रुपये के लेन-देन से ऐसा विवाद हुआ कि दो दोस्तों की हत्या

 धमतरी । 

असल बात न्यूज़।। 


चोरी की बाइक बेचने के बाद रुपये बंटवारा को लेकर तीन दोस्तों के द्वारा अपने ही दो दोस्तों की गला दबाकर व चाकू से घोपकर हत्या कर देने का मामला सामने आया है।



 ने। एक का लाश घटना स्थल पर छोड़ दी और दूसरे का लाश घटना स्थल से 80 किलोमीटर दूर लाकर महानदी किनारे रेत में दफनाया दिया।

पकड़े जाने पर आरोपितों ने घटना की राज पुलिस को बता दी। पुलिस ने तीनों आरोपितों व मृतक के स्वजन के मौजूदगी में महानदी किनारेे से घटना के तीन दिन बाद शव को बाहर निकाले। पोस्टमार्टम कराकर शव अंतिम संस्कार के लिए स्वजन को सौंप दिए है।

सिहावा पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार चारामा निवासी युगल किशोर देवांगन 23 वर्ष पुत्र स्वर्गीय अमृत लाल देवांगन व अरूण यादव ने पिछले दिनों बाइक की चोरी की। चोरी के बाइक को बेचने के लिए अपने दोस्त बाजारपारा चारामा निवासी ईमामुद्दीन खान 30 वर्ष, नूतन ध्रुव 26 वर्ष और दयाशंकर तिवारी को दिए। तीनों ने बाइक को बेचकर रुपये आपस में बांट लिए। जबकि युगलकिशोर व अरूण यादव को रुपये नहीं दिए। ऐसे में तीनों युवकों से युगल किशोर व अरूण यादव रुपये मांगने लगा। रुपये नहीं देने पर पुलिस को जानकारी देकर फंसाने की धमकी दी। लगातार रुपये मांगने से तंग आकर आरोपित ईमामुद्दीन धान, नूतन ध्रुव और दयाशंकर तिवारी ने दोनों की हत्या करने प्लानिंग की।

25 मई को रुपये देने के बहाने दोनों को बुलाकर नगरी ब्लाक के सोनामगर क्षेत्र गए। युगल किशोर व अरूण यादव को जमकर शराब पिलाई। नशे में मदहोश होने के बाद तीनों आरोपितों ने युगलकिेशार व अरूण यादव की गला दबाकर व चाकू से घोपकर पुल के पास हत्या कर दी। अरूण यादव के शव को घसीटते हुए पुल के नीचे रख दिया। जबकि युगलकिशोर के शव को दो आरोपितों ने बाइक में रखकर 80 किलोमीटर दूर ग्राम अमेठी के महानदी किनारे दफनाकर चले गए। 26 मई की सुबह अरूण यादव की खून से लथपथ व चोट लगे हुए लाश सोनामगर पुल के पास मिलने के बाद पुलिस इसे हत्या मानकर आरोपितों को पकड़ने जुट गई।

घटना के बाद रात में ही तीनों आरोपित चारामा क्षेत्र से पकड़ा गया। पुलिस ने तीनों से हत्या के संबंध में कड़ाई से पूछताछ की। पहले गोलमोल जवाब देने लगा, लेकिन बाद में टूटकर घटना की राज तीनों ने पुलिस को बता दी। आरोपितों ने पुलिस को बताया कि अरूण यादव के साथ-साथ युगलकिशोर देवांगन की भी हत्या कर उन्हें ग्राम अमेठी में महानदी किनारे दफनाया है, इससे पुलिस भी दंग रह गए।

महानदी से खोदकर निकाली लाश

27 मई को दोपहर सिहावा पुलिस तीनों आरोपितों को ग्राम अमेठी लाए। यहां नायब तहसीलदार कुणाल सरवैय्या, नगरी एसडीओपी मयंक रणसिंह, डीएसपी रागिनी ठाकुर व मृतक युगल किशोर के बड़े भाई देवेन्द्र कुमार देवांगन की मौजूदगी में महानदी को खोदकर युवक के लाश निकाली गई। हत्या हुए तीन दिन होने के कारण युवक के शव सड़ना शुरू हो चुका था।

शव से काफी बदबू आ रहा था। पुलिस जब शव निकाली, तो देखने ग्रामीणों समेत कई गांवों से पहुंचे लोगों की भीड़ लग गई। तीनों आरोपितों को पुलिस महानदी किनारे ले गई, जहां आरोपितों ने जहां पर लाश दफनाया था, इसकी जानकारी दी। सभी की मौजूदगी में वहां सुरक्षित ढंग से खुदाई कर शव बाहर निकाला गया। शव मिलने के बाद पुलिस शव को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए जिला अस्पताल लाया। यहां शव के पोस्टमार्टम के बाद शव अंतिम संस्कार के लिए स्वजन को सौंप दिए। पुलिस आगे की जांच में जुट गई है।

तीनों ने मिलकर की भाई की हत्या

महानदी से शव मिलने के बाद मृतक के बड़े भाई देवेन्द्र ने अपने भाई के हाथ पर चूड़ा, सिर के बाल व शरीर की लंबाई को देकर शिनाख्ती की। देवेन्द्र ने बताया कि उनके भाई की हत्या तीनों ने मिलकर की है। मृतक उनका छोटा भाई था। वह काम नहीं करता था। कुछ समय से इन लोगों के साथ मिलकर चोरी में संलिप्त था। चर्चा में सुनने को मिला कि चोरी के बाइक को बेचने के बाद रुपये के लेनदेन को लेकर आरोपितों ने उनकी हत्या कर दी है।