Health,अनियमित दिनचर्या और खान-पान की आदतों से मधुमेह का खतरा

 

देश के दूसरे राज्यों की तुलना में छत्तीसगढ़ में अधिक बढ़ते जा रहे हैं शुगर और ब्लड प्रेशर के मरीज

छत्तीसगढ़।

असल बात न्यूज़।। 

पिछले दिनों परीक्षण में जो आंकड़े सामने आए हैं उस से पता चला है कि देश के राज्यों की तुलना में छत्तीसगढ़ राज्य में लोग मधुमेह और ब्लड प्रेशर से अधिक संक्रमित हो रहे हैं। उच्च आय वर्ग के लोग इस बीमारी से पीड़ित हो रहे हैं तो वहीं कमजोर आय वर्ग के लोगों के पीड़ित होने की संख्या भी कम नहीं है। आप किसी भी अस्पताल में पहुंच जाइए,वहां इन्हीं बीमारी से पीड़ित मरीजों की काफी अधिक संख्या में मिल जाएंगे। और तो और यहां जो मृत्यु हो रही है सबसे अधिक इन्ही बीमारियां की वजह से हो रही है। यह यहां के लोगों के  खानपान के आदत की वजह से हो रहा है अथवा लोगों की अस्त व्यस्त दिनचर्या की वजह से अथवा अन्य कोई कारण है इस पर स्वास्थ्य विशेषज्ञों की अलग-अलग राय है। यह देखने में आया है कि शुगर की बीमारी लोगों को धीरे-धीरे सुख आती आती है और अंत में मौत के मुंह में धकेल देती है। दूसरी तरफ यह भी वास्तविकता है कि कोरोना संकट के दौरान ब्लड प्रेशर पीड़ित मरीजों की अधिक जानें गई हैं। ऐसे में छत्तीसगढ़ में इन बीमारियों को काफी गंभीरता से लेने की जरूरत है। हम विकास की बड़ी-बड़ी बातें करते हैं लेकिन इन बीमारियों से पीड़ित मरीजों को कहीं भी सही उपचार नहीं मिल रहा है कि उनको इस बीमारी से पूर्णता मुक्ति मिल सके। चिकित्सकों के द्वारा यही बता दिया जाता है यह बीमारियां जिंदगी भर ठीक नहीं होगी। दवाइयों से इसे सिर्फ नियंत्रित किया जा सकता है। मरीज जब इस तरह का आश्वासन सुनता है तो उसे महसूस होता है कि विकास की सारी बातें सिर्फ ढकोसला है।

आजकल की भाग-दौड़ भरी जिंदगी में खुद की सेहत का ख्याल रखना चुनौतीपूर्ण हो गया है। आधुनिक जीवन-शैली, अनियमित दिनचर्या और खान-पान की खराब आदतों के कारण कम उम्र में ही कई तरह की बीमारियां घेर रही हैं। डायबिटीज यानि मधुमेह भी तेजी से बढ़ रही इसी तरह की बीमारी है। यह न केवल उम्रदराजों को, बल्कि युवाओं को भी अपनी गिरफ्त में ले रही है। संयमित खान-पान और स्वस्थ जीवन-शैली अपनाकर इससे बचा जा सकता है।

राज्य शासन के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग में गैर-संचारी रोग के नोडल अधिकारी डॉ. महेंद्र सिंह ने बताया कि मधुमेह या डायबिटीज हमें तब होता है जब हमारे शरीर के हार्मोन इंसुलिन या कहें तो रक्त शर्करा या ग्लूकोज की मात्रा हमारे शरीर के साथ सही तालमेल नहीं बिठा पाती है। ज्यादातर खराब जीवन-शैली के कारण यह होता है। मधुमेह दो प्रकार का होता है। टाइप-1 डायबिटीज बच्चों में पाया जाता है। इसमें शरीर में इंसुलिन की सेंसिटिविटी (Sensitivity) खत्म हो जाती है जिससे शरीर का मेटाबॉलिक सिस्टम खराब हो जाता है और शुगर का लेवल बढ़ने लगता है।

डॉ. सिंह ने बताया कि टाइप-2 डायबिटीज अधिकांशतः 40 वर्ष या इससे अधिक आयु के लोगों में होता है। इसमें शरीर को जितनी इंसुलिन की आवश्यकता होती है, इंसुलिन की उतनी मात्रा शरीर को नहीं मिल पाती है। गर्भावस्था के दौरान भी मधुमेह हो जाता है जो कि एक सीमित समय के लिए होता है और समय के साथ वह ठीक भी हो जाता है। परिवार में माता-पिता या भाई-बहन में किसी को मधुमेह है तो अन्य रक्त संबंधियों के भी इससे पीड़ित होने की आशंका होती है। 

मधुमेह के लक्षण

ज्यादा प्यास लगनाज्यादा भूख लगनावजन का असामान्य रूप से ज्यादा या कम होनाथकान या कमजोरी महसूस होनाचक्कर आनाचिड़चिड़ापननींद न आनाआंखों की रोशनी का कमजोर होना या धुंधला दिखनाहाथ-पैरों में झनझनाहट या सुन्नपनबार-बार पेशाब होना या पेशाब का संक्रमण होनाचोट या घाव का देर से भरना या ठीक न होना मधुमेह के सामान्य लक्षण हैं। इस तरह के लक्षण दिखाई देने या महसूस होने पर अपने निकटतम शासकीय स्वास्थ्य केंद्र जाकर मधुमेह की निःशुल्क जांच अवश्य कराएं।

मधुमेह से बचाव

मधुमेह से बचाव के लिए नियमित व्यायाम या योग जरुर करना चाहिए। समय पर संतुलित भोजन मधुमेह से बचाव के लिए बहुत आवश्यक है। अधिक घी-तेल वाले भोजन का सेवन करने से भी मधुमेह का खतरा बढ़ता है। भोजन में अनाजदालेंहरी-पत्तेदार सब्जियांमौसमी सब्जीताज़े मौसमी फलदूध व दही से बनी चीजों का सही मात्रा में सेवन करना चाहिए। रेशेदार भोजन भी पर्याप्त मात्रा में लेना चाहिए। रोजाना 10-12 गिलास पानी जरुर पिएं। अपने भोजन में अंकुरित अनाज को शामिल करें। शराब से परहेज करें।

  • पिछले दिनों केंद्र सरकार के द्वारा देश भर में राज्य सरकारों के सहयोग से स्वास्थ्य शिविर लगाए गए। इस दौरान पूरे देश में कुल मिलाकर 6.75 लाख उच्च रक्तचाप की जांच, 6.11 लाख मधुमेह की जांच, 2.05 लाख मोतियाबिंद की जांच की गई। इसमें छत्तीसगढ़ राज्य में सबसे अधिक मरीज पाए गए।


 असल बात न्यूज़

सबसे तेज, सबसे विश्वसनीय 

अपने आसपास की खबरों के लिए हम से जुड़े रहे , यहां एक क्लिक से हमसे जुड़ सकते हैं आप

https://chat.whatsapp.com/KeDmh31JN8oExuONg4QT8E

...............

................................

...............................

असल बात न्यूज़

खबरों की तह तक, सबसे सटीक , सबसे विश्वसनीय

सबसे तेज खबर, सबसे पहले आप तक

मानवीय मूल्यों के लिए समर्पित पत्रकारिता