नामांतरण, बंटवारा एवं सीमांकन के प्रकरणों के निराकरण के लिए गठित होगी पटवारियों की टीम,गौठान बनेंगे ग्रामीण अद्यौगिक पार्क, संभागायुक्त महादेव कावरे ने दिया निर्देश

 *जनसामान्य की छोटी-छोटी समस्याओं को सुनकर गंभीरता से तत्काल निराकरण करें- संभागायुक्त श्री कावरे

*विभिन्न योजनाओं के तहत हितग्राहियों को समय पर राशि का भुगतान सुनिश्चित करें

*संभागायुक्त श्री कावरे ने जिलास्तरीय अधिकारियों की ली समीक्षा बैठक


कवर्धा, रायपुर।

असल बात न्यूज़।। 

एक तरफ प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, प्रशासनिक कामकाज में कसावट लाने की कोशिशों में लगे हुए हैं। अभी अपने भेंट मुलाकात यात्रा कार्यक्रम के दौरान भी उन्होंने प्रशासनिक कमियों को दूर करने की कोशिश की है और इसी कड़ी में उन्होंने अधिकारियों, कर्मचारियों को काम में लापरवाही नहीं  बरतने के लिए चेताया भी है, लापरवाही पूर्वक काम करने के चलते कुछ अधिकारियों का तत्काल स्थानांतरण किया गया यह भी सबको मालूम है।इधर, दुर्ग संभाग के आयुक्त महादेव कावरे भी पूरे संभाग में प्रशासनिक कामकाज को सुव्यवस्थित, सरल तथा आम जनता के करीब बनाने  क्षेत्र में लगातार दौरा कर रहे हैं तथा अधिकारियों की बैठक ले रहे हैं । उन्होंने अभी कवर्धा जिले में जिला एसपी अधिकारियों की बैठक ली है। उन्होंने इस दौरान अधिकारियों कर्मचारियों को आप लोगों की समस्याओं को सहानुभूति पूर्वक सुनने तथा उसके निराकरण के लिए तत्काल समुचित कदम उठाने  को कहा है। उन्होंने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के प्रस्तावित विधानसभा स्तरीय  दौरे कार्यक्रम की तैयारियों के बारे में भी जानकारी ली।

 संभागायुक्त श्री  कावरे ने  एक दिवसीय प्रवास के दौरान कलेक्टोरेट कार्यालय कवर्धा के सभाकक्ष में जिला स्तरीय अधिकारियों की समीक्षा बैठक ली। इस दौरान उन्होंने शासन की विभिन्न महत्वाकांक्षी योजनाओं की प्रगति की समीक्षा की।  बैठक में कलेक्टर  रमेश कुमार शर्मा, पुलिस अधीक्षक डॉ. लाल उमेंद सिंह उपस्थित थे। 

संभागायुक्त श्री कावरे ने कहा कि सभी अधिकारी और कर्मचारी जनसामान्य की समस्याओं को संवेदनशीलता के साथ सुनकर निराकरण करें। उन्होंने कहा कि जनसामान्य की छोटी-छोटी समस्याओं को सुनकर गंभीरता से लेना चाहिए और इसका संभव होने पर तत्काल निराकरण करें। जनसामान्य की समस्याओं के निराकरण के लिए विभिन्न विभागों द्वारा संयुक्त रूप से एक साथ शिविर लगाने के निर्देश दिए। जिससे नागरिकों को एक ही स्थान पर विभागों की योजनाओं की जानकारी और समस्या का निराकरण हो सके। उन्होंने कहा कि नामांतरण, बंटवारा एवं सीमांकन के प्रकरणों का अभियान चलाकर पूरा करें। पटवारियों की टीम बनाकर समय सीमा में निराकरण करने के निर्देश दिए। आगामी बारिश को ध्यान में रखते हुए किसानों को खरीफ फसल के लिए धान बीज, खाद, बिजली की समस्या नहीं होनी चाहिए। इसके लिए पहले ही तैयारी कर ली जाए। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य केन्द्रों में दवाईयां सहित मेडिकल कीट पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध रहे। इसके साथ ही स्टॉक रजिस्टर संधारित करें। पेंशन से संबंधित समस्याओं एवं राशन कार्ड में नाम जोड़ना, नया राशन कार्ड बनवाना जैसे कार्य जनता से प्रत्यक्ष जुड़े हुए होते है। जिसका गंभीरता पूर्वक निराकरण करना चाहिए। विभिन्न योजनाओं के तहत हितग्राहियों को समय पर राशि का भुगतान सुनिश्चित होना चाहिए। 

