खुशी की बात, बच्चा लगातार एक्टिव मोड में, 58 फीट की गहराई तक वर्टिकल वॉल तैयार, रेस्क्यू टीम लगातार तेज गति से कर रही है काम

  

रायपुर, जांजगीर चांपा।

असल बात न्यूज़।। 

        00  विशेष संवाददाता 

रात  8:30 बजे तक की रिपोर्ट

आम लोगों को, एक तरफ राहुल के स्वास्थ्य की चिंता है।, लोग, बोर के गड्ढे में गिरे इस बच्चे के सकुशल बाहर निकल आने के लिए भगवान से प्रार्थना कर रहे हैं। तो दूसरी तरफ लोगों के मन में यह भी सवाल उठ रहा है कि रेस्क्यू टीम के सदस्य, बोर के गड्ढे में गिरे बच्चे तक आखिर कैसे  पहुंचेंगे। बच्चा गहरे गड्ढे में है, जहां नीचे पानी भी भरा हुआ है तथा दलदल होने की भी आशंका है। ऐसे में जरा सी भी चूक हुई, तो तोड़फोड़ से नुकसान होने की आशंका से इनकार नहीं किया सकता। अत्यंत गहराई में जाकर टनल बनाने का काम किया जा रहा है, चट्टाने काटी जा रही हैं तो वहां मुरूम भी है और चूना वाली मिट्टी भी दिख रही है जो कि कहीं से भी असावधानी होने पर भसक सकती है।इन सब को देखते हुए कई सारे खतरे भी दिख रहे हैं, लेकिन रेस्क्यू टीम बहुत सावधानी के साथ कागजों में भी प्लान तैयार कर बहुत विचार विमर्श के साथ अपने कार्य को आगे बढ़ा रही है। 

पहली बात यह है कि बच्चा राहुल, बोर के गड्ढे में लगभग 60, 65 फीट की गहराई में गिरा है और फंसा हुआ है। तो कुछ दूरी पर, लगभग 30 मीटर की दूरी पर उतनी ही गहराई का गड्ढा किया जा रहा है तथा उस गड्ढे को टनल के माध्यम से बोर से जोड़ने की कोशिश की जाएगी और उस टनल से बच्चे तक पहुंचने का प्रयास किया जाएगा। जो टनल तैयार होगा, उसे सुरक्षित बनाने के लिए उसमें मोटी की लोहे की पाइप डाली जाएगी। इसका व्यास लगभग 8 फीट की ऊंचाई तक हो सकता है और इसकी लंबाई 20 फुट तैयार की गई है।इस तरह से बोर के आसपास खुदाई के लिए बहुत अधिक छेड़छाड़ नहीं की जाएगी। बोर के आसपास खुदाई होने, चट्टानों को तोड़ने, तथा खनन का कार्य करने से बोर में भी मिट्टी भसकने का खतरा बना रहेगा। इसे देखते हुए टनल से बोर तक पहुंचने के लिए बहुत सारी सावधानियां बरती जा रही हैं। अभी तक की जानकारी के अनुसार 58 फीट की गहराई तक वर्टिकल वॉल तैयार कर लिया गया है, जहां से टनल के माध्यम से बच्चे तक पहुंचने की कोशिश की जाएगी।

रेस्कयू स्थल में अभी आवश्यक तैयारी के संबंध में कलेक्टर ने निर्देश दिया है।आसपास के 25 मीटर तक नो गो एरिया  जोन बनाया जाएगा।

ऑपरेशन के लिए केवल अधिकृत लोग ही आसपास रहेंगे।

नीचे काम शुरु होते ही पाइप को उतारा जाएगा ।टनल के लिए लगभग 20 फीट लम्बी पाइप तैयार है।

 तो भी हो सकता है लगभग 60 फिट नीचे बड़ा जेसीबी उतर कर सुरंग वाले जगह के आसपास मिट्टी काटने के लिए चिन्हाकन कर रहा है।

इधर ऑक्सीजन, विद्युत व्यवस्था, लाइटिंग, कम्प्रेशर मशीन, एक्सपर्ट , मेडिकल स्टाफ के साथ सभी व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। रेस्क्यू के लिए जाने से पूर्व पेपर में भी प्लान किया गया।

बच्चा राहुल 48 घंटे से भी अधिक समय से बोर के गड्ढे में फंसा हुआ है जहां की दलदल है, पानी भरा हुआ है तो उसे किस तरह की परेशानियां हो रही होगी, इसे समझा जा सकता है, और यह भी समझा जा सकता है कि उसे  स्वास्थ्य सुविधाओं और चिकित्सकों की अभी कितनी अधिक जरूरत है। इन परिस्थितियों को समझते हुए यहां स्वास्थ्य के अमला पूरी तरह से मुस्तैद रखा गया है...।

CMHO, सिविल सर्जन, बीएमओ सहित चिकित्सक और स्टाफ़नर्स आपातकालीन चिकित्सा व्यवस्था के लिए तैयार है।

एम्बुलेंस की व्यवस्था है।

एम्बुलेंस में स्टाफ़नर्स रेस्क्यू के साथ किसी भी स्थिति में उपचार की आवश्यकता पूरी करने के लिए अपनी तैयारी कर रही है हालांकि ये टीम घटना दिनांक से ही तैयारी के साथ आई है। 






असल बात न्यूज़

सबसे तेज, सबसे विश्वसनीय  

आप सभी असल बात न्यूज़ के साथ बने रहिए। हम अपने सहयोगी के साथ वहां की प्रत्येक गतिविधियों से आपको लगातार अपडेट करते रहेंगे। 

 पल-पल की खबरों के साथ अपने आसपास की खबरों के लिए हम से जुड़े रहे , यहां एक क्लिक से हमसे जुड़ सकते हैं आप

https://chat.whatsapp.com/KeDmh31JN8oExuONg4QT8E

...............

................................

...............................

असल बात न्यूज़

खबरों की तह तक, सबसे सटीक , सबसे विश्वसनीय

सबसे तेज खबर, सबसे पहले आप तक

मानवीय मूल्यों के लिए समर्पित पत्रकारिता