दौरे पर कलेक्टर, एसपी मिलने नहीं पहुंचे तो वरिष्ठ मंत्री टीएस बाबा ने कहा कोई मिलने नहीं आएगा, तो मैं छोटा नहीं हो जाऊंगा

 रायपुर,जगदलपुर।

असल बात न्यूज़।। 

राज्य के स्वास्थ्य परिवार कल्याण तथा पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री टीएस बाबा भी इस  समय राज्य भर के दौरे पर निकल गए हैं।अभी वे बस्तर संभाग के दौरे पर हैं और वहां जगह-जगह विभागीय कामकाज की समीक्षा कर रहे हैं तथा कार्यकर्ताओं की बैठक कर ले रहे हैं। तमाम विवादित मुद्दों पर भी अपनी बात कहने के दौरान हमेशा 'कूल ' रहने वाले टीएस बाबा ने आज पत्रकारों से चर्चा के दौरान बड़ी बात कही है। उन्होंने कहा कि वे दौरे पर हैं। इस दौरान जिले के कलेक्टर तथा एसपी शिष्टाचार के नाते भी उनसे मिलने नहीं पहुंचे। उन्होंने कहा कि कोई मिलने नहीं आएगा तो वह छोटे नहीं हो जाएंगे। जय और वीरू की जोड़ी सलामत है के जैसा सवाल पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि हम लोग साथ मिलकर काम कर रहे हैं

वरिष्ठ मंत्री टीएस बाबा के दौरे की अभी पूरे प्रदेश भर में चर्चा  है। उनके इस दौरे कार्यक्रम पर राजनीतिक विश्लेषकों की भी नजर लगी हुई है। महत्वपूर्ण बात यह है कि अभी प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल अपने भेंट मुलाकात कार्यक्रम के लिए पूरे 90 विधानसभा क्षेत्र के दौरे पर निकल रहे हैं और गांव गांव शहर शहर शहर पहुंचकर लोगों से मुलाकात कर चर्चा कर रहे हैं। ऐसे ही समय में वरिष्ठ मंत्री श्री सिंह देव का भी प्रदेश में भी दौरा शुरू हुआ है जो कि चर्चा में है। उन्होंने अपने दौरे की शुरुआत  बस्तर संभाग से की है। ढाई ढाई साल का मुद्दा उनके साथ अभी भी जुड़ा हुआ है और जब उन्होंने जगदलपुर में पत्रकारों से बातचीत की तो स्वाभाविक तौर पर इस पर भी सवाल पूछे गए। 

उनके दौरे में प्रशासनिक अधिकारियों के द्वारा दूरी बनाए रखे जाने के सवाल पर उन्होंने कहा कि प्रशासनिक अधिकारी तो नहीं कलेक्टर और एसपी उनसे मिलने नहीं पहुंचे। दंतेवाड़ा में भी नहीं और कांकेर में भी नहीं। उन्होंने कहा कि यह थोड़ा सा नया लगा। एक सामान्य सी बात है कि शिष्टाचार रखना चाहिए। उन्होंने कहा कि यहां कलेक्टर, एसपी कि कहीं भी शिष्टाचार के नाते भी उपस्थिति नहीं हुई। मेरे से उम्र में भी छोटे हैं एक समान शिष्टाचार की बात है कि प्रोटोकॉल में कोई बढ़ा आया है उपस्थिति होनी चाहिए। सामान्य शिष्टाचार है कि आपको आकर मिलना चाहिए। उन्होंने कहा कि कोई मेरे से मिलने नहीं आएगा, तो नहीं लगता कि मैं छोटा हो जाऊंगा और मिलने आएगा तुम तो वे छोटे हो जाएंगे, ऐसा भी नहीं रखता। समाज में व्यवस्था का जो शिष्टाचार है उसका पालन जरूर करना चाहिए।