उपस्थिति पंजी मे हस्ताक्षर नही मिलने पर लिपिक की रोकी गई एक वेतनवृद्धि एवं राजस्व निरीक्षक को थमाया कारण बताओं नोटिस,संभागायुक्त दुर्ग संभाग श्री कावरे ने किया अनुविभागीय अधिकारी एवं तहसील कार्यालय दुर्ग का निरीक्षण

 

दुर्ग ।

असल बात न्यूज़।।

संभाग आयुक्त दुर्ग संभाग महादेव कावरे शासकीय कार्यालयों में अनियमितताएं देखकर आज फिर गुस्से नजर आए। उन्होंने आज दुर्ग  जिले के अनुविभागीय अधिकारी कार्यालय एवं तहसीलदार कार्यालय दुर्ग का निरीक्षण किया। इस दौरान प्रतिलिपि शाखा एवं सूचना के अधिकार शाखा में दस्तावेज  अव्यवस्थित मिले, तहसील शाखा में कानूनगो ने उपस्थिति पंजी में हस्ताक्षर नहीं किया था जिसपर वे नाराज नजर आए। हस्ताक्षर नहीं मिलने पर लिपिक एक वेतन वृद्धि रोक देने की कार्रवाई की गई है।

श्री कावरे द्वारा कार्यालय के समस्त शाखाओ के निरीक्षण के दौरान शाखाओं में कर्मचारियों के टेबल पर नेम प्लेट अवश्य रखे जाने के निर्देश दिए गए। श्री कावरे द्वारा तहसील कार्यालय स्थित लोक सेवा केन्द्र का भी निरीक्षण किया गया एवं समस्त आवेदनो को समय सीमा के भीतर कार्यवाही किए जाने के निर्देश अनुविभागीय अधिकारी दुर्ग श्री मुकेश रावटे को दिए गए। प्रतिलिपि शाखा एवं सूचना के अधिकार शाखा में दस्तावेजो के अव्यवस्थित रख-रखाव पर  नाराजगी व्यक्त की गई एवं संबंधित कर्मचारी को व्यस्थित रख-रखाव करने के निर्देश भी दिए गए।

कानूनगो शाखा के लिपिक की रोकी गई एक वेतनवृद्धि:

तहसील कार्यालय के निरीक्षण के दौरान उपस्थिति पंजी की जाँच की गई, जिसमें कानूनगो द्वारा हस्ताक्षर नही किया जाना पाया गया, जिस पर श्री कावरे द्वारा कड़ी नाराजगी व्यक्त की गई एवं संबंधित कर्मचारी श्री फुलसिंग पुलस्त की एक वेतनवृद्धि राकी जाने का आदेश दिया साथ ही संबंधित अधिकारियों को नियमित तौर पर उपस्थिति पंजी की जाँच करने के निर्देश दिए।

न्यायालयीन प्रकरणों के निराकरण में तेजी लाए: 

निरीक्षण के दौरान संभागायुक्त दुर्ग संभाग द्वारा न्यायालय तहसीलदार दुर्ग, अतिरिक्त तहसीलदार दुर्ग एवं ंनायब तहसीलदार के प्रकरणों का अवलोकन किया गया, जिस दौरान कार्यालय तहसीलदार में कुल 2333 प्रकरण (जिनमें तहसीलदार दुुर्ग में 1699 प्रकरण अतिरिक्त तहसीलदार न्यायालय में 567 प्रकरण एव ंनायब तहसीलदार न्यायालय में 176 प्रकरण) लंबित पाए गए लंबित प्रकरणों की संख्या अधिक होने पर प्रकरण के निराकरण में तेजी लाने के निर्देश दिए गए साथ ही समय-सीमा के बाद के लंबित प्रकरणों को प्राथमिकता के तौर पर निराकरण हेतु तहसीलदार दुर्ग श्री प्रकाश सोनी एवं अतिरिक्त तहसीलदार सुश्री प्रेरणा सिंह को निर्देशित किया गया। श्री कावरे ने सीमांकन के प्रकरणों को समय-सीमा के भीतर किए जाने हेतु अनुविभागीय अधिकारी श्री रावटे को निर्देशित किया।

आम जनता एवं अधिवक्ताओ से की गई चर्चा, सीमांकन के लंबित प्रकरण पर थमाया कारण बताओं नोटिस:

निरीक्षण के दौरान कार्यालय में पहुँचे कातुलबोर्ड निवासी श्री भगतराम से श्री कावरे ने समस्या के संबंध में जानकारी ली गई, आवेदक द्वारा बताया गया कि उनक त्रुटि सुधार कार्य लंबित विगत कुछ दिवसो से लंबित है, जिस पर श्री कावरे ने अनुविभागीय अधिकारी श्री रावटे को 15 दिवस के भीतर त्रुटि सुधार किए जाने का निर्देश दिया, इसी प्रकार कसारीडीह निवासी श्री गुप्ता द्वारा बताया गया कि सीमांकन का प्रकरण विगत 07 वर्षों से लंबित है, जिनमें आज पर्यन्त तक कार्यवाही नही की गई है, जिस पर संबंधित राजस्व निरीक्षण को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया।

कार्यालय अनुविभागीय अधिकारी दुर्ग में अधिवक्ता श्री चंद्रकांत चंदेल, श्रीमती ज्योति, श्रीमती अनुराधा बक्शी, श्री युगेश्वर देशमुख, टुना हाजरा, शरील खान से न्यायालयीन प्रक्रियाओं के संबंध में चर्चा की गई, श्री कावरे द्वारा अधिवक्ताओं को राजस्व न्यायालय के प्रकरणों को ऑनलाईन वेबसाईट के माध्यम से भी अवलोकन किए जाने का सुझाव दिया गया। उपस्थित अधिवक्ता संघ के सभी सदस्यों द्वारा न्यायालयीन प्रक्रियाओं में संतुष्टता व्यक्त की गई एवं कार्यालय परिसर में बैठक व्यवस्था हेतु कक्ष प्रदान करने की मांग की गई जिस पर कार्यालय परिसर में तत्काल स्थल चयन करने अनुविभागीय अधिकारी श्री रावटे को निर्देश दिए गए एवं श्रीमती प्रेरणा सिंह अतिरिक्त तहसीलदार दुर्ग को तहसील परिसर में महिला वॉशरूम व्यवस्था सुधार हेतु निर्देशित किया गया।