सावधान,अब बाबा रामदेव के नाम पर भी होने लगी है ठगी, इलाज और आलीशान रूम दिलाने के नाम पर ठगी

 

00  योग गुरु बाबा रामदेव के नाम पर कई फर्जी वेबसाइट संचालित होने की जानकारी आई सामने

00  योग तथा स्वास्थ्य शिविर और ठहरने के नाम पर फर्जी संस्थाओं के द्वारा  लोगों को  ऑनलाइन लूटने की आई शिकायतें, लाखों, करोड़ों की ठगी

नई दिल्ली, छत्तीसगढ़।

असल बात न्यूज़।। 

                   00  विशेष रिपोर्ट

'साइबर क्राइम', 'ऑनलाइन ठगी'' के रोज नए नए, तरीके सामने आ रहे हैं। इस अपराध में अंतरराष्ट्रीय गिरोह के सक्रिय होने की आशंका जाहिर की जा रही है। इस तरह के अपराध से भोले भाले नागरिकों को लाखों रुपए का नुकसान पहुंचाया जा रहा है। विडंबना है कि शिकायतों के बावजूद पुलिस इन अपराधियों तक नहीं पहुंच पा रहे हैं जिससे उनके हौसले बुलंद होते जा रहे हैं। ऐसे किसी अपराधी को पकड़ भी लिया जाता है तो दूसरे दिन उसके बाद दूसरा वैसा ही अपराधी खड़ा हो जाता है और लोगों को वैसे ही online ठगने, नुकसान पहुंचाने का काम शुरू कर देता है। अभी जानकारी सामने आई है कि बाबा रामदेव के नाम पर भी ठगी  शुरू हो गई है। ऐसे साइबर अपराधियों ने बाबा रामदेव के नाम पर भी ठगी करने का काम शुरू कर दिया है। इन ठगा अपराधियों को अभी तक कही नहीं पकड़ा जा सका है। 

'बाबा रामदेव' देश में प्रतिष्ठित नाम है।  देश ही नहीं विदेशी सभी असंख्य लोगों के साथ जुड़े हुए हैं। प्रत्येक वर्ष, लाखों लोग बाबा रामदेव के आश्रम में योग सीखने अथवा अपने स्वास्थ्य के लाभ के लिए पहुंचते हैं। और बड़ी संख्या में लोग आश्रम में जाने के लिए प्रतीक्षा रहते रहते हैं। आम लोगों को ऐसे प्रतिष्ठित योग गुरु के प्रति विश्वास होता है और वह सब उनके नाम से संचालित वेबसाइट फेसबुक तथा दूसरे अन्य सोशल मीडिया पर प्रसारित विज्ञापनों पर आसानी से भरोसा कर लेते हैं। अब जानकारी सामने आ रही है कि तमाम सालों ने भी उनके नाम पर वेबसाइट तैयार कर लिया है और फेसबुक चला रहे हैं। यह सब बिल्कुल बाबा रामदेव के वास्तविक वेबसाइट और फेसबुक पर जैसा ही है। इसमें योग स्वास्थ्य स्वस्थ जीवन तथा दैनिक दिनचर्या की चीजों के बारे में जानकारियां उपलब्ध कराई गई है। मतलब बाबा रामदेव के नाम पर दूसरी तमाम ऐसी वेबसाइट चल रहे हैं जिन्हें आप संहिता सरलता से पहचाने सकते कि वह असली है अथवा नकली। वास्तव में fraud लोगों के द्वारा जन सामान्य को धोखा देने, था देने के उद्देश्य ही ऐसी हो वह वेबसाइट तैयार की गई है। 

