सेंट थॉमस महाविद्यालय ने मनाया अंतराष्ट्रीय महिला दिवस

 

भिलाई।

असल बात न्यूज़।।

सेंट थॉमस महाविद्यालय भिलाई के महिला सेल एवं अंग्रेजी स्नातकोत्तर विभाग द्वारा अंतराष्ट्रीय महिला दिवस मनाया गया| इस गरिमामय अवसर पर एमए अंग्रेजी विभाग के सभी छात्र एवं प्राध्यापकगण नारीत्व का उत्स्व मनाने के लिए एकत्रित हुए| यह दिन विभिन्न क्षेत्रों में महिलाओं द्वारा प्राप्त की गयी उपलब्धियों को समर्पित करते हुए मनाया गया| 

 एमए अंग्रेजी विभाग के सभी छात्रों ने उत्साहपूर्वक आगे आकर सन 2022 के महिला दिवस विषय "बेहतर कल के लिए आज लैंगिक समानता" को ध्यान में रखते हुए कार्यक्रम का आयोजन किया| महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ एम. जी.  रोईमोन ने अंग्रेजी विभाग को अंतराष्ट्रीय महिला दिवस का आयोजन करने के लिए अपनी शुभकामनायें दी| अंग्रेजी स्नातकोत्तर विभाग की विभागाध्यक्ष डॉ शाइनी मेंडोंस ने सभी का पूरी गर्मजोशी के साथ स्वागत किया| अंग्रेजी स्नातकोत्तर विभाग की सहायक प्राध्यापक डॉ सुजाता कोले ने समाज को सशक्त बनाने में महिलाओं की भूमिका का वर्णन करते हुए समाज में लैंगिक समानता की बात कही| इस विशिष्ट अवसर पर अपवाद के रूप में पुरुष छात्रों ने भी कार्यक्रम में भाग लिया| एमए द्वितीय सेमेस्टर के छात्र शुभांग दास ने कहा कि यदि पुरुष महिलाओं के प्रति अपनी सोच को बदलेंगे तो विश्व महिलाओं के लिए एक अच्छा स्थान बन जायेगा| एमए चतुर्थ  सेमेस्टर के छात्र प्रिंस अभिषेक ने कहा कि हमारा उद्देश्य विश्व में लैंगिक समानता लाना है एवं सभी क्षेत्रों में महिलाओं को प्रोत्साहित करना चाहिए| इस अवसर पर गौरव कांबले एमए द्वितीय सेमेस्टर, बिपाशा राय सोखे एमए द्वितीय सेमेस्टर, ऐश्वर्य साहू एमए द्वितीय सेमेस्टर, गर्विता अग्रवाल एमए चतुर्थ सेमेस्टर, डिंकल महिलवार गर्विता अग्रवाल एमए चतुर्थ सेमेस्टर एवं बहुत से छात्रों ने अपने विचार व्यक्त किये| कार्यक्रम में अंग्रेजी स्नातकोत्तर विभाग की सहायक प्राध्यापक सुश्री उदयश्री ने "भारतीय महिला लेखक - ब्रेकिंग द ग्लास सीलिंग" विषय पर पावर पॉइंट प्रेसेंटेशन के माध्यम से अनीता देसाई, अरुंधति राय, कमला दास, सरोजनी नायडू, एवं शशि देशपांडे के कार्यों पर अपने विचार व्यक्त किये ।

 इस प्रेसेंटेशन का उद्देश्य छात्रों को विशिष्ट लेखकों के बारे में जानकारी देते हुए यह बताना था कि इन महिलाओं ने अपने जीवन में सभी समस्याओं का सामना करते हुए पूरी हिम्मत के साथ आगे बढ़कर अपना लक्ष्य हासिल किया जो लाखों लोगों के लिए प्रेरणादायक है| कार्यक्रम के अंत में अंग्रेजी स्नातकोत्तर विभाग की सहायक प्राध्यापक सुसन एबिसन ने धन्यवाद ज्ञापन दिया ।