पदभार ग्रहण समारोह में मुख्यमंत्री की स्पीच के हैं कई मायने, उन्होंने , जिन्हे सपने दिखाकर चुनाव जीता उनके सपनों को पूरा करने का काम करने को कहा

 

पदभार ग्रहण समारोह में मुख्यमंत्री की स्पीच के हैं कई मायने, उन्होंने,जिन्हे सपने दिखाकर चुनाव जीते हैं उनके सपनों को पूरा करने का प्राथमिकता पूर्वक काम करने को कहा 

भिलाई।

असल बात न्यूज़।। 

       00 अशोक कुमार त्रिपाठी

भिलाई ही नहीं पूरे दुर्ग जिले में कांग्रेसी खेमे में भारी खुशियां हैं।भिलाई में महापौर और सभापति पद के चुनाव में पार्टी को बड़ी जीत मिली है। जीत ऐसी कि इस पार्षद पद के चुनाव में यहां पार्टी को पूर्ण बहुमत तो हासिल हुआ है ही, महापौर और सभापति के चुनाव में सिर्फ अपनों ही ने नहीं, निर्दलियों ने भी और कुछ दूसरी पार्टी के पार्षदों ने भी समर्थन दिया, वोट दिया। तो स्वाभाविक है कि कांग्रेसी खेमे में यहां चारों तरफ खुशियां ही खुशियां बिखरी हुई दिख रही है। लेकिन इन खुशियों के साथ दूसरा पहलू यह भी है कि यहां के मतदाताओं ने नई उम्मीदों, नए भरोसे के साथ कांग्रेस को वोट दिया है, उनके पक्ष में मतदान किया है, यहां के विभिन्न क्षेत्रों में आम लोग जिन तमाम समस्याओं से जूझ रहे हैं उनको अब इन समस्याओं का हल निकलने की बड़ी उम्मीदें है। संभवत मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, भी यहां के मतदाताओं आम जनता की मनोभावनाओं को समझते हुए पदभार ग्रहण समारोह में नई कार्यकारिणी को कई महत्वपूर्ण संदेश दे गए हैं कि हमें, जनता की उम्मीदों पर खरा उतरने के लिए काम करना होगा। उन्होंने संभवत पूर्व में जो देखा है जो अनुभव है कि जीतने के बाद जनप्रतिनिधि आम लोगों से कैसे दूर हो जाते हैं। अपने जनप्रतिनिधियों से आम लोगों की जो उम्मीदें होती है वह कैसे टूट जाती है। संभवत उनके दिलों दिमाग में यह अनुभव आते रहेंगे और उन्होंने पदभार ग्रहण समारोह में अपनी स्पीच में जोर देकर कहा है कि अब हमें आम लोगों की उम्मीदों पर खरा उतरने के लिए काम करना होगा। उन्होंने यह भी कहा कि आप सभी सीट पर बैठे हैं लेकिन जो बाहर खड़े हैं उन्होंने भी हमे जीत दिलाने के लिए मेहनत की है उनकी उपेक्षा नहीं होनी चाहिए।

 कांग्रेस पार्टी, ताजा हालात में निश्चित रूप से यहां बहुमत और बड़ी जीत हासिल करने की खुशियां मनाने में ही पांच साल जाया करने देना नहीं चाहेगी। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कार्यकारिणी के सभी नए सदस्यों को बधाइयां दी है तो उन्होंने ध्यान दिलाते हुए यह भी कहा कि हमें यह भी ध्यान रखना होगा कि हमारे, जो कई सारे साथी थे जो लंबे समय से इस निगम में पार्षद  थे, उनमें से बहुत सारे इस बार नहीं चुने जा चुके हैं, संभवत मुख्यमंत्री श्री बघेल कि इस मुददे का उल्लेख करने के पीछे यह संदेश देने की जरूर कोशिश रही होगी कि नई कार्यकारिणी को निगम में ऐसी स्थितियों से बचने के लिए शुरू से उपाय करने होंगे और काम करने होंगे।

