सांसद विजय बघेल से चिटफंड कंपनियां के खिलाफ संसद में मुद्दा उठाने का आग्रह

 भिलाई।

असल बात न्यूज़।।  

तमाम दबाव बनाने के बावजूद पैसा वापस मिलने में देरी हो रही है तो चिटफंड कंपनियों के निवेशकों का गुस्सा भी बढ़ता जा रहा है। ऐसे ही  सैकड़ों की संख्या में चिटफंड कंपनियों के नाराज निवेशकों ने सांसद विजय बघेल से आज मुलाकात की तथा चिटफंड कंपनी से पैसा वापस दिलाने के लिए पहल करने का आग्रह किया है। प्रभावितों ने सांसद श्री बघेल से संसद में भी इस मुद्दे को उठाने का आग्रह किया है। सांसद श्री बघेल ने प्रभावितों को इसपर बताया है  कि वे इस मुद्दे पर लगातार आवाज उठा रहे हैं।  चिटफंड कंपनियों के द्वारा धोखाधड़ी करने के मुद्दे को संसद में भी उठाया गया है। उन्होंने कहा कि वे  तथा पीड़ित निवेशकों  के संघर्ष में वे हमेशा साथ हैं। 

सांसद विजय बघेल को उनके स्थानीय निवास में मुलाकात कर चिटफंड कंपनी के निवेशकों ने बताया कि पल्स एग्रोटेक कारपोरेशन लिमिटेड से छत्तीसगढ़ में लाखों आम निवेशक प्रभावित हुए हैं जिनका करोड़ों रुपए इस कंपनी में फंसा हुआ है।ये निवेशक तथा निवेश कराने वाले एजेंट अब ऑल इन्वेस्टर सेफ्टी ऑर्गेनाइजेशन के बैनर तले कंपनी के खिलाफ संघर्ष कर रहे हैं। ऑर्गनाइजेशन के प्रतिनिधियों ने बताया है कि इस मामले में सुप्रीम कोर्ट के द्वारा भी पैसा वापस दिलाने का आदेश दिया है लेकिन कोई समुचित कार्रवाई नहीं की गई है। सुप्रीम कोर्ट के द्वारा सेबी को उक्त कंपनी की संपत्ति बेचकर पैसा वापस दिलाने का आदेश दिए जाने के बावजूद इस मामले में कोई कार्यवाही नहीं हुई है। इस कंपनी में 35 वर्षों के दौरान लाखों आम निवेशकों ने करोड़ों रुपए निवेश किया है और इनका पैसा आज तक वापस नहीं मिला। इस कंपनी ने साडे 5 साल में रकम दोगुनी करने का लालच दिया था और यह कंपनी लंबे समय से काम कर रही थी जिससे आम निवेशक इस के झांसे में आकर फंस गए। एसोसिएशन के प्रतिनिधियों ने बताया है कि पीएसीएल का जाल पूरे देश में फैला हुआ था और पूरे देश में लगभग 585 करोड निवेशक इस के जाल में फंसे हुए हैं।इन निवेशकों को न्याय नहीं मिल रहा है।

सांसद श्री बघेल से यहां मुलाकात करने वालों में पल्स एग्रोटेक कारपोरेशन लिमिटेड  के खिलाफ लड़ रही संस्था ए आई एस ओ के प्रदेश अध्यक्ष नरेश सागरवंशी, भूतपूर्व प्रदेश अध्यक्ष नंद किशोर साहू, प्रभारी एचके देशमुख, समय लाल साहू, भिलाई के अध्यक्ष मेघनाथ यादव, कोषाध्यक्ष संतोष साहू, एस के शर्मा, लक्ष्मीपति,बी एल कोसे, अश्वनी जांगड़े, चंदन सिंह, राजेंद्र कुमार पटेल, राजू अहीर, नीलेश पटेल, श्रीमती अनीता वर्मा सहित सैकड़ों की संख्या में कार्यकर्ता शामिल थे।