आयुष्मान भारत प्रखंड स्तरीय स्वास्थ्य मेलों में देश भर में 3 लाख 50 हजार से अधिक लोगों ने भाग लिया ; छत्तीसगढ़ राज्य में 28 विकास खंडों में शिविर आयोजित

  

00   64000 से अधिक स्वास्थ्य आईडी बनाए गए; 17000 PMJAY गोल्डन कार्ड जारी किए गए 

00  छत्तीसगढ़ राज्य में हाइपरटेंशन और डायबिटीज की बीमारी कैसे घर घर फैलती जा रही है स्वास्थ्य मेले से यह तस्वीर आई सामने 

00  ग्राम पंचायत सेलूद में स्वास्थ्य मेले में भी मिले इसके लगभग 650 मरीज
नई दिल्ली, छत्तीसगढ़।
असल बात न्यूज़।। 
00  विशेष प्रतिनिधि

स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के द्वारा (MoHFW) राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के सहयोग से आजादी का अमृत महोत्सव के तहत आयुष्मान भारत स्वास्थ्य और कल्याण केंद्रों (AB-HWCs) की चौथी वर्षगांठ मनाई जा रही है। पूरे देश में बड़े उत्साह और उत्साह के साथ किया जा रहा है। इसके तहत प्रत्येक जिले के कम से कम एक ब्लॉक में एक लाख से अधिक एबी-एचडब्ल्यूसी में ब्लॉक स्तरीय स्वास्थ्य मेलों का आयोजन किया जा रहा है। छत्तीसगढ़ राज्य में पहले दिन 28 ब्लॉकों में ये स्वास्थ्य मेले आयोजित किए गए। दुर्ग जिले में पाटन विकासखंड में यह मेला आयोजित किया गया। क्षेत्र के सांसद विजय बघेल कार्यक्रम में मुख्य अतिथि थे। 

स्वास्थ्य मेले के पहले दिन देश भर में 3 लाख 50 हजार से अधिक लोगों ने भाग लिया और लगभग 464 ब्लॉकों ने स्वास्थ्य मेलों का आयोजन किया। इसके अलावा, उच्च रक्तचाप, मधुमेह आदि के लिए की जा रही हजारों जांचों के अलावा 64000 से अधिक आभा स्वास्थ्य आईडी बनाए गए और 17000 PMJAY गोल्डन कार्ड जारी किए गए।इस स्वास्थ्य मेले के आयोजन से छत्तीसगढ़ के लोगों के स्वास्थ्य की नई तस्वीर भी सामने आई है। राज्य में कोरोना के संक्रमण का फैलाव अभी लगभग जीरो हो गया है लेकिन छत्तीसगढ़ में हाइपरटेंशन और डायबिटीज ऐसी बीमारी किस तरह से खतरनाक रूप से बढ़ती जा रही है यह स्वास्थ्य मेले में सामने आया है। पहले दिन छत्तीसगढ़ राज्य में 28 स्थानों पर या स्वास्थ्य मेला लगाया गया जिसमें 22 हजार से अधिक लोगों ने अपने स्वास्थ्य का परीक्षण कराया। स्वास्थ्य मेलों में यहां हाइपरटेंशन के 9 हजार 825 और डायबिटीज के 9 हजार 382 मरीज सामने आए हैं। इससे पता चलता है कि इस राज्य में उच्च रक्तचाप और मधुमेह की बीमारी किस तरह से घर-घर फैलती जा रही है। यहां पहले दिन के स्वास मेले में ही इतने अधिक यह मरीज सामने आए हैं दूसरे ब्लॉकों में इस स्वास्थ्य  मेले के आयोजन में इसके और काफी अधिक मरीज मिलने की संभावना है। 

ब्लॉक स्तरीय आयुष्मान भारत स्वास्थ्य मेला दुर्ग जिले में पाटन विकासखंड में आयोजित किया गया। यहां अभी बीपी शुगर के लगभग 650 मरीज मिले हैं। ब्लड प्रेशर और शुगर के मरीज छपरा राज्य में किस तरह से तेजी से फैलते जा रहे हैं इसका अंदाजा गांव में आयोजित स्वास्थ्य शिविरों में मिले आंकड़ों से देखा जा सकता है। विडंबना है कि अभी तक  इन बीमारियों से निपटने कोई गंभीर ठोस कदम उठाए गए हैं।मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. जे.पी. मेश्राम के मार्गदर्शन एवं खण्ड चिकित्सा अधिकारी-पाटन की देख-रेख में इसका आयोजन ग्राम- -सेलूद में किया गया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि सांसद श्री विजय बघेल, जिला पंचायत सदस्य व पाटन से श्रीमती हर्षा लोकमणी चंद्राकर, श्री संजय बघेल, श्रीमती खेमिन साहू सरपंच, श्री खेमलाल साहू, सांसद प्रतिनिधि श्री राजा पाठक उपस्थित थे।


