भेंट मुलाकात कार्यक्रम में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के पहुंचने का लोग करने लगे हैं इंतजार, लोगों का भरोसा बढ़ा कि उनकी समस्याएं होंगी हल

 

रायपुर अंबिकापुर।

असल बात न्यूज़।। 

     00  ग्रामीण विशेष संवाददाता

जिस तरह से आम लोगों, कमजोर वर्ग के लोगों की छोटी-छोटी समस्याएं दूर हो रही हैं, उन्हें, उनका अधिकार मिल रहा है, उनके गांव के आसपास सुविधाये उपलब्ध हो रही हैं, तो अब आम लोगों, ग्रामीणों के द्वारा अब  मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की भेंट मुलाकात यात्रा का बेसब्री से इंतजार किया जाने लगा है कि यह यात्रा उनके गांव कब पहुंचने वाली है। वैसे तो किसी को भी मालूम नहीं रहता कि भेंट मुलाकात कार्यक्रम, अगले दिन कहां  होने वाला है, यात्रा कहां पहुंचने वाली है इसकी जानकारी हमें भी नहीं रहती, लेकिन हमारी, लोगों से चर्चा हुई तो वे कहते हैं हम सब भी चाहते हैं कि मुख्यमंत्री हमारे गांव पहुंचे। हालांकि यह तो संभव नहीं है कि कोई भी मुख्यमंत्री प्रत्येक गांव तक पहुंच सके और हर एक  से मिल सके लेकिन मुख्यमंत्री भूपेश बघेल तपती दोपहरी में भी जिस तरह से दौरा कर रहे हैं उनकी अधिक से अधिक गांव तक पहुंचने की कोशिश है।ऐसे में हो सकता है कि जो लोग इंतजार कर रहे हैं मुख्यमंत्री उनके गांव तक ही पहुंच जाएं। शिकायतों पर लापरवाह अधिकारियों कर्मचारियों को डांटते डपटते और तुरंत कार्रवाई होते देखकर आम लोगों का मन खुशी से भर उठता है तो उनके मन में यह भी इच्छा दिखती है कि ऐसी भेंट मुलाकात का सिलसिला निरंतर बना रहे। 

मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल  अपने भेंट-मुलाकात अभियान के तहत सूरजपुर जिले के प्रेमनगर विधानसभा क्षेत्र के ग्राम राम नगर में अमराई की छांव में लोगों से भेंट-मुलाकात कर उनकी समस्याओं को सुना। वे लोगों से शासकीय योजनाओं और कार्यक्रमों का लाभ उठाने की अपील करते हैं। इस मौके पर एक स्कूली छात्रा मुस्कान प्रजापति ने उनका गुलदस्ता भेंटकर उनका स्वागत किया और बताया कि महतारी दुलार योजना के जरिए ही वह आगे की पढ़ाई कर पा रही है। मुस्कान ने बताया कि कोरोना से  माता-पिता के खो चुके बच्चों की पढ़ाई की जिम्मेदारी छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा उठाने और इसके लिए महतारी दुलार योजना लागू करने बेसहारा बच्चों को आगे की पढ़ाई के लिए सहारा मिल गया है। उसे भी इस योजना का फायदा मिल रहा है।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल हेट मुलाकात कार्यक्रम के दौरान जहां पहुंचते हैं वहां के धार्मिक, सामाजिक कार्यक्रमों में भी समारोह शामिल होते हैं। जब बच्चे, युवा उनसे आग्रह करते हैं तो वे ऑटोग्राफ देने में भी पीछे नहीं हटते।उन्होंने प्रेमनगर विधानसभा के नवापारा कला के कबीर चौरा में समाज के लोगों के साथ की पूजा-अर्चना की। नवापाराकला में वन भूमि पट्टा में हितग्राहियों को न्याय मिलने में देरी की शिकायत पर एसडीएम को दिया तत्काल कार्रवाई का निर्देश दिया है।मुख्यमंत्री ने सुमेरपुर के स्कूली बच्चों के अनुरोध पर दिया आटोग्राफ दिया। 

कका के गमछा का जलवा, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की भेट मुलाकात दौरे में हो रहा लोकप्रिय। गांवों में ‘कका’ बनता जा रहा ब्रांड। सीएम भूपेश की भेंट मुलाकात कार्यक्रम में हर कोई कका ब्रांड के टोपी, गमछा, पेन और टी शर्ट से लैस नजर आ रहा है. क्या युवा, क्या बुजुर्ग, क्या बच्चे और क्या महिलाएं जो भी जनचौपाल में आया. उसके पास काका का ब्रांड जरुर पहुंचा। 

मुख्यमंत्री को नवापाराकला की 10वीं की छात्रा यशोदा ने महतारी दुलार योजना एवं व्यापम पीएससी में शुल्क माफ करने के लिए मुख्यमंत्री को धन्यवाद दिया। उसने मुख्यमंत्री को बताया कि कोरोना से मां की मौत के बाद महतारी दुलार योजना के माध्यम से उसकी पढ़ाई हो पा रही है।  मुख्यमंत्री को प्रेमनगर विकासखंड के सरपंच संघ के अध्यक्ष पुष्पेन्द्र मरकाम ने मानदेय बढ़ाने और ग्रामीण क्षेत्रों के लिए बेहतर योजनाएं लागू करने पर सरपंच संघ की ओर से धन्यवाद दिया।

