सुप्रीम कोर्ट की रोड सेफ्टी टीम शहर पहुंची, सड़कों का कर रहे निरीक्षण

 


बिलासपुर। सुप्रीम कोर्ट की तीन सदस्यीय रोड सेफ्टी आडिट टीम शनिवार को दोपहर 12 बजे शहर पहुंची। टीम के सदस्य पुलिस मेस कार्यालय में यातायात विभाग समेत अन्य विभागों के अधिकारियों के बैठक ले रहे हैं। इसके बाद सड़कों की समीक्षा करने निकलेंगे। टीम के सदस्य दो दिनों तक रहेंगे। जिले के अलग-अलग इलाके में जाकर ब्लैक स्पाट, स्मार्ट सड़क व खतरनाक जगह में पहुंचकर निरीक्षण करेंगे।

सुप्रीम कोर्ट की टीम के तीनों सदस्य जिले की अलग-अलग सड़कों का निरीक्षण करेंगे और जानेंगे कि कितने लोग ट्रैफिक नियमों का पालन करते हैं। साथ ही हेलमेट लगाकर मोटर साइकिल चलाने वालों की संख्या के बारे में भी डाटा तैयार करेंगे। विभागों द्वारा ट्रैफिक जागरूकता के लिए किए गए प्रयास का कितना असर पड़ा है। इसके बारे में भी जानकारी जुटाएंगे। यही नहीं सुप्रीम कोर्ट की टीम मौके पर पहुंचकर ब्लैक स्पाट का आडिट करेगी। 

सड़क हादसों को रोकने नगर निगम, नेशनल हाईवे, पीडब्ल्यूडी, स्वास्थ्य विभाग, आरटीओ और ट्रैफिक पुलिस क्या काम कर रही है। इसकी भी पड़ताल करेंगी। दूसरी ओर सुप्रीम कोर्ट की टीम के आने की सूचना मिलते ही सभी विभाग के अधिकारी अलर्ट हो गए हैं। व्यवस्था को दुस्र्स्त करने में लग गए हैं। जहां सबसे ज्यादा सड़क दुर्घटनाएं होती हैं, वहां संकेतक बोर्ड लगाए दिए गए हैं। वाइट मार्किंग भी की गई है।

इन विभागों के काम के बारे में रिपोर्ट लेंगे

नगर निगम- स्मार्ट सिटी सड़क, चौक-चौराहों पर लगाए गए ट्रैफिक सिग्नल

एनएचएआइ- ब्लैक स्पाट और हादसे को रोकने के लिए किए गए उपाय

पीडब्ल्यूडी- ब्लैक एंड ग्रे स्पाट पर किए गए सुधार कार्य

स्वास्थ्य विभाग- फर्स्ट रिस्पांडर एंबुलेंस के चालक की ट्रेनिंग और ट्रामा सेंटर की व्यवस्था

आरटीओ- लाइसेंस बनाने, वाहनों की चेकिंग, लाइसेंस निरस्त और डेटा बेस

ट्रैफिक- ब्लैक स्पाट और सामान्य रोड पर हुए सड़क हादसों के आंकड़े और इसे रोकने की योजना

कोरबा जिला भी जाएगी टीम

सुप्रीम कोर्ट की रोड सेफ्टी टीम के तीनों सदस्य दो दिनों तक शहर में रहेंगे। यहां से रिपोर्ट तैयार करने के बाद 19 जून को शाम पांच बजे कोरबा जिला रवाना हो जाएंगे। वहां भी सड़क हादसा को रोकने के लिए ट्रैफिक विभाग से लेकर अन्य विभागों के योगदान के बारे में जानकारी लेंगे। अंतिम रिपोर्ट सुप्रीम कोर्ट में जमा करेंगे।

इन्होंने कहा जिले की यातायात व्यवस्था का जायजा लेने के लिए सुप्रीम कोर्ट की तीन सदस्य शहर पहुंच गए हैं। कितने लोग ट्रैफिक नियम का पालन कर रहे हैं। हादासा को रोकने क्या प्रयास किया गया। इसकी समीक्षा करेंगे।