        प्राप्त जानकारी के अनुसार यहां शिविर में  निःशुल्क जॉच, उपचार, दवा वितरण, पैथालॉजी जॉच, के साथ कोविड वैक्सिनेशन का कार्य किया गया। जिसमें 2025, मरीजो ने स्वास्थ्य लाभ लिया। इसमें जनरल मेडिसिन-92, बी.पी., शुगर-641, ऑख जॉच-68, मोतियाबिंद मरीज पंजीकृत-12, अस्थि रोग-35, स्त्री रोग-20, शिशु रोग-20, दंत रोग-28, आर.एम.एन.सी.-36, एन.सी.डी. -14, आई.सी.टी.सी.-32, चर्म रोग-20, मरीजो का उपचार किया गया। इस शिविर में स्वास्थ्य कार्ड-50, आयुष्मान कार्ड-50, प्रधानमंत्री गोल्ड कार्ड-17, टेली कंन्सलटेन्ट-203, सेवायें दी गई। शिविर का लाभ आस-पास के ग्रामिणों ने लिया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुये सांसद श्री विजय बघेल ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में ऐसे ही स्वास्थ्य शिविर लगाने से लोग स्वस्थ रहेगें।


        शिविर में जिले के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.जे.पी.मेश्राम, जिला स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. सतीश मेश्राम, जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ. दिव्या श्रीवास्तव, जिला कुष्ठ अधिकारी डॉ. अनिल शुक्ला, जिला कार्यक्रम प्रबंधक श्री पद्माकर शिन्दे, जिला मीडिया अधिकारी श्रीमती अनिता नयन, नॉन मेडिकल असिस्टेण्ड श्री सी.एल.मंत्री एवं विकास खण्ड पाटन से खण्ड चिकित्सा अधिकारी डॉ. आशीष शर्मा, बी.ई.टी.ओ. श्री बी.एल. वर्मा, बी.ई.टी.ओ. श्रीमती चंद्रकांता साहू, बी.पी.एम. श्रीमती पूनम साहू ने अपनी सेवाएं दी है।




पूरे देश भर में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री, राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों के स्वास्थ्य मंत्री, सांसद, विधायक, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी, राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों के प्रमुख स्वास्थ्य सचिव/स्वास्थ्य सचिव, राज्य स्वास्थ्य विभाग के वरिष्ठ अधिकारी, प्रतिनिधि और स्थानीय गणमान्य व्यक्ति भी एबी-एचडब्ल्यूसी और सस्ती और सुलभ स्वास्थ्य देखभाल प्रदान करने में एबी-एचडब्ल्यूसी के महत्व के बारे में जनता के बीच जागरूकता पैदा करने दौरा कर रहे हैं। ।


18-22 अप्रैल 2022 से, देश भर में राज्य/संघ राज्य क्षेत्र के प्रत्येक ब्लॉक में ब्लॉक स्तरीय स्वास्थ्य मेला एक दिन के लिए आयोजित किया जाएगा।


एबी-एचडब्ल्यूसी चयनात्मक से व्यापक प्राथमिक स्वास्थ्य देखभाल की दिशा में एक प्रमुख बदलाव है जिसमें प्रोत्साहक, निवारक, उपचारात्मक, पुनर्वास और उपशामक देखभाल शामिल है।जिसमे रोग-केंद्रित से लेकर स्वास्थ्य केंद्र तक; और पूरे समाज के दृष्टिकोण, 'सभी के लिए स्वास्थ्य' के पूरक के रूप में उभरते अंतरराष्ट्रीय 'सभी में स्वास्थ्य' दृष्टिकोण के साथ संरेखण में अंतरक्षेत्रीय समन्वय को संस्थागत बनाने क्या जैसे काम किया जा रहा है।



16 अप्रैल 2022 को आयुष्मान भारत - हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर्स (AB-HWCs) में एक दिन में ई-संजीवनी प्लेटफॉर्म के माध्यम से रिकॉर्ड 3 लाख टेलीकंसल्टेशन किए गए। यह AB-HWCs पर किसी एक दिन में किए गए टेलीकंसल्टेशन की अब तक की सबसे अधिक संख्या है । दिन, प्रति दिन 1.8 लाख टेलीकंसल्टेशन के अपने पहले के रिकॉर्ड को पार कर गया।

दिनांक 18.04.2022 को शाम 6:30 बजे तक राज्यवार प्रखंड स्वास्थ्य मेला की रिपोर्ट इस प्रकार है:

****