देश में शहरी स्थानीय निकायों और ग्राम पंचायतों में 1.25 करोड़ एलईडी स्ट्रीट लाइट

 

नई दिल्ली।
असल बात न्यूज़।। 
भारत देश में शहरी स्थानीय निकायों (यूएलबी) और ग्राम पंचायतों (जीपी) में पिछले वर्षों में 1.25 करोड़ से अधिक एलईडी स्ट्रीट लाइट स्थापित की गई हैं। एलइडी स्ट्रीट लाइट की स्थापना से देश को लगभग 6 हजार 800 करोड का की बचत हुई है। बिजली की बचत से इतने पैसे की बचत हुई है।यह जानकारी केन्द्रीय विद्युत एवं नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्री श्री आर के सिंह ने आज राज्यसभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में दी है।


उन्होंने बताया कि राष्ट्रीय एलईडी कार्यक्रम का शुभारंभ देश में वर्ष 2015 से हुआ है। जिसके तहत पारंपरिक स्ट्रीट लाइटों को ऊर्जा कुशल एलईडी स्ट्रीट लाइटों से बदलने के लिए स्ट्रीट लाइट राष्ट्रीय कार्यक्रम (एसएलएनपी) तैयार किया गया था 

अब तक, एनर्जी एफिशिएंसी सर्विसेज लिमिटेड (ईईएसएल) ने पूरे भारत में शहरी स्थानीय निकायों (यूएलबी) और ग्राम पंचायतों (जीपी) में 1.25 करोड़ से अधिक एलईडी स्ट्रीट लाइट स्थापित की हैं।

एसएलएनपी उन राज्यों/शहरी स्थानीय निकायों (यूएलबी) में कार्यान्वित किया जा रहा है जिन्होंने ईईएसएल के साथ कार्यान्वयन समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं। वर्तमान में, ईईएसएल 23 राज्यों और 6 केंद्र शासित प्रदेशों में स्ट्रीट लाइट राष्ट्रीय कार्यक्रम लागू कर रहा है। ईईएसएल ने सभी राज्यों/संघ राज्य क्षेत्रों को प्रस्ताव दिए हैं और जब भी संबंधित राज्य/संघ राज्य क्षेत्र प्रशासन इसे मंजूरी देता है और यूएलबी के साथ समझौते पर हस्ताक्षर किए जाते हैं, स्ट्रीट लाइटों को बदलने का काम ईईएसएल द्वारा किया जाता है।

एसएलएनपी से अब तक 8.5 अरब यूनिट की वार्षिक बचत होने का अनुमान है, जो 6800 करोड़ रुपए के बराबर है।