राष्ट्रीय हिंदी पत्र लेखन प्रतियोगिता पुरस्कार वितरण समारोह

 

भिलाई।

असल बात न्यूज़।।

स्वामी श्री स्वरूपानंद सरस्वती महाविद्यालय आमदी नगर हुडको भिलाई में हिंदी विभाग एवं फेरो स्क्रैप निगम लिमिटेड निगमन कार्यालय भिलाई छ.ग. के संयुक्त तत्वावधान में राष्ट्रीय हिंदी पत्र लेखन प्रतियोगिता का पुरस्कार वितरण समारोह  के मुख्य अतिथि  पंकज त्यागी सहायक महाप्रबंधक कार्मिक एवं प्रशासन फैरो स्क्रैप निगम लिमिटेड निगम कार्यालय भिलाई छ.ग. थे कार्यक्रम की अध्यक्षता महाविद्यालय के मुख्य कार्यकारिणी अधिकारी डॉ दीपक शर्मा ने  की ।विशेष अतिथि के रूप में  छगनलाल नागवंशी राजभाषा अधिकारी फेरो स्क्रैप निगम लिमिटेड महाविद्यालय के प्राचार्य  श्रीमती हंसा शुक्ला थी। राष्ट्रीय हिंदी पत्र लेखन प्रतियोगिता की निर्णायक श्रीमती ममता ध्रुव व्याख्याता हिंदी शासकीय आदर्श उच्च माध्यमिक विद्यालय दुर्ग व श्रीमती निशा तिवारी वरिष्ठ साहित्यकार थी ।

 कार्यक्रम के उद्देश्यों पर प्रकाश डालते हुए कार्यक्रम संयोजक डॉ सुनीता वर्मा विभागाध्यक्ष हिंदी ने कहा उन्नीसवीं बीसवीं शताब्दी में पत्र ही दो व्यक्तियों के बीच संचार का सबसे विश्वसनीय माध्यम था किंतु अब टेलीफोन सेलफोन एवं अंतरजाल के युग में इसकी भूमिका कम हो गई है पत्र में लेखक की भावनाएं व्यक्त नहीं होती बल्कि लिखने वाले का व्यक्तित्व भी उभरता है इससे लेखक के चरित्र ,दृष्टिकोण, संस्कार, मानसिक स्थिति इत्यादि सभी एक साथ छलकते ।पत्र व्यक्ति के मन के दर्पण होते हैं।. ।पत्र लेखन में विपुल मात्रा में विद्यार्थियों की सहभागिता आश्वस्त कर रही है पत्र लेखन का पुराना दौर वापस आएगा व  विद्यार्थी अपने भावनाओं  की अभिव्यक्ति पत्रों के माध्यम से करेंगे। 

निर्णायक श्रीमती ममता ध्रुव व्याख्याता हिंदी, शासकीय आदर्श उच्च माध्यमिक विद्यालय दुर्ग ने विद्यार्थियों  की सराहना करते हुए कहा विद्यार्थियों का प्रदर्शन बहुत ही उत्कृष्ट है। निर्णय करना अत्यंत कठिन था जब भी हम  पत्र लिखते हैं विषय वस्तु का चयन ,भाषा में पकड़ ,समसामयिक उदाहरण ,भाषा में प्रवाह  व  आत्मीयता पत्र को आकर्षक बनाते हैं। उन्होंने विद्यार्थियों की त्रुटियों की और भी संकेत किया कि  की पद नाम का  पुल्लिंग नहीं होता है।कई विद्यार्थियों ने पत्र को निबंध शैली में लिखा है। शब्द सीमा पर ध्यान देने की बात कही निर्णायक श्रीमती निशा तिवारी वरिष्ठ साहित्यकार अपने काव्य पाठ द्वारा दर्शकों को भावविभोर कर दिया।

अपने अध्यक्षीय उद्बोधन में महाविद्यालय की मुख्य कार्यकारिणी अधिकारी डॉ दीपक शर्मा ने कार्यक्रम को प्रायोजित के लिए फेरो स्क्रैप निगम लिमिटेड को धन्यवाद दिया  तथा उन्होंने आशा व्यक्त की यह  संयुक्त आयोजन सतत चलता रहेगा। इस वर्ष पत्र लेखन का विषय “हर मन मन का उत्सव आजादी का अमृत महोत्सव”  रखा गया जो समसामयिक है आजादी के 75 वर्ष के उपलक्ष में स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों की कुर्बानी से विद्यार्थियों  को परिचित कराने के उद्देश्य से यह विषय अत्यंत महत्वपूर्ण है।