जानिए कैसे लूटा जा रहा है साइबर अपराधों के द्वारा

ऐसी, एक हुबहू वेबसाइट अभी सामने आई है जिसके द्वारा जन सामान्य को ठगने का काम अभी भी चल रहा है। यह वेबसाइट  PATANJALI YOGGRAM TRUST के नाम पर चल रही है। इस वेबसाइट के द्वारा जिस तरह की जानकारियां उपलब्ध कराई गई है उससे कहीं भी ऐसा एहसास नहीं होता कि यह बाबा रामदेव से नहीं जुड़ी हुई है। वेबसाइट में इस संस्था का पता नेशनल हाईवे 58 बहादराबाद महर्षी हरिद्वार उत्तराखंड दिया गया है।वेबसाइट में इस संस्था के द्वारा निराययम वेदलाइफ सत्य, निष्ठा, स्वास्थ्य, प्रसन्नता, पवित्र जीवन के लिए संपूर्ण विश्व में काम करने का दावा किया गया है। केंद्र में सुबह 4:00 बजे से 4:15 तक चिकित्सकों से परामर्श , उसके बाद षटकर्म क्रिया, प्रार्थना, योग, ध्यान, योगासन प्राणायाम तथा स्वास्थ्य जागरूकता व्याख्यान आदि के कार्यक्रमों के आयोजन के बारे में जानकारी दी गई है। वेबसाइट के स्टेटस में बाबा रामदेव का योगासन करने के मुद्दे वाली तस्वीर अपलोड की गई है जिससे उसके असली होने विश्वास नहीं होने का विश्वास और बढ़ जाता है। इलाज के दौरान केंद्र में ठहरने के लिए आकर्षक पैकेज दिया गया है। जिसके लिए अच्छी खासी रकम वसूल की जाती है। यहां स्वास्थ्य साधकों को लगभग 1 सप्ताह अथवा उससे अधिक दिन तक रुकना पड़ता है। वेबसाइट में आकर्षण पैकेज देते हुए  बताया गया है कि यहां ठहरने के लिए राज्यश्री कॉटेज ₹7000 मुनि राज कॉटेज ₹6500 महर्षि कॉटेज ₹5000 तपस्वी कॉटेज शेयर ₹500 तथा टेंट कॉटेज ₹4000 में घर के लिए उपलब्ध है। स्वाभाविक तौर पर वेबसाइट में जिस तरह से आकर्षक जानकारियां दी गई हैं वहां जाने के लिए स्वास्थ्य साधक इनमें से कोई ना कोई कॉटेज बुक कराते हैं। यहीं से शुरू होता है लूट,ठगने का खेल। केंद्र के द्वारा यह राशि ऑनलाइन  एडवांस जमा कराने को कहा जाता है। जो इस फर्जी वेबसाइट के झांसे में आ जाता है उस पर विश्वास कर लेता है उस स्वास्थ्य सभा के पास केंद्र से एक डॉक्टर के नाम पर फोन आता है। वह बताता है कि मैं डॉक्टर बोल रहा हूं और वहां उपलब्ध शुभा के बारे में जानकारी देता है तथा ठहरने की राशि एडवांस जमा करने को कहता है। स्वास्थ्य साधक यह राशि जमा करा देते हैं। इस में ठहरने के अलावा डॉक्टर के परामर्श फीस की राशि अलग से वसूल की जाती है। यहां सब राशि उनके द्वारा दिए गए अकाउंट में जमा करा  देने के बाद स्वास्थ्य साधक  फिर उससे उसी नंबर बात करना चाहते हैं,कॉल करते हैं, तो वह नंबर बंद मिलता है तब हताश स्वास्थ साधकों को समझ में आता है कि वे ठगी के शिकार हो चुके हैं। इसके बाद उन्हें समझ नहीं आता कि इन ठगों को कैसे सबक सिखाया जाए ? तथा उनकी  समस्या का निराकरण कैसे हो सकता है। 

