छत्तीसगढ़ में 18 वर्ष से अधिक आयु के 1.46 करोड़ को नहीं लगी सतर्कता डोज

 


रायपुर. राज्य में 54 प्रतिशत बच्चे दूसरी डोज से वंचित हैं। वहीं, 18 वर्ष से अधिक आयु के 1.46 करोड़ लोगों को सतर्कता डोज नहीं लगी है। प्रदेश में 18 से अधिक आयु वर्ग के 24.38 लाख लोगों को अब तक सतर्कता डोज लगाई जा चुकी है। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, 18 वर्ष से अधिक आयु के 100 प्रतिशत लोगों ने पहली डोज लगवा ली है।

92 प्रतिशत लोग दोनों डोज लगवा चुके हैं। इसमें 90 प्रतिशत लोगों को दूसरी डोज लगवाए छह माह बीत चुके हैं। इसमें इन्हे तीसरी डोज के रूप में सतर्कता डोज लगाई जानी है। इधर 15 से 18 आयु वर्ग की बात करें तो 16.39 लाख आबादी में 59 प्रतिशत किशोरों को दोनों डोज लगाई जा चुकी है।

वहीं 12 से 14 आयु वर्ग के 13.21 लाख बच्चों में 46 प्रतिशत बच्चों को दोनों डोज लगाई गई है। यानी 54 प्रतिशत बच्चों को दूसरी डोज लगना बाकी है। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, राज्य में 2.22 करोड़ से अधिक लोगों को पहली, 1.96 करोड़ लोगों को दोनों डोज और 37.51 लाख लोगों को सतर्कता डोज लगाई गई है।

प्रदेश में 213 केस मिले, संक्रमण की दर 6.78 प्रतिशत

प्रदेश में रविवार को कोरोना के 213 मामले मिले हैं। वहीं तीन हजार से अधिक संदिग्धों की जांच में संक्रमण की दर 6.78 प्रतिशत पर रही। राज्य में संक्रमण के 3341 मरीजों का इलाज जारी हैं। इसमें सर्वाधिक 496 मरीज रायपुर के हैं। और 322 मरीज दुर्ग के हैं।

राज्य में वर्ष-2022 में माहवार कोरोना संक्रमण पर एक नजर

माह - केस

जनवरी - 1,17,676

फरवरी - 25,031

मार्च - 1,240

अप्रैल - 134

मई - 185

जून - 1,726

जुलाई - 11,000

प्रदेश में एक से सात अगस्त के बीच कोरोना संक्रमण के आंकड़े

तारीख-संक्रमण के मामले

1 अगस्त - 518

2 अगस्त- 595

3 अगस्त- 501

4 अगस्त- 485

5 अगस्त- 435

6 अगस्त- 493

7 अगस्त - 213

कोविड को लेकर लापरवाही हुई तो इसे तेज होने में समय नहीं लगता है। इसलिए कोरोना जांच पर विशेष जोर दिया जा रहा है। अस्पतालों में भर्ती मरीजों व अन्य की भी कोरोना जांच की जा रही है।