पुरानी पेंशन बहाली योजना के मुख्यमंत्री के निर्णय के बाद अधिकारी कर्मचारियों में अपार हर्ष

 

*-कलेक्ट्रेट परिसर तथा अन्य विभागों में कर्मचारियों ने मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के प्रति जताया आभार, कहा यह बेहद महत्वपूर्ण निर्णय हमें सेवानिवृत्ति के बाद की आर्थिक चिंता अब नहीं होगी

*-कर्मचारी संघों के पदाधिकारियों ने भी किया स्वागत

दुर्ग ।

असल बात न्यूज़।।

  मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के द्वारा राज्य के सालाना बजट में पुरानी पेंशन बहाली योजना का प्रावधान करने की घोषणा से  अब तक सीपीएस के दायरे में रहे सभी अधिकारी कर्मचारियों में उल्लास और उत्सव सी खुशी छा गई। कलेक्ट्रेट परिसर दुर्ग में जैसे ही अधिकारी कर्मचारियों ने यह समाचार सुना सभी ने खुशी जताई और मुख्यमंत्री के इस निर्णय के प्रति आभार जताया है।

 इस संबंध में अपनी प्रतिक्रिया देते हुए दुर्ग जिला राजपत्रित अधिकारी संघ के अध्यक्ष  विपिन जैन ने कहा कि यह बहुत स्वागत योग्य निर्णय है। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के इस निर्णय से अब तक सीपीएस के दायरे में रहे अधिकारी कर्मचारियों को पुरानी पेंशन का लाभ मिलेगा। अधिकारी कर्मचारियों की यह चिंता मुख्यमंत्री ने दूर की। हम उनके प्रति आभार व्यक्त करते हैं। संघ के सभी सदस्यों ने भी मुख्यमंत्री के प्रति आभार व्यक्त किया है।

 छत्तीसगढ़ अधिकारी कर्मचारी संघ के दुर्ग के संयोजक श्री विजय लहरे ने भी इस निर्णय का स्वागत किया है। उन्होंने कहा कि पुरानी पेंशन बहाली से अधिकारी कर्मचारियों को सेवानिवृत्ति के पश्चात की चिंता दूर हो सकेगी।  मुख्यमंत्री महोदय के इस निर्णय से अधिकारी- कर्मचारियों में गहरी खुशी है। इस संबंध में चर्चा करने पर एडीएम न्यायालय में कार्य कर रही ऐश्वर्या ने बताया कि वह इस निर्णय से बहुत खुश हैं शासन की पुरानी पेंशन योजना में एकमुश्त राशि आने से लोगों को सेवानिवृत्ति के पश्चात चिंता नहीं होती क्योंकि पुरानी पेंशन का निर्धारण इसी दृष्टि से किया गया था कि पेंशन की राशि में किसी तरह का उतार-चढ़ाव ना हो सके। स्वेच्छानुदान शाखा में कार्य कर रहे श्री राम गोपाल साहू ने कहा कि सीपीएस में जो राशि पेंशन के रूप में प्राप्त होती  है वह सेवा काल की अवधि पर निर्भर होती है जिन लोगों ने शासकीय सेवा बहुत विलंब से ज्वाइन की। उनके लिए इसमें काफी कम पेंशन की गुंजाइश बनती है। पुरानी पेंशन बहाल हो जाने से अब यह दिक्कत दूर हो जाएगी।

 वित्त शाखा में कार्य कर रहे ऐश्वर्य देवांगन ने बताया कि पुरानी पेंशन पद्धति में निश्चित राशि पेंशन के रूप में प्राप्त होती है जिससे सेवानिवृत्ति के पश्चात किसी तरह के वित्तीय प्रबंधन की चिंता करने की जरूरत कर्मचारियों को नहीं होती और वह अपने बच्चों पर की पढ़ाई लिखाई पर अधिक निवेश कर सकते हैं। संयुक्त कलेक्टर  मुकेश रावटे ने भी इस निर्णय की प्रशंसा की।उन्होंने कहा कि हम सब मुख्यमंत्री जी के प्रति आभार व्यक्त करते हैं पुरानी पेंशन बहाली से सभी अधिकारी कर्मचारियों की चिंता दूर हुई है।