नर्सिंग की परीक्षा में स्वच्छ भारत अभियान पर सवाल, बिलासपुर में 63.47 फीसद उपस्थिति

 


बिलासपुर.  छत्तीसगढ़ व्यावसायिक परीक्षा मंडल बोर्ड (व्यापम) द्वारा रविवार को बीएससी नर्सिंग में प्रवेश के लिए परीक्षा हुई। इसमें प्रश्न क्रमांक चार में पूछा कि स्वच्छ भारत अभियान की शुरुआत कब से हुई। चार विकल्प दिए गए थे, जिसका जवाब देने कई परीक्षार्थियों के पसीने छूट गए। परीक्षा में 63.47 प्रतिशत उपस्थिति दर्ज की गई।

परीक्षा दोपहर दो बजे से शाम 4.15 बजे तक हुई। शहर के 38 परीक्षा केंद्रों में 11,982 परीक्षार्थी पंजीकृत थे। उनमें से 7,607 उपस्थित व 4,378 अनुपस्थित थे। कौशलेंद्र राव विधि महाविद्यालय, सीएम दुबे स्नातकोत्तर महाविद्यालय, एसबीटी महाविद्यालय व डीपी विप्र पीजी महाविद्यालय परीक्षा केंद्र से पर्चा हल कर निकले परीक्षार्थियों ने बताया कि बीएससी नर्सिंग की परीक्षा कठिन थी।

सवालों को हल करना आसान नहीं था। स्वच्छता को लेकर पूछे गए प्रश्न में वर्ष के साथ तारीख भी बतानी थी। इसलिए थोड़ा मुश्किल हुई। छात्रा प्रगति सरकार ने कहा कि नर्सिंग अभिक्षमता के अंतर्गत आंख, रीढ़ की हड्डी, शरीर के प्रमुख अंग, कोरोना वायरस, परिवार कल्याण व जननी सुरक्षा को लेकर प्रश्न थे। गणित विषय से संबंधित अधिकतर प्रश्न आए।

उन्हें हल करना भी मुश्किल लगा । बारिश के कारण सुबह बिजली की आंख-मिचौली जारी रही। इसके कारण कई केंद्रों में बिजली बंद होने से थोड़ी देर के लिए परीक्षार्थियों को दिक्कत महसूस हुई । हालांकि किसी भी परीक्षार्थी ने इसकी शिकायत दर्ज नहीं कराई।

प्री बीए-बीएससी बीएड में 35 फीसद उपस्थिति

व्यापम की ओर से सुबह पहली पाली में प्री बीए बीएड, प्री बीएससी बीएड की परीक्षा आयोजित की गई। परीक्षा केंद्रों में चप्पे-चप्पे पर सुरक्षा थी । कोरोना संक्रमण को देखते हुए सभी परीक्षार्थियों के लिए मास्क अनिवार्य किया गया था। 17 केंद्रों में 5,586 अभ्यर्थी पंजीकृत थे। उनमें 1,924 उपस्थित व 3,662 परीक्षार्थी अनुपस्थित रहे। किसी भी परीक्षा केंद्र में नकल का प्रकरण दर्ज नहीं किया गया। परीक्षा शांतिपूर्ण माहौल में संपन्न हुई।