दुर्ग जिले को अधिक सतर्क होने की जरूरत, आज मिले साठ संक्रमित

 रायपुर, दुर्ग, बिलासपुर।

 असल बात न्यूज़।। 

जिस तरह से हर दिन बढ़ते हुए संक्रमित मिल रहे हैं, उससे कोरोना के संक्रमण के फैलाव के मामले में दुर्ग जिले को अधिक सतर्क हो जाना चाहिए। दुर्ग जिले में, छत्तीसगढ़ प्रदेश के अन्य जिलों की तुलना  में आज भी सबसे अधिक 60 संक्रमित मिले हैं। राहत की बात है कि अभी यहां corona के संक्रमण की चपेट में आने  से किसी की मौत नहीं हुई है। दुर्ग जिले में राजधानी रायपुर से भी अधिक संक्रमित मिल रहे हैं।

दुर्ग जिले में कोरोना के एक्टिव केसेस की संख्या बढ़कर 257 हो गई है। कोरोना के संक्रमण के फैलाव के मामले में दुर्ग जिले के आंकड़ों को देखिए तो 2 जुलाई को इस जिले में 204 एक्टिव केस थे जो कि अब बढ़कर 257 पर पहुंच गए हैं। जबकि इस दौरान 50 से अधिक लोगों डिस्चार्ज हुए हैं। जिन्होंने होम आइसोलेशन कंप्लीट किया है अथवा हाथ अस्पताल से डिस्चार्ज हुए हैं। दुर्ग जिले में इसी महीने 6 जुलाई को भी प्रदेश के सबसे अधिक 65 संक्रमित  मिले थे। ऐसा कई बार हो रहा है कि छत्तीसगढ़ में दुर्ग जिले में सबसे अधिक संक्रमित मिल रहे हैं। दुर्ग संभाग के लगभग सभी जिलों में आज कोरोना के अधिक संक्रमित मिले हैं। ऐसा लग रहा है कि यह पूरा संभाग कोरोना की चपेट में आता जा रहा है। दुर्ग जिले के पड़ोसी जिले राजनंदगांव जिले में भी कोरोना के संम्रमितों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। वहां आज 26 संक्रमित मिले हैं और एक्टिव केसेस की संख्या 120 हो गई है। वहीं बेमेतरा जिले में 19, बालोद जिले में 12 और कबीरधाम जिले में 10 संक्रमित मिले हैं। प्रदेश में आज कुल 230 जिलों में 296 संक्रमित मिले हैं इस तरह से हम देख सकते हैं कि यहां संक्रमण के चपेट में आने वाले जिलों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी होती जा रही है। राजधानी रायपुर में आज 56 संक्रमित मिले हैं।

राज्य में बलौदा बाजार, बिलासपुर, कोरबा, जांजगीर चांपा, रायगढ़ भी ऐसे जिले हैं जहां corona के संक्रमितों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है।

इधर कोविड-19 से बचाव के लिए इसके टीके के दूसरे डोज और प्रिकॉशन डोज के बीच की अवधि घटाकर अब छह महीने कर दी गई है। अभी तक इसे नौ माह के अंतराल पर लगाया जा रहा था। केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी नए निर्देशों के आधार पर राज्य शासन के स्वास्थ्य विभाग ने भी सभी जिलों के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी तथा जिला टीकाकरण अधिकारियों को इस संबंध में परिपत्र जारी कर दिया है। स्वास्थ्य विभाग ने कोविड टीकाकरण में लगे अधिकारियों-कर्मचारियों को सूचित करने तथा लोगों के बीच इसके व्यापक प्रचार-प्रसार के निर्देश दिए हैं।

राज्य टीकाकरण अधिकारी डॉ. वी.आर. भगत ने सभी मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारियों तथा जिला टीकाकरण अधिकारियों को भेजे परिपत्र में कहा है कि नेशनल टेक्नीकल एडवायजरी ग्रुप ऑन इम्यूनाइजेशन (NTAGI) के स्टैंडिंग टेक्निकल सब-कमेटी (STSC) की अनुशंसा पर कोरोना से बचाव के टीके की दूसरी खुराक और प्रिकॉशन डोज के मध्य का अंतराल संशोधित कर नौ माह या 39 सप्ताह से अब छह माह या 26 सप्ताह कर दिया गया है। उन्होंने परिपत्र में कहा है कि 18 से 59 वर्ष आयु वर्ग के सभी लाभार्थियों को कोविड वैक्सीन के दूसरे डोज के छह माह या 26 सप्ताह पूर्ण होने पर निजी कोविड वैक्सीन सेंटर में प्रिकॉशन डोज लगाया जाएगा। स्वास्थ्य कर्मियों, फ्रंटलाइन वर्कर्स और 60 वर्ष से अधिक के नागरिकों को टीके की दूसरी खुराक के छह माह या 26 सप्ताह पूर्ण होने पर शासकीय कोविड वैक्सीन सेंटर में निःशुल्क प्रिकॉशन डोज लगाया जाएगा। इसके लिए कोविन में आवश्यक बदलाव कर दिया गया है।

राज्य टीकाकरण अधिकारी ने कोविड टीकाकरण में लगे अधिकारियों-कर्मचारियों को इस संबंध में सूचित करने तथा लोगों के बीच इसका व्यापक प्रचार-प्रसार करने कहा है। उन्होंने सभी पात्र लाभार्थियों को कोविड वैक्सीनेशन सेंटर तथा हर घर दस्तक 2.0 अभियान के दौरान घर पर प्रिकॉशन डोज की सुविधा उपलब्ध कराना सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं


असल बात न्यूज़

सबसे तेज, सबसे विश्वसनीय 

 पल-पल की खबरों के साथ अपने आसपास की खबरों के लिए हम से जुड़े रहे , यहां एक क्लिक से हमसे जुड़ सकते हैं आप

https://chat.whatsapp.com/KeDmh31JN8oExuONg4QT8E

...............

................................

...............................

असल बात न्यूज़

खबरों की तह तक, सबसे सटीक , सबसे विश्वसनीय

सबसे तेज खबर, सबसे पहले आप तक

मानवीय मूल्यों के लिए समर्पित पत्रकारिता