मेधावी छात्र-छात्रा शिक्षा प्रोत्साहन योजना से संभव हुई मनीषा की नर्सिंग की पढ़ाई

 रायपुर ।

असल बात न्यूज़।।

छत्तीसगढ़ की बेटी मनीषा नर्स बनकर करना चाहती है लोगों की सेवा। जीवन में कुछ कर गुजरने की ललक के साथ कटेकल्याण की मनीषा जायसवाल ने नर्सिंग की पढ़ाई करने की ठानी, किंतु परिवार में आर्थिक तंगी उसके सुंदर भविष्य की राह रोके खड़ी थी। श्रम विभाग के छत्तीसगढ़ भवन एवं अन्य कर्मकार कल्याण मण्डल अंतर्गत संचालित मेधावी छात्र छात्रा शिक्षा प्रोत्साहन योजना के तहत प्राप्त राशि से मनीषा आज अपनी नर्सिंग की पढ़ाई पूरी कर रही हैं। 

अपने सपने को पूरा करने की राह पर अग्रसर मनीषा ने इसका श्रेय  मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल को दिया है।    मनीषा ने बताया कि परिवार की आर्थिक स्थिति सही नहीं होने के कारण, उस की नर्सिंग की पढ़ाई, मात्र सपना बनकर रह गई थी।पिता रोजी मजदूरी कर, कड़ी मेहनत से दो वक्त की रोटी जुटा पाते थे। ऐसे में मनीषा के लिए नर्सिंग की महंगी पढ़ाई करना असंभव था। उनके पिता श्री महेश जायसवाल का श्रम विभाग के छत्तीसगढ़ भवन एवं अन्य कर्मकार कल्याण मण्डल के अंतर्गत  राजमिस्त्री प्रवर्ग में पंजीयन  हुआ, तब उसे मेधावी छात्र-छात्रा शिक्षा प्रोत्साहन योजना के तहत पढ़ाई हेतु सहायता राशि प्रदान होने लगी। 

   इस योजना के अंतर्गत मनीषा को अब तक 93 हजार रुपए शासन से प्रदान हो चुके हैं, जिससे वो अपनी नर्सिंग की पढ़ाई पूरी कर रही है। मेधावी छात्र/छात्रा शिक्षा प्रोत्साहन योजना के तहत् कर्मकार मंडल से राशि रू. 5,000 से     रू. 1,00,000 तक प्रदान किया जाता है। 

  आज मनीषा ने नम आंखों से बताया की शासन की योजना के चलते ही वह इस काबिल बन पाएगी कि एक सफल नर्स बनकर मुख्यमंत्री का मान बढ़ा सके।