 प्राचार्य डॉ  हंसा शुक्ला  ने कहा तकनीकी के विस्तार के साथ लेखन कला समाप्त होते जा रही है पहले संक्षिप्त गुड मॉर्निंग को जीएम आदि लिखते थे आज वास वॉइस टाइपिंग के कारण वह भी समाप्त हो गया है। अगर हम लिखते हैं तो उंगलियों में एक्यूप्रेशर होता है जिससे हमारी याददाश्त बढ़ती है व हमारा स्वास्थ्य भी सही रहता है लिखने से हम विषय वस्तु को ज्यादा समय तक याद रख सकते हैं। पत्र लेखन की विषय वस्तु पर प्रकाश डालते हुए कहा  स्वतंत्रता प्राप्त करने के लिए हमने अनेक कुर्बानिया दी है और हम 75 वर्षों से  अपनी स्वतंत्रता को कायम रखे हैं यही कारण है आज इसका विषय हर मन का उत्सव आजादी का महोत्सव रखा गया है।

अपने   आतिथ्य उद्बोधन में श्री पंकज  त्यागी ने बताया  फेरो स्क्रैप निगम लिमिटेड व्यर्थ से अर्थ का उत्पादन करते हैं यही परंपरा हमने महाविद्यालय में भी देखी। उन्होंने महाविद्यालय की अनुशासन की सराहना  की व  बताया कि आगे भी हिंदी विभाग के साथ कार्यक्रम का आयोजन करते रहेंगे श्री त्यागी ने  विषय के महत्व पर प्रकाश डालते हुए बताया स्वतंत्रता दो प्रकार की होती है शारीरिक व मानसिक तब हम अपने ही देश में उत्पादित उत्पादों का प्रयोग नहीं करेंगे तब तक हमें असली स्वतंत्रता नहीं मिलेगी नहीं  हमारे लोगों को रोजगार मिलेगा। उन्होंने अपनी भाषा के प्रयोग पर बल दिया आसामी सपने देखते हैं वही हमारी राष्ट्रभाषा होनी चाहिए।

 राजभाषा अधिकारी श्री छगनलाल नागवंशी ने विद्यार्थियों की सराहना करते हुए कहा मुझे बहुत  प्रसन्नता हुई हिंदी में लिखकर आपने राष्ट्रभाषा को सम्मान दिलाया उन्होंने कहा हिंदी सब समझते हैं पर बोलना नहीं चाहते हैं ।भाषा की जानकारी न होने पर क्या  दुविधा होती है अपने अनुभवों को साझा किया बताया भाषा की विविधता लोगों को दुविधा में डाल देती है 

राष्ट्रीय हिंदी पत्र लेखन प्रतियोगिता में देशभर के 98 प्रतिभागियों ने भाग लिया। विजय प्रतिभागियों के नाम इस प्रकार है:--


.विनीता कांगे बीएससी तृतीय वर्ष भिलाई महिला महाविद्यालय सेक्टर 9 भिलाई 2500 प्रथम .भूमिका साहू एमएससी तृतीय सेमेस्टर स्वामी श्री स्वरूपानंद सरस्वती महाविद्यालय हुडको भिलाई 2500 प्रथम मोनिका पटेल बी ए प्रथम वर्ष केएमटी शासकीय कन्या महाविद्यालय रायगढ़ 3100

द्वितीय, राधिका वर्मा बीएससी प्रथम वर्ष शासकीय कमला देवी राठी महिला पीजी कॉलेज राजनांदगांव 1001 तृतीय 5.गांभीर्य  पटेल एम. ए तृतीय सेमेस्टर शासकीय नेमीचंद जैन कला ,वाणिज्य विज्ञान महाविद्यालय दल्ली  राजहरा 501 सांत्वना 6. सोनिका दिवाकर बीएससी प्रथम वर्ष शासकीय राजीव लोचन स्नातकोत्तर महाविद्यालय गरियाबंद 501 सांत्वना .सुनीता साहू बीएससी प्रथम वर्ष शासकीय नागार्जुन स्नातकोत्तर विज्ञान महाविद्यालय रायपुर 501 सांत्वना थानेश्वरी देशमुख एम. ए तृतीय सेमेस्टर शासकीय महाविद्यालय अर्जुंदा जिला बालोद 501 सांत्वना

.रेणुका पटेल बी एस सी द्वितीय वर्ष भिलाई महिला महाविद्यालय भिलाई 501 सांत्वना


 कार्यक्रम को सफल बनाने में जानकी जंघेल सहायक अध्यापक गणित दीक्षा साहू, सहायक अध्यापक गणित, ने विशेष योगदान दिया कार्यक्रम में मंच संचालन  सहायक प्राध्यापक संयुक्ता पाढी विभागाध्यक्ष अंग्रेजी धन्यवाद सुपर्णा श्रीवास्तव सहायक अध्यापक हिंदी ने दिया।कार्यक्रम में महाविद्यालय के प्राध्यापक प्राध्यापिका एवं छात्र-छात्राएं उपस्थित हुए।