संभागायुक्त श्री कावरे ने सुराजी ग्राम योजना और गोधन न्याय योजना की समीक्षा करते हुए कहा कि गौठानों में मल्टीएक्टीविटी कार्य प्रारंभ कर ग्रामीण अद्यौगिक पार्क के रूप में विकसित किया जाना है। इसके लिए गौठानों में स्व सहायता समूह के लिए विभिन्न गतिविधियां प्रारंभ करने के निर्देश दिए। इससे महिलाओं को लाभ होना चाहिए। सभी अधिकारी रूचि लेकर कार्य करें। लक्षित गौठान को मल्टीएक्टीविटी सेंटर बनाने के लिए अधिकारियों को जिम्मेदारी सौंपी जाए। गोबर खरीदी का भुगतान समय पर होना चाहिए। तकनीकी त्रुटी को दूर कर हितग्राहियों को राशि का भुगतान करें। उन्होंने कहा कि गौठानों में प्राधिकरण के अंतर्गत कार्य प्रारंभ किया जा सकता है। इसके अंर्तगत दोना पत्तल, पैकेजिंग मशीन, सिलाई मशीन, महुआ से विभिन्न उत्पाद तैयार करना जैसे अनेक कार्य किए जा सकते हैं। इसके लिए उन्होंने प्रस्ताव बनाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि रैन वाटर हार्वेस्टिंग सभी बिल्डिंगों में होना चाहिए। उन्होंने गोधन न्याय योजना, स्वच्छ भारत मिशन, मुख्यमंत्री हाट बाजार क्लीनिक योजना, सुपोषण अभियान, जल जीवन मिशन, धनवन्तरी मेडिकल स्टोर्स, मुख्यमंत्री वृक्षारोपण प्रोत्साहन योजना सहित विभिन्न योजनाओं की समीक्षा की। 

कलेक्टर श्री रमेश कुमार शर्मा ने बताया कि जन समस्याओं के निराकरण के लिए राजस्व निरीक्षक मंडल मुख्यालय स्तर पर जन चौपाल आयोजित किए जा रहा हैं। जहां नागरिकों से आवेदन प्राप्त कर उनके समस्याओं का गुणवत्तापूर्ण तत्काल निराकरण किया जा रहा है। जिसकी मॉनिटरिंग अनुविभागीय अधिकारी कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि विभिन्न विभागों द्वारा अपने विभागीय योजनाओं का आंकलन किया जाता है। प्रत्येक समय सीमा की बैठक में आने वाली समस्याओं की जानकारी प्राप्त कर उसे दूर किया जाता है। ग्रीष्म ऋतु के दौरान जिले में पेयजल समस्या वाले क्षेत्रों का अधिकारियों द्वारा भ्रमण किया जा रहा है और उन क्षेत्रों में पानी की समस्याओं को दूर करने के लिए समुचित उपाय किए जा रहे हैं। राजीव गांधी किसान न्याय योजना सहित अन्य योजनाओं से हितग्राहियों को मिलने वाली राशि का भुगतान उनके खाते में किया जा रहा है। तकनीकी त्रुटि को ध्यान में रखते हुए उसे दूर कर लंबित भुगतान को जल्द ही खाता में राशि आंतरित करने के निर्देश दिए गए है। उन्होंने बताया कि धान का उठाव हो गया है कुछ समितियों द्वारा धान का उठाव नहीं किया गया है ऐसे समितियों पर विभागीय जांच की जा रही है। फसल परिवर्तन के क्षेत्र में लक्ष्य को पूरा करने का कार्य किया जा रहा है। धान के बदले कोदो, कुटकी, रागी, अरहर का उत्पादन बड़ी मात्रा में किया गया है। किसानों से इन फसलों का समर्थन मूल्यों में खरीदी की गई है। स्व सहायता समूह द्वारा उत्पादित समाग्रियों को स्कूल, छात्रावास, आंगनबाड़ी केन्द्र में क्रय किए जा रहे हैं साथ ही इसके विक्रय के लिए सीमार्ट से लिंक किया गया है। बैठक में डीएफओ  चुड़ामणि सिंह, अपर कलेक्टर  बी.एस. उइके, जिला पंचायत सीईओ  संदीप कुमार अग्रवाल सहित जिला स्तरीय अधिकारी उपस्थित थे।