लूट की वारदात का ब्रांच मैनेजर निकला मास्टरमाइंड, चेहरे पर छिड़का जहरीला पदार्थ, चश्मे से बची आंख

 


रायपुर . चेहरे पर मिर्ची पाउडर जैसा जहरीला पदार्थ छिड़ककर लूट का प्रयास करने के पांच आरोपितों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। यह तो गनीमत थी कि चश्मे की वजह से प्रार्थी कैशियर की आंख बच गई। मामले का मास्टर माइंड कोई और नहीं, बल्कि उसी की कंपनी का ब्रांच मैनेजर बताया गया है। कोतवाली थाना पुलिस ने ब्रांच मैनेजर और एक नाबालिग सहित पांच आरोपितों को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने मो. साहेब सिद्दीकी ब्रांच मैनेजर के अलावा मो. नदीम, सैफ वारसी और मो. रिजवान को गिरफ्तार कर कार्रवाई की।

यह है पूरा मामला :

प्रार्थी नवेद इकबाल सिद्धीकी ने थाना कोतवाली में रिपोर्ट दर्ज कराई है। उन्होंने पुलिस को बताया कि वह बैरनबाजार स्थित एबीस एक्सपोर्ट इंडिया में कैशियर के पद पर कार्यरत है और घर से ही अपना कार्यालय संचालित करते हैं। सोमवार को कंपनी की रिटेल ब्रांचों के कलेक्शन की रकम का हिसाब-किताब कर रहे थे। दोपहर 12 बजे जब वह कलेक्शन की रकम गिन रहे थे, उसी दौरान उनके कार्यालय में दो लड़के पहुंचे। उनके हाथ में नोटों के बंडल जैसे पैकेट थे, जिन्हें उन्होंने इकबाल को दिए और कहा कि यह कलेक्शन की रकम है, रख लें।

इकबाल ने जब दोनों से पूछा कि किस ब्रांच से हो तो उन्होंने काउंटर में रखी रकम को लूटने के इरादे से उनके चेहरे पर कोई जहरीला पदार्थ छिड़क दिया। इकबाल ने शोर मचाया तो दोनों लड़के हड़बड़ा कर अपने साथ लाए बंडल को छोड़कर भाग गए। हालांकि वह कागज का बंडल था। आरोपित जिस बाइक से आए थे, उसे भी गए। पीड़ित ने तत्काल थाने में रिपोर्ट दर्ज करवाई।

पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज और गाड़ी के नंबर के आधार पर दोनों आरोपितों को पकड़ा। लड़कों से पूछताछ में मुख्य आरोपित मो. साहेब सिद्दीकी निकला, जो टिकरापारा संतोषी नगर स्थित एबीस एक्सपोर्ट इंडिया कंपनी में ब्रांच मैनेजर है। उसी ने लूट की योजना तैयार की थी।

कोतवाली के थाना प्रभारी उमेंद्र टंडन ने कहा, घटना की जानकारी मिलते ही तत्काल आरोपितों की तलाश में टीम जुट गई थी। मामले का मुख्य आरोपित कंपनी का ब्रांच मैनेजर ही है।