गुवाहाटी और दीमापुर के रास्ते से म्यांमार से करोड़ों के सोने की तस्करी, डीआरआई ने जप्त किया

 सोना,ड्रग्स तस्करों के द्वारा देश को कमजोर करने की साजिश

डीआरआई ने गुवाहाटी और दीमापुर में भारत-म्यांमार सीमा के माध्यम से तस्करी कर लाए गए 8.38 करोड़ रुपये मूल्य के 15.93 किलोग्राम विदेशी मूल के सोने को जब्त किया

नई दिल्ली।
असल बात न्यूज़।।

देश में सोना, चांदी और ड्रग्स की तस्करी लगातार बढ़ती जा रही है। अभी यह उजागर हुआ है कि म्यांमार जैसे देशों से भी सोने की तस्करी की जा रही है और उसे भारत लाया जा रहा है।राजस्व खुफिया निदेशालय (डीआरआई) द्वारा सोने की तस्करी करने वाले संगठित सिंडिकेट के खिलाफ चलाए जा रहे अभियान को और बड़ी सफलता मिली है। भारत म्यांमार की सीमा पर तस्करी कर लाया जा रहा लगभग 15.93 किलोग्राम विदेशी मूल का सोना जब किया गया है जिसकी कीमत 8.38 करोड रुपए बताई जाती है। विभा कोई असफलता गुवाहाटी और दीनापुर इलाके में मिली है। इस अभियान का हाईवे पर सोना कोड नाम रखा गया था। इसकी जिस तरह से तस्करी की जा रही थी वह भी काफी चौंकाने वाला मामला है।


विशिष्ट खुफिया जानकारी के आधार पर कार्रवाई करते हुए, डीआरआई के अधिकारियों ने दो तेल टैंकरों और माओ, मणिपुर से गुवाहाटी, असम के लिए अलग-अलग यात्रा करने वाले एक ट्रक पर विवेकपूर्ण निगरानी की। 12 मई 2022 की तड़के इन वाहनों को दीमापुर और गुवाहाटी के बीच राष्ट्रीय राजमार्ग के विभिन्न बिंदुओं पर एक साथ रोका गया।   


  



वित्तीय वर्ष 2021-22 में डीआरआई ने 833 किलोग्राम सोना जब्त किया है, जिसकी कीमत रु. देश भर में इसके संचालन के दौरान 405 करोड़। इसमें से उत्तर-पूर्वी राज्यों में डीआरआई ने 208 किलोग्राम से अधिक मूल्य का सोना जब्त किया है। 102.6 करोड़, अत्यधिक संवेदनशील भारत-म्यांमार और भारत-बांग्लादेश सीमा के माध्यम से तस्करी।
पकड़े गए वाहनों की सघन जांच के बाद 15.93 किलोग्राम वजनी सोने के बिस्कुट के 96 टुकड़े बरामद किए गए जिन्हें तीनों वाहनों के अलग-अलग हिस्सों में छिपाकर रखा गया था। इस अभियान में सिंडिकेट के पांच लोगों को गिरफ्तार किया गया है और तीन वाहनों को जब्त किया गया है। आगे की जांच जारी है।

इस तरह की बरामदगी का प्रभावी ढंग से पता लगाने और प्रभावित करने की डीआरआई की क्षमता भारत की आर्थिक सीमाओं से समझौता करने का प्रयास करने वालों के लिए एक निवारक के रूप में कार्य करती है। डीआरआई ऐसे अपराधों के अपराधियों के खिलाफ अपनी अथक कार्रवाई जारी रखने के लिए प्रतिबद्ध है।