फरसवानी समेत एक दर्जन गांव में पांच दिन से बिजली बंद

 


करतला. बारिश ने बिजली विभाग की व्यवस्था की पोल खोल दी है। जिला मुख्यालय से दूर दर्जनों गांव में ब्लैकआउट की स्थिति निर्मित हो गयी है। बरपाली विद्युत वितरण केंद्र अंतर्गत ग्राम फरसवानी, देवलापाठ, चिचोली, गितारी, तिलाईभांठा, फुलझर, सहित दर्जनों गांवों में पिछले पांच दिनों से बिजली नहीं हैं। बिजली नही होने से हारों ग्रामीणों को पीने का पानी तक उपलब्ध नही हो पा रहा है।

बिजली नहीं होने से ग्रामीणों को जीव जंतु का भय बना हुआ है। कई ग्रामीणों के घर में विषैले सर्प घुस चुके है। वही सरकारी राशन दुकान में पांच दिनों से बिजली नही होने से राशन वितरण में समस्या हो रही है।

ग्राम फरसवानी में बिजली समस्या को देखते हुए सब स्टेशन प्रस्तावित किया गया था, पर परंतु अब तक प्रक्रियाधीन है। शासन स्तर पर अब तक सबस्टेशन बनाने की कवायद शुरू नही हुई है, इसे लेकर ग्रामीणों में नाराजगी बनी हुई है। बिजली समस्या को देखते हुए ग्रामीण बड़ा आंदोलन करने की मंशा बना रहे है। कोरबा- चांपा मार्ग के नेशनल हाइवे में परिवर्तित किए जाने की वजह से बिजली ठेकेदारों की लापरवाही से दर्जनों गांवों में ब्लैकआउट की स्थिति निर्मित हो गयी है। बिजली खंबों में नए स्थानों में स्थानांतरित करने में बिजली ठेकेदार ने बड़ी लापरवाही पूर्वक कार्य किया है। मड़वारानी से बरपाली तक दर्जनों खंबे पहली ही बरसात में धराशाई हो गए। इसे सुधारने में विद्युत विभाग के पसीने छूट रहे है और अब तक सुधार कार्य जारी है। नेशनल हाइवे के ठेकेदार लगातार अपने कार्यो में लापरवाही बरत रहे है। इससे आम जनता को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।