स्वामी विवेकानंद तकनीकी विश्वविद्यालय में शिक्षकीय और गैर शिक्षकीय पदों पर होगी बड़ी भर्ती, मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने की है बड़ी घोषणा

 दुर्ग,भिलाई ।

असल बात न्यूज़।। 

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने छत्तीसगढ़ स्वामी तकनीकी विश्वविद्यालय में शिक्षकीय और गैर शिक्षकीय पदों पर बड़ी भर्ती की घोषणा की है। इन पदों पर भर्तियों के लिए शीघ्र प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी। विश्वविद्यालय के कुलपति श्री वर्मा ने यहां शिक्षकीय तथा गैर शिक्षकीय पदों पर समुचित भर्ती नहीं हो जाने के कारण विश्वविद्यालय को जिन दिक्कतो का सामना करना पड़ा है उसकी ओर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का ध्यान आकर्षित कराया था जिसके बाद मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने उक्त घोषणा की है। 

यहां अपने उद्बोधन में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि छत्तीसगढ़ प्रत्येक क्षेत्र में प्रगति की ओर लगातार आगे बढ़ रहा है। हमें तकनीकी शिक्षा के क्षेत्र में भी नई ऊंचाइयों को हासिल करना है। आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, रोबोटिक्स, मशीन लर्निंग जैसी नई समय की तकनीकों में छात्रों का अपग्रेडेशन स्वागत योग्य है। दुनिया तेजी से बदल रही है और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस आदि के माध्यम से तकनीकी विकास अनेक क्षेत्रों में हो रहा है। इन विधाओं में बड़े पैमाने पर तकनीकी विशेषज्ञों की जरूरत है। ऐसे में छत्तीसगढ़ स्वामी विवेकानंद तकनीकी विश्वविद्यालय द्वारा इन विधाओं में छात्रों को अपग्रेड करने की कोशिश स्वागत योग्य है। यूएवी जैसे प्रयोग जो यूनिवर्सिटी कर रही है उससे प्रदेश को काफी लाभ होगा।  । मुख्यमंत्री ने इस मौके पर 100 सीटर छात्रावास का भूमि पूजन तथा 12 करोड़ की लागत से बने विश्वेश्वरैया भवन का लोकार्पण भी किया। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने अपने संबोधन में कहा कि न्यूक्लियसटेक कंपनी के माध्यम से अगले 5 सालों में 1000 लोगों को इंजीनियरिंग के क्षेत्र में रोजगार मिल सकेगा। इसके अलावा 50 लाख रुपए की लागत से बने लैब के माध्यम से आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, रोबोटिक्स और मशीन लर्निंग जैसी विधाओं में लोगों को प्रशिक्षण भी दिया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि तकनीकी विशेषज्ञता के माध्यम से ग्रामीण विकास तेजी से होता है। विश्वविद्यालय अपने क्षेत्र के आस-पास के गांव में तकनीकी विशेषज्ञता के माध्यम से ग्रामीणों को सुविधाएं प्रदान करें ताकि उनकी दिनचर्या और सहज हो सके। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमने सीएसवीटीयू के कुलपति का कार्यकाल भी एक साल बढ़ाया है।  साथ ही उन्होंने यूएवी के माध्यम से डीजीपीएस सर्वे के लिए विवि को एजेंसी बनाने की घोषणा भी की।

इस मौके पर गृह मंत्री श्री ताम्रध्वज साहू ने कहा कि विश्वविद्यालय द्वारा जो अभिनव प्रयोग किये गए हैं। वे प्रदेश के तकनीकी विकास में सहयोगी होंगे। इस मौके पर उच्च शिक्षा मंत्री श्री उमेश पटेल ने कहा कि मुख्यमंत्री के मार्गदर्शन में उच्च शिक्षा का वातावरण तेजी से बेहतर हो रहा है। इस मौके पर विश्विद्यालय के कुलपति श्री एमके वर्मा ने कहा कि यूएवी के माध्यम से प्रदेश में नरवा आदि योजनाओं के क्रियान्वयन में काफी सहयोग मिलेगा। इस मौके पर मुख्यमंत्री ने स्मार्ट क्लास में छात्रों से संवाद भी किया। इस मौके पर मुख्यमंत्री ने पूर्व कुलपतियों को सम्मानित भी किया। कार्यक्रम में बालोद विधायक श्रीमती संगीता सिन्हा, रिसाली महापौर श्रीमती शशि सिन्हा सहित अन्य जनप्रतिनिधि एवं अधिकारी उपस्थित थे।


 उन्होंने इस विश्वविद्यालय में 100 सीट वाले गर्ल्स हॉस्टल के निर्माण की भी घोषणा की है। इसके पहले यहां की कुलपति श्री वर्मा ने अपने स्वागत भाषण में बताया कि विश्वविद्यालय के द्वारा संचालित विभिन्न कोर्सेस को एआईसीटीई और यूजीसी की मान्यता की जरूरत है। विश्व विद्यालय में नियमित शिक्षक नहीं होने से इसकी मान्यता के समक्ष संकट है। इसके लिए उन्होंने यहां 50 रेगुलर शिक्षकों की भर्ती करने का आग्रह किया।



असल बात न्यूज़

सबसे तेज, सबसे विश्वसनीय 

अपने आसपास की खबरों के लिए हम से जुड़े रहे , यहां एक क्लिक से हमसे जुड़ सकते हैं आप

https://chat.whatsapp.com/KeDmh31JN8oExuONg4QT8E

...............

................................

...............................

असल बात न्यूज़

खबरों की तह तक, सबसे सटीक , सबसे विश्वसनीय

सबसे तेज खबर, सबसे पहले आप तक

मानवीय मूल्यों के लिए समर्पित पत्रकारिता