पुलगांव नाला डायवर्सन का कार्य 70 प्रतिशत पूरा

 


दुर्ग। पुलगांव नाला का गंदा पानी नदी स्थित दुर्ग निगम के इंटकवेल के किनारे जाकर मिलता है। नाला के पानी में बहकर आने वाले जलकुुंभी और कचरा इंटकवेल में फंसने से पानी सप्लाई को लेकर भी दिक्कत होती है।

दुर्ग निगम प्रशासन द्वारा साढ़े तीन करोड़ रुपये की लागत से नाला का डायवर्सन कराया जा रहा है। गुरुवार को महापौर धीरज बाकलीवाल, कार्यपालन अभियंता राजेश पांडेय सहित निगम के अन्य अधिकारियों ने पुलगांव नाला डायवर्सन कार्य का निरीक्षण किया। नाला डायवर्सन का करीब 70 फीसद काम पूरा हो चुका है।

निरीक्षण पर पहुंचे महापौर ने अधिकारियों और ठेकेदारों को निर्देशित कर बचा हुआ काम जल्द से जल्द पूरा करने निर्देशित किया।

नाला डायवर्ट होने से गंदा पानी नदी में नहीं मिलेगा और न ही इंटकवेल में जलकुंभी या कचरा फंसेगा। उल्लेखनीय है कि शहर के 60 वार्डों में पानी सप्लाई के लिए निगम प्रशासन द्वारा नदी स्थित उक्त इंटकवेल के माध्यम से पानी खींचा जाता है। नाला व नालियों की हो रही है निरन्तर बेहतर सफाई, महापौर ने किया निरीक्षण।

अब तक नहीं हुई नालों की सफाई

महापौर ने निगम अधिकारियों के साथ शहर में चल रहे नाला सफाई कार्य का भी जायजा लिया। उन्होंने स्वास्थ्य गिरीश दीवान के साथ कसारीडीह नाला,शंकर नाला,पोटिया नाला,केलाबाड़ी नाला सहित अन्य नालों की सफाई कार्य का जायजा लिया। स्वास्थ्य अधिकारी ने बताया कि नाला सफाई का काम अब तक अंतिम चरण में हैं। सफाई के लिए कर्मचारियों की संख्या बढ़ाने के साथ ही चैन माउंटेन एवं जेसीबी भी उपयोग में लाया जा रहा है। महापौर ने शहर के विभिन्ना वार्डों में चल रही नालियों की सफाई कार्य का भी निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान पूर्व पार्षद प्रकाश गीते सहित अन्य लोग मौजूद रहे।

हरकत में प्रशासन, सड़क किनारे से सामान हटाने दी चेतावनी

धमधा। धमधा नगर से गुजरे रोड में जाम और अन्य बिल्डिंग मटेरियल के बेतरतीब रखे होने से दुर्घटना की आशंका होने लगी है और जाम भी लग रहा है। आम लोगों को हो रही परेशानी को नईदुनिया ने प्रमुखता से उठाया। इसके बाद सुबह से ही जिम्मेदार अधिकारी हरकत में आ गए। अधिकारियों ने रोड के घूम-घूम कर दो घंटे के भीतर सारे सामान हटाने चेतावनी दी।

सामान न हटने और व्यवस्था न होने की स्थिति में सारी सामग्री को जब्त करने की बात कही गई। जिसके बाद सड़क किनारे पड़े रेत निर्माणाधीन जिला सहकारी केंद्रीय बैंक के ठेकेदार ने समेटने का काम शुरू कर दिया। बचे रेत को हटाने के लिए एक दिन की मोहलत मांगी। उसी प्रकार नगर प्रवेश द्वार पर गिट्टी महीनों से पड़ा हुआ था, चेतावनी के तुरंत बाद हटाने का काम प्रारंभ कर दिया गया। नगर प्रशासन द्वारा स्वघोषित टैक्सी स्टैंड पर अंग्रेजी शराब दुकान संचालक को मौखिक चेतावनी दी गई। व्यवस्था सुधार नहीं होने पर सुनिश्चित ही कार्रवाई की जाएगी। कार्रवाई को मुख्य मार्ग के व्यापारियों ने खुले मन से प्रशंसा की। इस अभियान के दौरान नायब तहसीलदार हुलेश्वर पटेल, नप के राजस्व प्रभारी ज्ञानेश्वर देवदास, प्रफुल्ल देवांगन थे।