बेसिक्स ऑफ रिसर्च मेथडोलॉजी अनूसंधान पद्धति पर तीन दिवसीय कार्यशाला आयोजित

 

भिलाई ।

असल बात न्यूज़।।

सेंट थॉमस कॉलेज, भिलाई के द्वारा एम ओ यू पार्टनर्स के सहयोग से बेसिक्स ऑफ रिसर्च मेथडोलॉजी  अनूसंधान पद्धति पर तीन दिवसीय कार्यशाला  आयोजित किया गया।सेंट पीजी डिपार्टमेंट ऑफ साइकोलॉजी ने एमओयू पार्टनर्स होली क्रॉस विमेंस कॉलेज, अबिं कापरु और गवर्नमेंट कमला देवी राठी गर्ल्स पीजी कॉलेज, राजनांदगांव के सहयोग से इस तीन दिवसीय ऑनलाइन कार्यशाला  का आयोजन हुआ।

कार्यशाला  के वक्ता डॉ अवंतिका कौशल, सहायक प्रोफेसर, गवर्मेंट ई.वी.पी.जी कॉलेज, कोरबा और डॉ. जय सिहं , एसोसिएट प्रोफेसर, इलाहाबाद विश्वविद्यालय, उत्तर प्रदेश थे। डॉ. कौशल ने'डटा े संग्रह तकनीक' विषय पर इनपटु दिया और कहा कि एक शोधकर्ताको उपयक्त नमूना एकत्र करनेमें बहुत ईमानदार होना चाहिए और डाटा संग्रह और नमूनाकरण तकनीकों के विभिन्न तरीकों पर चर्चाकी। डॉ. जय सिहं ने 'सांख्यिकी की मूल बातों का परिचय' पर अपना विशषेज्ञ व्याख्यान में दिया। यह एक बहुत ही संवादात्मक सत्र था और एनोवा और फैक्टर विश्लेषण जैसे आकंड़ो का उपयोग कब करना है, से परिचित कराया गया।

कॉलेज के प्रशासक रेव फादर डॉ. जोशी वर्गीज ने कार्यशाला  के विषय की सराहना की और जोर देकर कहा कि आज के अकादमिक जगत में प्रत्येक छात्र को एक बेहतर छात्र और शोधकर्ता बनने के लिए अपने शोध कौशल का विकास करना चाहिए। प्राचार्य डॉ. एम.जी. रॉयमन ने कहा कि आई क्यू ए सी को गुणवत्ता बढ़ाने के लिए ऐसे शैक्षणिक विकास कार्यक्रम आयोजित करने होंगे। होली क्रॉस महिला महाविद्यालय, अबिं कापरु की प्राचार्या डॉ.शांता जोसेफ नेउद्घाटन सत्र मेंसभा को संबोधित किया और आयोजकों को उनके प्रयासों के लिए प्रोत्साहित किया।

 डॉ. आलोक मिश्रा, प्राचार्य,र्य शासकीय कमला देवी राठी गर्ल्स पीजी कॉलेज, राजनांदगांव नेकार्यशाला र्य के संचालन में पूरा सहयोग दिया. डॉ. देबजानी मखु र्जी विभाग अध्यक्ष मनोविज्ञान, संत थॉमस कॉलेज भिलाई ने सभा का स्वागत कियाऔर कहा कि प्रत्येक छात्र को अनुसंधान विधियों और सांख्यिकी की मूल बातें पता होनी चाहिए क्योंकियह उच्च शिक्षा में बहुत उपयोगी है।

 एमओयूपार्टनर कॉलेज छात्रों को एक साथ बातचीत करने और सीखने के लिए एक मंच प्रदान करते हैं। डॉ ममता अवस्थी, प्रमखु , मनोविज्ञान विभाग होली क्रॉस महिला कॉलेज, अबिं कापरु और डॉ बसंत सोनबर, विभागअध्यक्ष मनोविज्ञान कमला देवी राठी गर्ल्स पीजी कॉलेज, राजनांदगांव ने छात्रों को संबोधित किया और उन्हेंअनूसंधान पद्धति के विभिन्न पहलूओु पर प्रकाश डाला। तीनों कॉलेजों की डॉ. अकिंता देशमखु , डॉ. मोना मखीजा और श्रीमती दिव्या सिहं सहायक प्रोफेसरों नेसत्र का संचालन किया और डॉ. समिु ता सिहं सहायक प्रोफेसर सटें थॉमस कॉलेज ने धन्यवाद प्रस्ताव रखा। श्री जेमाज सहायक प्रोफेसर ने कार्यशाला  के सुचारू संचालन में सहायता की।