छत्तीसगढ़ के इतिहास में पहली बार मंहगाई भत्ता एवं गृहभाड़ा भत्ते के लिये आंदोलन - फेडरेशन

 

*हरेली उत्सव मनाकर आंदोलन का होगा शंखनाद


 रायपुर ।

असल बात न्यूज़।।

::छत्तीसगढ़ कर्मचारी अधिकारी फेडरेशन के आव्हान पर पूरे प्रदेश में कर्मचारियों ने अपनी मंहगाई भत्ता एवं गृह भाड़ा भत्ते की मांगों को लेकर आज  तीसरे दिन भी आंदोलन किया गया। नवा रायपुर स्थित संचालनालय व इंद्रावती भवन पूर्णतः तीसरे दिन भी बंद रहे। संपूर्ण छत्तीसगढ़ में छत्तीसगढ़ के निवासियों को होने वाली परेशानियों और दिक्कतों के लिये फेडरेशन के संयोजक द्वारा खेद व्यक्त किया करते हुए कहा कि सरकार की हठधर्मिता और संवादहीनता के कारण छत्तीसगढ़ के निवासियों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।    

 फेडरेशन के संयोजक कमल वर्मा, प्रमुख प्रवक्ता विजय झा व संजय सिंह ने संयुक्त विज्ञप्ति जारी कर बताया कि आज कर्मचारी अधिकारी फेडरेशन के तीसरे दिन का आंदोलन सभी जिलों  मुख्यालयों एवं संभागों में पिछले दो दिनों की अपेक्षा शतप्रतिशत सफल रहा। तीसरे दिन के आंदोलन में छत्तीसगढ़ के सभी संभाग प्रभारियों से प्राप्त जानकारी के अनुसार विगत दो दिनों की अपेक्षा आज तीसरे दिन अधिक संख्या में कर्मचारी अधिकारी प्रत्येक जिलों में धरना स्थल पर उपस्थित रहे।

  बूढ़ापारा धरना स्थल में आज तीसरे दिन का आंदोलन निर्धारित समय प्रातः 11.00 बजे से छत्तीसगढ़ गीत ‘‘अरपा पैरी की धार’’ के साथ प्रारंभ हुआ। फेडरेशन के तीसरे दिन के आंदोलन में पूरे प्रदेश के सभी शासकीय कार्यालय पूर्ण रुप से बंद रहे। अधिकारियों के वाहन चलाने हेतु वाहन चालक उपस्थित नही रहे जिसके कारण कई अधिकारियों को अपने वाहन से  विधानसभा  पहुंचना पड़ा, यही नही कार्यालयों में क्लास वन अधिकारियों को चाय/पानी पिलाने के लिये चपरासी भी कार्यालय में नही पहुंच रहे है। जिसके कारण यह कहना अतिसंयोक्ति नही होगी कि छत्तीसगढ़ के सभी कार्यालय शत प्रतिशत बंद रहे, इस तरह फेडरेशन के नेताओं ने इस आंदोलन को  शत प्रतिशत सफल बताया । 

 छ.ग.कर्मचारी अधिकारी फेडरेशन के जिला संयोजक उमेश मुदलियार व जिला महासचिव राजेश सोनी ने बताया कि आज के तीसरे दिन के आंदोलन में बूढातालाब धरना स्थल में आज भारी संख्या में कर्मचारी अधिकारी उपस्थित रहे जिसके कारण धरना स्थल से सड़क तक भीड़ उमड़ी रही। अगले दो दिन में यह आंदोलन अपने चरम पर रहेगा। फेडरेशन के  प्रांतीय संयोजक के निर्णय अनुसार  कल छत्तीसगढ़ का मुख्य त्यौहार  जिला एवम् ब्लॉक स्तरीय धरना स्थल पर छत्तीसगढ़ी संस्कृति  के अनुसार  पारंपरिक तरीके से मनाए जाने का निर्णय लिया गया है।इस परंपरा अनुसार सभा स्थल पर नीमपत्ती लगाने के साथ ही कृषि कार्य में होने वाले कृषि औजारों की पारंपरिक तरीके से पूजा की जायेगी तथा गेड़ी चलाने का कार्यक्रम भी रखा गया है। इसके साथ ही  महिला कर्मचारियों  द्वारा छत्तीसगढ़ के  पारंपरिक व्यंजन  सभा स्थल में उपस्थित  कर्मचारियों को वितरित किया जाएगा। 

 फेडरेशन के चौथे चरण के आंदोलन सभा को  वरिष्ठ पूर्व कर्मचारी नेता विजय कुमार पाठक,  पी.आर. यादव, मुख्य संरक्षक प्रदेश तृतीय वर्ग कर्मचारी संघ  ने संबोधित एवम् मार्गदर्शन दिया।  छत्तीसगढ़ कर्मचारी अधिकारी फेडरेशन से संबद्ध संगठनों के प्रांत अध्यक्ष चंद्रशेखर तिवारी, अजय तिवारी, पंकज पांडेय, रोहित तिवारी, सत्येन्द्र देवांगन, यशवंत वर्मा, राकेश शर्मा, आर.के.ठाकुर एवं विभिन्न संगठनों के प्रांताध्यक्ष उपस्थित रहे। 

 आज फेडरेशन के आंदोलन मे मुख्य वक्ता के रुप में विममलचंद्र कुण्डु, फारुख कादरी, राजकुमार शर्मा, नेत्रचंद जोशी, टी.आर.साहू, एल.के.कादिर, ओ.पी.पाल, संजयपुरी गोस्वामी, श्रीमती भवगती शर्मा, दिलीप तिवारी, मीनाक्षी शर्मा, राजीव वर्मा, डी.एस.एन.राव, संजय पांडेय, रीता चौधरी, पंकज पांडेय, बेनीराम गायकवाड़ आदि ने किया।कर्मचारी नेता पंकज पांडे, प्रांताध्यक्ष छ.ग.स्वास्थ्य एवं बहुउद्देशीय कर्म.संघ द्वारा आभार व्यक्त किया गया। कार्यक्रम का संचालन संजय सिंह प्रांताध्यक्ष छत्तीसगढ़ शासकीय लिपिक वर्गीय कर्मचारी संघ द्वारा किया गया।