सुरक्षा के मद्देनजर हाथ से कठिन खुदाई, राहुल तक पहुंचने में लग सकता है कुछ अधिक वक्त, बच्चा राहुल, एक्टिव मोड में

 

रायपुर, जांजगीर चांपा।

असल बात न्यूज़।। 

        00  विशेष संवाददाता 

मौके से सुबह 8:00 बजे तक की रिपोर्ट

चिंताभरी रात बीत गई है, सुबह की नई किरण के साथ, नई उम्मीदें जगी है। सभी की उम्मीदें हैं,और सभी ईश्वर से प्रार्थना कर रहे हैं कि राहुल सुरक्षित  बाहर निकल आएगा। बोर के गड्ढे में गिरा राहुल अभी एक्टिव मोड में है। उसने सुबह केला खाया है और फ्रूटी पी है। इसे अच्छी खबर कहा जा सकता है। यह स्वाभाविक है कि राहुल के खाने पीने के बारे में खबर मिलती है कि वह कुछ खा पी रहा है तो यहां नए उत्साह,नई ऊर्जा का संचार होता दिखता है और लोगों में नई खुशी पैदा हो जाती है। रात में कुछ दिक्कतें आई है। जहां सुरंग बनाई जा रहे हैं वहां चट्टाने है, जिनको काटने में मुश्किल हो रही है। मशीन से काटना और जोरदार प्रहार कर  चट्टानों को तोड़ना घातक भी साबित हो सकता है खास तौर पर राहुल के लिए। इसलिए ऐसे कार्यों प्रयासों से बचने की कोशिश की जा रही है। वहां सेना एनडीआरएफ स्टेट आपदा प्रबंधन कोल माइंस के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित हैं, सभी आपस में विचार करके कि किस तरह से आगे बढ़ना है कार्य को किया जा रहा है। ऐसे  आपदा से बचाव के कार्य में ये सभी अधिकारी काफी अनुभवी हैं और उनके अनुभव का यहां भी फायदा मिलता दिख रहा है।

*ऑपरेशन राहुल*

रेस्कयू दल खुदाई कर रहा है। पत्थर की वजह से मशीन असफल साबित हुई है क्योंकि यहाँ ज्यादा बड़ी मशीन यूज़ नही की जा सकती है।

अभी यहां चट्टानों की लगभग 10 फीट सुरंग नुमा खुदाई की जानी है। हमने आपको पहले बताया है कि यहां भूमि की खुदाई गहराई के लिए किस तेरा के अत्याधुनिक उन्नत बड़ी-बड़ी मशीनें बुलाई गई है और उन्होंने यह काम किया है। आपके जानकारी के अनुसार लगभग 11 जेसीबी मशीन से खुदाई तथा गहरीकरण का काम किया जा रहा है। कोरबा, झारखंड से भी खदान एक्सपर्ट और कई मशीने ड्रिल तथा अन्य कार्य के लिए मंगाई गई है।अतरिक्त जेसीबी, पोकलेन ,हाइवा भी मंगाए गए हैं। लेकिन जब आप ना आती हैं तो कई तरह की स्थितियां पैदा हो जाती है। इतनी सारी विशालकाय मशीनें खोजने के बावजूद हाथ से खुदाई करनी पड़ रही है तथा चट्टानों को काटना पड़ रहा है। सावधानी और बचाव के लिए यह जरूरी है। हां से खुदाई करने की वजह से समय अधिक लगने की आशंका है। हालांकि जहां उचित लग रहा है वहां खुदाई करने में मशीन का भी इस्तेमाल किया जा रहा है। बीच में चट्टानों आ गई तो छोटी मशीन से खुदाई करना मुश्किल हो गया तो करैक्टर जितेंद्र कुमार शुक्ला के यहां इस काम के लिए बड़ी मशीन बुला ली है।सुरंग की राह में एक बड़ा चट्टान आ गया है। हैंड ड्रिलिंग मशीन से चट्टान को तोड़ा काटा जा रहा है। कलेक्टर ने इससे बड़ी मशीन मंगाई है। ज्यादा बड़ी मशीन का उपयोग यहाँ करने से आसपास कम्पन की संभावना बढ़ जाएगी। जो कि राहुल के लिए खतरनाक बन सकता है।इसलिए सूझबूझ और एक्सपर्ट के बीच चर्चा करके ही कोई फैसला लिया जा रहा है।

सभी हाथ से किया जा रहा है। बीच मे ड्रिल भी किया जा रहा है जहाँ तक संभव हो रहा है।

 राहुल अभी सो रहा है। सुबह 5 बजे 2 केला और फ्रूटी दिया गया था। उसने केला भी खाया और फ्रूटी भी पी थी। चट्टानों की वजह से सुरंग में बाधा आ रही है फिर भी खुदाई जारी है

कलेक्टर द्वारा रणनीति पर लगातार चर्चा की जा रही है। वे सेना, एनडीआरएफ और एसईसीएल के अधिकारियों से सलाह ले रहे हैं।अभी एक बड़ी हैंड ड्रिलिंग मशीन भी लाई गई है। ताकि इसका उपयोग किया जा सके।

यहां के कलेक्टर जितेंद्र कुमार शुक्ला ने बताया है कि राहुल अभी एक्टिव है।इस अभियान में यही अच्छी बात है। हमारा भी  रेस्क्यू चल रहा है। जो भी संसाधन है उससे काम किया जा रहा है। अभी 3 मीटर की दूरी में राहुल फसा हुआ है। लेकिन चट्टान की वजह से ही कुछ दिक्कत है। कुछ भी मशीन लगाने से पहले राहुल के बारे में सोच कर ही कदम उठाया जा रहा है।







असल बात न्यूज़

सबसे तेज, सबसे विश्वसनीय  

आप सभी असल बात न्यूज़ के साथ बने रहिए। हम अपने सहयोगी के साथ वहां की प्रत्येक गतिविधियों से आपको लगातार अपडेट करते रहेंगे। 

 पल-पल की खबरों के साथ अपने आसपास की खबरों के लिए हम से जुड़े रहे , यहां एक क्लिक से हमसे जुड़ सकते हैं आप

https://chat.whatsapp.com/KeDmh31JN8oExuONg4QT8E

...............

................................

...............................

असल बात न्यूज़

खबरों की तह तक, सबसे सटीक , सबसे विश्वसनीय

सबसे तेज खबर, सबसे पहले आप तक

मानवीय मूल्यों के लिए समर्पित पत्रकारिता