अत्याधुनिक नर्सरी में अल्प समय में 50 गुना तक बढ़ेंगे पौधे

 


पाटन। सिकोला में बनी हाइटेक नर्सरी का लोकार्पण मुख्यमंत्री भूपेश बघेल सोमवार को करेंगे। हाइटेक नर्सरी की दो विशेषताएं हैं।

इसके नैचुरली वेंटिलेशन के चलते पौधे बहुत कम समय में पांच गुना से पचास गुना तक वृद्धि दर्ज कर पाएंगे। इसके साथ ही एक्जाटिक पौधों के आरंभिक सरवाइवल की कठिनाई से भी इस हाइटेक नर्सरी में बचाव होगा। यहां के सुरक्षित वातावरण में एक्जाटिक पौधों को प्रतिरोधक क्षमता मिल पाएगी।

हाइटेक नर्सरी को तीन करोड़ आठ लाख रुपये की लागत से इसे तैयार किया गया है। यहां पर 94 लाख रुपये की लागत से नैचुरली वेंटिलेटेड शेड नेट हाउस और ग्रीन हाउस फैन कूलिंग सिस्टम के साथ तैयार किया गया है। पाली हाउस में बीजों का अंकुरण कम समय पर होगा।

इसमें तापमान और आर्द्रता के नियंत्रण के माध्यम से यह हो सकेगा। बाहरी जलवायु का प्रभाव न पड़ने की वजह से यहां कीट पतंगों का प्रकोप नहीं होगा। ऊर्वरक का प्रयोग भी ड्रिप के माध्यम से आसानी से हो सकेगा। यहां पर फलदार पौधों को भी उत्पादन हो सकेगा।

डीएफओ शशिकुमार ने बताया कि हाइटेक नर्सरी के माध्यम से बड़े पैमाने पर पौधे उगाए जा सकेंगें। इससे पौधरोपण के कार्य को बढ़ावा मिलेगा और तेजी से हरियाली का प्रसार करने की दिशा में कार्य किया जा सकेगा। उल्लेखनीय है कि कलेक्टर डा.सर्वेश्वर नरेंद्र भुरे ने भी शनिवार को सिकोला में स्थित इस हाइटेक नर्सरी का अवलोकन किया था।

- अन्य सुविधाएं होगी निहित

उल्लेखनीय है कि परिसर में बाउंड्रीवाल, फारेस्टगार्ड क्वाटर, एडमिन ब्लाक, स्टोर बिल्डिंग, सिंचाई व्यवस्था, सड़क, शौचालय आदि का निर्माण किया गया है। इसके अतिरिक्त रोपणी में मनरेगा मद से वर्ष 2022-23 में 8.32 लाख की लागत से 50 हजार नग पौधा तैयारी का कार्य प्रारंभ किया गया है।

उपरोक्त कार्यों के फलस्वरूप नर्सरी की क्षमता में वृद्धि होगी। साथ ही साथ आम जनता को मनरेगा एवं अन्य योजनाओं अंतर्गत रोजगार प्राप्त होगा।

- मातृछाया पथ का भी अवलोकन करेंगे मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री सिकोला में मातृछाया पथ का भी अवलोकन करेंगे। यहां मुख्यमंत्री ने दो वर्ष पूर्व कृष्ण कली का पौधा लगा हाइटेक नर्सरी का लोकार्पण करेंगे।