मुख्यमंत्री सुमेरपुर में भेंट-मुलाकात के बाद पूर्व उप सरपंच श्री हरिप्रसाद साहू के घर किया भोजन। सुमेरपुर में आंगनबाड़ी के भ्रमण के दौरान बच्चों को पोषण टोकरी भेंट की और बच्चों से आंगनबाड़ी के नियमित खुलने और इसके खुलने व बंद होने की जानकारी ली। मुख्यमंत्री को जय मातेश्वरी और धन लक्ष्मी महिला समूह की सदस्यों ने सूरजपुर जनपद के खरसुरा गौठान की बाड़ी में उगाई गई सब्जियों-खीरा, लौकी, भिंडी, प्याज और तरबूज से भरी टोकरियां महिला सदस्यों ने भेंट की। मुख्यमंत्री ने खीरा खा कर कहा बहुत मीठा है।  महिलाओं ने बताया कि उन्हें अब तक साढ़े 3 लाख रूपए की आमदनी हुई है। 


मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने आज सुमेरपुर में पीडीएस राशन दुकान के निरीक्षण के दौरान गांव के श्री कौशल प्रसाद साहू को अपने सामने ही राशन दिलवाया। 


मुख्यमंत्री को रामनगर की मुस्कान प्रजापति ने महतारी दुलार योजना से पढ़ाई की बाधा दूर होने पर धन्यवाद दिया। उल्लेखनीय है कि रामनगर की हरिलाल प्रजापति का निधन कोरोना में हो गया था। 

 

मुख्यमंत्री को ग्राम दतिमा के भूमिहीन कृषक अल्लाउदीन ने कृषि न्याय योजना से दो किश्त मिलने पर धन्यवाद दिया।


मुख्यमंत्री ने खरसूरा गौठान में बरगद का पेड़ लगाया। 


रामनगर में मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने अमराई में लगे झूलों पर बैठे बच्चों से बात की और उनसे हाथ मिलाया। 


मुख्यमंत्री ने राम नगर में राम मंदिर और शनि मंदिर में पूजा अर्चना की। 


भेंट-मुलाकात कार्यक्रम में सुमेरपुर पहुंचे मुख्यमंत्री को रामानुजनगर की ‘बिहान‘ टीम की महिलाओं ने धान कुटाई मशीन से तैयार चावल, दाल मिल से तैयार दाल और तेल पेराई मशीन से निकाला गया तेल उपहार के तौर पर भेंट किया।

[मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल द्वारा भेंट-मुलाकात अभियान के दौरान 08 मई 2022 को की गई घोषणाएं* 

*जिला-सूरजपुर, विधानसभा क्षेत्र-प्रेमनगर*

*नवापाराकला में की गई घोषणाएं*

नवापाराकला गेजी मार्ग में गेज नदी पर नए पुल के निर्माण का होगा निर्माण।

प्रेमनगर-उमेश्वरपुर क्षेत्र में लो-वोल्टेज की समस्या के निराकरण एवं निर्बाध रूप से विद्युत आपूर्ति के लिए नये विद्युत सब-स्टेशन की स्थापना।

उमेश्वरपुर में नवीन उप तहसील की स्थापना की घोषणा।

प्रेमनगर के उच्चतर माध्यमिक स्कूल केे लिए नवीन भवन का निर्माण।

चौरी पहाड़ स्थित देवस्थल में सुविधाओं का होगा विस्तार।  

*सुमेरपुर की गई घोषणाएं*  

सुमेरपुर में नवीन सामुदायिक भवन का निर्माण। 

देवनगर में सहकारी बैंक की स्थापना की जाएगी।

रामानुजगंज में अनुविभागीय राजस्व कार्यालय खुलेगा। 

शासकीय महाविद्यालय रामानुजनगर में आहाता एवं स्टेडियम का निर्माण। 

पौड़ी से उरांवपारा तेजपुर होते हुए तेलाईमुडा तक 8 किलोमीटर सड़क का निर्माण। 

ग्राम पंचायत समुेरपुर में पेयजल के लिए सौर चलित नलजल की सुविधा की स्थापना। 

हायर सेकेण्डरी स्कूल कृष्णपुर एवं रामानुजनगर में नवीन स्कूल भवन का निर्माण।


*रामनगर में की गई घोषणाएं*


रामनगर में नया सामुदायिक भवन का निर्माण।

मानी पौड़ी में उप तहसील की होगी स्थापना।

सूरजपुर से सरस्वतीपुर होकर रामनगर तक सड़क निर्माण की घोषणा। 

कन्या महाविद्यालय के लिए होगा भवन निर्माण।

सूरजपूर में अत्याधुनिक जिम बनेगा। 


*सूरजपुर में आदिवासी समाज सम्मेलन में की गई घोषणाएं-*

गोड़, उरांव, कंवर और चेरवा समाज के सामाजिक भवन के लिए 25-25 लाख रुपए देने की घोषणा की।

बस्तर की तरह सरगुजा में भी जनजातियों के देवालयों के निर्माण के लिए 5-5 लाख रुपए दिए जाएंगे।

माता राजमोहिनी देवी की मूर्ति और उनके नाम से चौक स्थापित किया जाएगा। 






असल बात न्यूज़

सबसे तेज, सबसे विश्वसनीय 

अपने आसपास की खबरों के लिए हम से जुड़े रहे , यहां एक क्लिक से हमसे जुड़ सकते हैं आप

https://chat.whatsapp.com/KeDmh31JN8oExuONg4QT8E

...............

................................

...............................

असल बात न्यूज़

खबरों की तह तक, सबसे सटीक , सबसे विश्वसनीय

सबसे तेज खबर, सबसे पहले आप तक

मानवीय मूल्यों के लिए समर्पित पत्रकारिता