मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने सिकोला में हाईटेक नर्सरी का किया लोकार्पण

 

पाटन। पाटन के सिकोला में स्थित हाईटेक नर्सरी का लोकार्पण सोमवार को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने किया। कई खूबियों और संसाधनों से लैस इस नर्सरी में उन्होंने कदंब का पौधा भी रोपा। इस दौरान उन्होंने कहा कि तीन करोड़ आठ लाख रुपये की लागत से बनीं इस नर्सरी में प्राकृतिक हवा एवं शेड नेट के चलते पौधे पांच से 50 गुना तक वृद्धि दर्ज कर सकेंगे। इस नर्सरी के माध्यम से क्षेत्र के किसानों को आसानी से पौधे प्राप्त हो पाएंगे और पाटन क्षेत्र में उद्यानिकी फसलों का उत्पादन तेजी से बढ़ेगा। कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री ने नर्सरी का अवलोकन भी किया। हाईटेक नर्सरी की विशेषता है कि यहां पर विदेशी पौधों का रोपण भी हो सकेगा। वन विभाग के अधिकारियों ने मुख्यमंत्री को बताया कि यहां ग्रीन हाउस फैन कूलिंग की सुविधा भी है। इससे विदेशी पौधों की रोपणी में भी मदद मिलेगी।

इन पौधों के आरंभिक रिवाइवल में काफी कठिनाई होती है। नर्सरी के बेहतर वातारण के चलते पौधों को बेहतर प्रतिरोधक क्षमता मिल पाएगी। इसके साथ ही पाली हाउस में बीजों का अंकुरण भी कम समय पर होगा। अधिकारियों ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को बताया कि पाली हाउस में बीजों का अंकुरण कम समय पर हो जाएगा। तापमान और आर्द्रता के नियंत्रण के माध्यम से यह संभव हो पाएगा। इन पौधों पर कीट पतंगों का प्रकोप भी नहीं होगा।

अक्सर कीट पतंगों के चलते पौधों की वृद्धि प्रभावित होती है और आरंभिक स्तर पर कीट पतंगों के नुकसान से पौधों को बचाना कठिन हो जाता है।

ड्रिप के माध्यम से उर्वरकों का प्रयोग भी आसानी से हो पाएगा। मुख्यमंत्री बघेल ने कहा कि हाईटेक नर्सरी के माध्यम से बड़े पैमाने पर पौधे उगाए जा सकेंगे। परिसर में बाउंड्री वाल, फारेस्ट गार्ड क्वार्टर, एडमिन ब्लाक, सपोर्ट बिल्डिंग सिंचाई व्यवस्था का निर्माण भी किया गया है। यहां 50 हजार पौधों की तैयारी आरंभ कर दी गई है।

क्षेत्र में उद्यानिकी फसलों का उत्पादन तेजी से बढ़ेगा

मुख्यमंत्री भुपेश बघेल ने इस अवसर पर यहां काम कर रही स्वसहायता समूह की महिलाओं के साथ फोटो भी खिंचवाई। इस कहा कि पौधरोपण के कार्य को तेजी से बढ़ावा देना है। इस नर्सरी के माध्यम से क्षेत्र के किसानों को आसानी से पौधे प्राप्त हो पाएंगे और पाटन क्षेत्र में उद्यानिकी फसलों का उत्पादन तेजी से बढ़ेगा।

इस दौरान पर्यावरण एवं वन तथा जलवायु परिवर्तन मंत्री मोहम्मद अकबर भी मौजूद थे। उन्होंने कहा कि पाटन क्षेत्र के निवासियों के लिए हाईटेक नर्सरी बेहतरीन सुविधा होगी।

इसके चलते यहां फलोद्यानों के विकास में भी मदद मिलेगी। हाईटेक नर्सरी होने से एग्जॉटिक पौधों के बड़े मार्केट की संभावना भी पाटन क्षेत्र में तैयार होगी। इस दौरान पीसीसीएफ राकेश चतुर्वेदी, सीसीएफ बीपी सिंह, कलेक्टर डा सर्वेश्वर नरेंद्र भुरे, एसपी डा अभिषेक पल्लव वन मंडल अधिकारी शशि कुमार एवं अन्य अधिकारी मौजूद रहे।