महाराष्ट्र में एकनाथ शिंदे सरकार को मिला बहुमत, 164 विधायकों ने किया समर्थन


 

 

 

मुंबई . महाराष्ट्र में पिछले कई दिनों से सियासी उथलपुथल मचा हुआ है. यहां नई सरकार का ऐलान करते हुए एकनाथ शिंदे ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी. वहीं देवेंद्र फडणवीस उपमुख्यमंत्री बने हैं. अब शिंदे सरकार को बहुमत मिल गया है. बता दें कि उन्हें 164 विधायकों का समर्थन मिला है. इसी बीच अब उद्धव ठाकरे सरकार की मुश्किलें बढ़ गई है. शिंदे को शिवसेना विधायक दल के नेता और गोगावले को चीफ व्हिुप के तौर पर मान्यता मिल गई है.

इसी बीच शिवसेना नेता संजय राउत का कहना है कि यह (भाजपा और शिंदे गुट का गठबंधन) एक अस्थायी व्यवस्था है, वे लोगों के पास नहीं जा सकेंगे. वे शिवसेना में शेर थे. कसाब के पास भी इतनी सुरक्षा नहीं थी, लेकिन जब वे मुंबई पहुंचे तो उनके पास थी. आप किससे डरते हैं ? संजय राउत ने आगे कहा, पार्टी कमजोर नहीं होगी, हमारी ऑक्सीजन शक्ति नहीं है. हम मजबूत नहीं हैं, क्योंकि हम सत्ता में हैं, हम मजबूत हैं और इसलिए हम सत्ता में हैं. लोग आते हैं और जाते हैं. उन्होंने हमारी पार्टी में शामिल होने का विकल्प चुना और बाहरी ताकतों के कारण चले गए. हम गांवों में जाएंगे, अन्य कार्यकर्ता ढूंढेंगे.

आपको बता दें कि शिवसेना के बागी नेता एकनाथ शिंदे को महाराष्ट्र का मुख्यमंत्री बनने के बाद शिवसेना के भीतर ताजा मतभेद सामने आया है. महाराष्ट्र विधानसभा में अज स्पीकर के चुनाव को लेकर शिवसेना के दो धड़ों के बीच व्हिप को लेकर विवाद हो गया. इससे पहले, शिवसेना और एकनाथ शिंदे के नेतृत्व वाले धड़े दोनों ने अलग-अलग व्हिप जारी कर विधायकों को अपने अपने उम्मीदवारों को वोट देने का निर्देश दिया था. बता दें कि विधानभवन में स्थित शिवसेना कार्यालय को बंद कर दिया गया था. हालांकि कार्यालय को किसके कहने पर बंद किया गया यह अबतक साफ नहीं हो सका है.