बेखौफ होकर देते हैं एसबीआई का अकाउंट नंबर 

जो जानकारी सामने आई है उसके अनुसार इस वेबसाइट के केंद्र पर संपर्क करने पर बात करने वाले डॉक्टर के द्वारा बेखौफ होकर स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया का अकाउंट नंबर दिया जाता है। स्टेट बैंक ऑफ इंडिया का अकाउंट नंबर होने की वजह से स्वास्थ्य साधकों का विश्वास और बढ़ जाता है कि उनके साथ कोई धोखा नहीं हो रहा है। पिछले दिनों एक स्वास्थ्य साधक को केंद्र में ठहरने के लिए एडवांस राशि ₹35000 जमा करने अकाउंट नंबर 38765515942 दिया गया इस अकाउंट नंबर को हरिद्वार उत्तराखंड का बताते हुए उसका आईएफएससी sbin0012228 तथा ब्रांच कोड 012228 दिया गया। स्वास्थ्य साधक के द्वारा वहां की सुविधा के लिए मांगी गई राशि ₹35 हजार अकाउंट में जमा करा दी गई। इसके बाद केंद्र के व्यक्ति से जब पैसा जमा हो जाने के बारे में कंफर्म किया गया तो उसके द्वारा विभिन्न मेडिकल परीक्षण के लिए ₹25 हजार और जमा करने की मांग की गई। तथा बताएगा कि यह राशि इलाज पूर्ण जाने पर वापस कर दी जाएगी। स्वास्थ्य साधक के द्वारा वह राशि भी जमा करा दी गई। इस दौरान लगभग 1 सप्ताह तक पीड़ित की केंद्र के उस व्यक्ति से बातचीत होती रही। उसके द्वारा वहां जाने का समय नजदीक आने पर उस नंबर पर कॉल किया जाने लगा तो यह नंबर बंद बताने लगा।लगातार नंबर बंद बताए जाने पर स्वास्थ्य साधक को गड़बड़ी होने की आशंका हुई। मामले में ऑनलाइन शिकायत कर दी गई है लेकिन स्वास्थ्य साधकों के साथ ऐसी ऑनलाइन धोखाधड़ी बाबा रामदेव के योग शिविर के नाम पर भी करने की जाने लगी है। जब बाबा रामदेव के जैसे देशभर में प्रतिष्ठित और विश्वसनीय  लोगों के नाम पर ऐसी ठगी की जाने लगेगी, तो प्रतिदिन कितने हजार लोग ठगे जा सकते हैं इसका अनुमान लगाया जा सकता है। एक पीड़ित का जा मामला सामने आया है ऐसे और लाखे पीड़ितों के होने की आशंका है। पीड़ित सामने आ रहे हैं लेकिन उक्त वेबसाइट अभी बकाया चल रही है। ऐसी जानकारी सामने आ रही है कि जिस कांटेक्ट नंबर से एक बार धोखाधड़ी की जाती है वहां नंबर दो-तीन दिन बाद बंद कर दिया जाता है। लेकिन उस वेबसाइट पर उसके बाद दूसरे कांटेक्ट नंबर अपलोड कर दिया जाता है, और इन कांटेक्ट नंबर से लोगों को ठगने का सिलसिला अभी भी वैसे ही बेखौफ चल रहा है। 

बड़े गिरोह के लिप्त होने की आशंका 

योग गुरु बाबा रामदेव की संस्था के जैसे हूबहू नाम पर वेबसाइट चलाकर लोगों से देखो और शातिराना तरीके से ठगी करने का काम कोई एक व्यक्ति कर रहा होगा, ऐसा किसी को भरोसा नहीं हो रहा है। ऐसी आशंका जाहिर की जा रही है कि इसमें अंतरराष्ट्रीय गिरोह के लोग शामिल और सक्रिय हो सकते हैं। इस वेबसाइट से ठगी करने की शिकायतें पुलिस थाने तक लगातार की जा रही हैं, हो सकता है कि इसमें अपराधियों को जल्द से जल्द पर्दाफाश हो सकेगा। फिलहाल, इन शातिर अपराधियों के हौसले ऐसे बुलंद दिख रहे हैं कि ये रोज नंबर बदल बदल कर लोगों को ठगी का शिकार बना रहे हैं। एक ही पीड़ित को, कई कई बार ठगी का शिकार बनाने की कोशिश की जा रही है।

असल बात न्यूज़

सबसे तेज, सबसे विश्वसनीय  

................

आप सभी से विनम्र आग्रह है कि ऐसी फर्जी संस्थाओं से कोई भी लूट का शिकार हुआ हो, उसकी जानकारी आपके पास हो तो वह हमें उपलब्ध करा सकते हैं। हम ऐसी सही घटनाओं की खबरों को प्राथमिकता पूर्वक प्रकाशित करने की कोशिश करेंगे। ताकि लोग ठगी का शिकार होने से बच सके और सुरक्षित रहें।

....................











असल बात न्यूज़

सबसे तेज, सबसे विश्वसनीय 

अपने आसपास की खबरों के लिए हम से जुड़े रहे , यहां एक क्लिक से हमसे जुड़ सकते हैं आप

https://chat.whatsapp.com/KeDmh31JN8oExuONg4QT8E

...............

................................

...............................

असल बात न्यूज़

खबरों की तह तक, सबसे सटीक , सबसे विश्वसनीय

सबसे तेज खबर, सबसे पहले आप तक

मानवीय मूल्यों के लिए समर्पित पत्रकारिता