस दिवस को मनाने से निसंदेह मजबूत होंगे। 

कार्यक्रम का शुभारंभ महाविद्यालय की प्राचार्य डॉ हसा शुक्ला एवं स्टाफ द्वारा गांधी जी की प्रतिमा को माल्यार्पण, दीप प्रज्वलन एवं वंदे मातरम गीत गायन के साथ किया गया। 

महाविद्यालय के कार्यकारी अधिकारी डॉ दीपक शर्मा ने कहा ,कि आज जब हम आजादी का अमृत महोत्सव मना रहे हैं तब हमें उस वस्तुस्थिति से भी अवगत होना होगा ,क्योंकि भारत का विभाजन अभूतपूर्व मानव विस्थापन, विश्वास और धार्मिक आधार पर एक हिंसक विभाजन की कहानी है। हमें इसे गंभीरता से समझना होगा। 

महाविद्यालय की प्राचार्य डॉ हसा  शुक्ला  ने अपने उदबोधन में कहा कि भारत सरकार राजपत्र अधिसूचना भारत की वर्तमान और भावी पीढ़ियों को विभाजन के दौरान लोगों द्वारा सही गई यातना एवं वेदना का स्मरण  दिलाने के लिए 14 अगस्त को विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस के रूप में घोषित करती है  । उन्होंने बताया कि किस प्रकार इस विभाजन से एक जीवन शैली तथा वर्षों पुराने सह अस्तित्व का युग अचानक और नाटकीय रूप से समाप्त हो गया। महाविद्यालय में इस अवसर पर  डिजिटल भव्य प्रदर्शनी का आयोजन किया गया। जिसमें महाविद्यालय एवं शंकराचार्य विद्यालय के विद्यार्थियों ने उत्साह पूर्वक भाग लिया ।प्राचार्य, एनसीसी अधिकारी श्री अमित साहू द्वारा विद्यालय के विद्यार्थियों को हर घर तिरंगा अभियान के तहत तिरंगा वितरित किया गया । माइक्रोबायोलॉजी विभाग की विभागाध्यक्ष डॉ शमा ए बैग ने गुलजार जी की नज़्म के द्वारा इस दिवस की स्मृतियों को साझा किया । उन्होंने बताया कि यदि हम एकता और विविधता में सामंजस्य का संकल्प लेते हैं ,तो यह दिवस विभाजन में शहीद हमारे पुरखों  के ऋण उतारने और उनकी रूह को मुक्त कराने जैसा पुण्य कर्म ही होगा । 

बीकॉम द्वितीय वर्ष की छात्रा नेहा राम एवं शेफाली वर्मा ने देश भक्ति गीत से सबको भाव विभोर कर दिया। विचारों की अभिव्यक्ति के तहत एनसीसी कैडेट समर्थ देशमुख ,लोकेश साहू, विशाल कनोजे ,हिमांशु साहू और देवदत्त महानंद ने अपने ओजस्वी विचार व्यक्त किए तथा संकल्प लिया कि वह समाज में सदैव सामाजिक सदभाव हेतु प्रेरित करते रहेंगे । कार्यक्रम का सफल संचालन श्रीमती संयुक्ता पाड़ी  ,विभागाध्यक्ष ,अंग्रेजी विभाग ने किया । कार्यक्रम को सफल बनाने में  सुश्री नीलिमा साहू ,ग्रंथपाल डॉ मंजू कनौजिया ,सहायक प्राध्यापक शिक्षा विभाग  श्री जमुना प्रसाद, सहायक प्राध्यापक, कंप्यूटर विभाग का विशेष योगदान रहा ।कार्यक्रम में महाविद्यालय के सभी प्राध्यापक और विद्यार्थी उपस्थित थे।