शिंदे कैबिनेट के विस्तार पर सस्पेंस बरकरार, राष्ट्रपति चुनाव के बाद, नए मत्रियों का शपथ समारोह

 


मुंबई. महाराष्ट्र की बीजेपी समर्थित एकनाथ शिंदे की अगुवाई वाली सरकार के कैबिनेट विस्तार में अभी और समय लग सकता है। पहले खबर आई थी कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे जल्द ही 13 मंत्रियों को अपनी कैबिनेट में शामिल करने की घोषणा कर सकते है। इस कैबिनेट विस्तार में आठ बीजेपी और पांच शिवसेना से अलग हो चुके समूह के विधायकों को जगह मिलने की उम्मीद थी। लेकिन अभी तक शिंदे कैबिनेट के विस्तार के समय पर असमंजस बरकरार है।

बागी शिवसेना विधायकों के खेमे ने संकेत दिया कि महाराष्ट्र कैबिनेट का बहुप्रतीक्षित विस्तार राष्ट्रपति चुनाव के बाद हो सकता है। एकनाथ शिंदे नीत गुट के प्रवक्ता दीपक केसारकर ने सोमवार को दावा किया कि अभी महाराष्ट्र कैबिनेट का विस्तार करने में कोई पेरशानी नहीं है।  

क्या शिंदे खेमे और पूर्व मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाले शिवसेना गुट के बीच चल रही कानूनी लड़ाई के कारण कैबिनेट विस्तार में देरी हो रही है? मीडिया के इस सवाल का जवाब देते हुए केसारकर ने कहा, ‘‘ विधायक राष्ट्रपति चुनाव में व्यस्त होंगे...तो शपथ ग्रहण करने का समय किसके पास होगा? वे किसी तरह की जल्दबाजी में नहीं है।’’ बता दें कि राष्ट्रपति चुनाव 18 जुलाई को होने वाला हैं।

एकनाथ शिंदे ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री के रूप में तथा देवेंद्र फडणवीस ने 30 जून को उप मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी और अभी केवल वे दोनों ही कैबिनेट के सदस्य हैं।

बीते हफ्ते नई सरकार के कैबिनेट के विस्तार को लेकर पूछे गए एक सवाल का जवाब देते हुए मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने कहा था कि आशा वारी के बाद वें देवेंद्र फडणवीस के साथ इस विषय पर चर्चा करेंगे। एकनाथ शिंदे ने कहा था कि अधिवेशन से पहले मंत्रिमंडल का विस्तार किया जाएगा।
गौर तलब हो कि महाराष्ट्र में ठाकरे के नेतृत्व वाली शिवसेना को हाल में वरिष्ठ नेता शिंदे की अगुवाई में विधायकों की बगावत का सामना करना पड़ा। पार्टी के अधिकतर विधायकों ने शिंदे का पक्ष लिया, जिससे महा विकास आघाड़ी (एमवीए) सरकार गिर गई। शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने 29 जून को मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया और उसके एक दिन बाद शिंदे ने राज्य के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली। जबकि बीजेपी के वरिष्ठ नेता देवेंद्र फडणवीस ने डिप्टी सीएम पद की शपथ ली।