नए संदेश देने वाली, नए काम करने के लिए प्रेरित करने वाली मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की भिलाई में निगम के महापौर और सभापति के पदभार ग्रहण समारोह में दी गई यह स्पीच कई मायनों में अलग अहमियत रखती है और निश्चित रूप से इससे काफी कुछ संदेश मिलता नजर आता है कि भिलाई में विकास की कैसी रूपरेखा बनाई जानी चाहिए। मुख्यमंत्री यहां जब अपनी स्पीच दे रहे थे और उन्होंने sector-5, सेक्टर 8 में  पिछले वर्षों के दौरान में हुए विकास कार्यों का उल्लेख किया तो निश्चित रूप से उनके दिमाग में इसी निगम क्षेत्र में आने वाले कोसा नगर और राधिका नगर, सुपेला जैसी कालोनियां और बस्तियां जो कि विकास के मामले में सच में काफी पिछड़ गई दिखती हैं की समस्याये भी उनके जेहन में घूम रही थी। उन्होंने संभवत यह संदेश देने की कोशिश की है कि विकास केवल कुछ वार्डों, कुछ क्षेत्रों तक सीमित नहीं रह जाना चाहिए। उन्होंने संभवत यह भी  संदेश दिया है कि सही मायने में विकास की किरण सभी जगह, चारों तरफ फैलना और पहुंचना  चाहिए। और जब नवनिर्वाचित महापौर अनुभवी हैं उनके क्षेत्र में उनके वार्ड में विकास के बड़े-बड़े काम हुए हैं तो उनकी भी उम्मीद जरूर होगी कि ऐसे काम पूरे भिलाई में जरूर दिखने को मिलेंगे। इसी दौरान विभिन्न वार्डों की समस्याओं के साथ हुडको की समस्या का भी उल्लेख किया तथा इसकी चिंता जाहिर की है कि इस समस्या का हल आगामी विधानसभा चुनाव के पहले निकलना चाहिए। भिलाई नगर निगम की जिन समस्याओं के मुद्दे पर मुख्यमंत्री की चिंता नजर आती है, उसके बारे में उन्होंने यहां जब बोला है तो इसमें उनकी दूरदृष्टि भी नजर आ रही है। क्योंकि अक्सर यही होता है कि जब हम अधिक आत्मविश्वास में होते हैं, अत्यधिक खुशियों में डूबे रहते हैं तो लोगों की समस्याएं, लोगों की उम्मीद हमें दिखाई देनी बंद हो होने लगती है।

देखा जाए तो विकास के तमाम बड़े बड़े काम किए जाने के दावे के बावजूद भिलाई कई समस्याओं से जूझ रहा है। साफ सफाई के अभाव की समस्या तो लगातार बनी हुई है । सभी कालोनियों और बस्तियों में सड़क जीर्ण शीर्ण हो गई है। नालियां जाम है। मच्छरों की चारों तरफ भरमार हो गई है। कई बस्तियां स्ट्रीट लाइट नहीं होने की वजह से रात में अंधेरे से जुझती हैं। प्रधानमंत्री आवास के हजारों मामले लंबे समय से लंबित है। कीमती जमीनों पर अतिक्रमण होता जा रहा है। भू माफिया के चारों तरफ सक्रिय हैं। भिलाई की कीमती जमीनों पर भू माफिया के द्वारा लगातार कब्जा किया जा रहा है और इसे बेच दिया जा रहा है। ऐसे मामले जी रोड के किनारे भी नजर आ रहे हैं तो वहीं शहर के प्रमुख व्यवसायिक क्षेत्रों में भी ऐसे ही हालात देखते हैं। सुपेला, कोहका, लक्ष्मी नगर, राधिका नगर, जवाहर नगर, खुर्सीपार, गुरु घासीदास नगर, हाउसिंग बोर्ड कॉलोनी, के बड़े इलाके अतिक्रमण की चपेट में आते जा रहे हैं। नगर निगम प्रशासन के समक्ष भिलाई  को इन भू माफियाओं के अतिक्रमण से मुक्त कराना बड़ी चुनौती है। निगम प्रशासन के द्वारा इन अतिक्रमण को हटाने की कोशिश की जाती है, मुहिम चलाई जाती है, कार्रवाई की जाती है, कब्जे तोड़े जाते हैं, हटाए जाते हैं लेकिन यह अतिक्रमण फिर दोबारा खड़ा हो जाता है। भू माफिया ऐसे कब्जे पर हर तरह से कब्जा बनाने में विशेषज्ञ हो गए हैं।

लक्ष्मण चंद्राकर जब भिलाई साडा के अध्यक्ष थे तब उन्होंने यहां युवाओं को रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने के उद्देश्य व्यवसायिक कांप्लेक्स दुकाने बनाने पर विशेष तौर पर जोर दिया, जिसे अभी भी याद किया जाता है। लेकिन बाद में निगम बन जाने के बाद निगम क्षेत्र में इस और ₹1 रुपए का भी काम नहीं किया गया । शहरी इलाकों के प्रमुख व्यवसायिक क्षेत्र में भू माफिया कब्जा कर ले रहे हैं लेकिन यहां युवाओं के लिए रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने की योजना नहीं बनाई गई। ऐसी नीति नहीं होने के फल स्वरुप भिलाई से प्रतिवर्ष बड़ी संख्या में शिक्षित बेरोजगारों का पलायन हो जाता है। शिक्षित बेरोजगारों को रोजगार के लिए पलायन करना पड़ता है। मुख्यमंत्री श्री बघेल जब यहां स्पीच दे रहे थे तब संभवत: तब उनके दिमाग में युवाओं की ये समस्याये भी कौंध रही होगी और वह जरूर चाहते होंगे कि इन समस्याओं का निराकरण होना चाहिए, इनके रोजगार की समस्या का हल निकालना चाहिए।  युवाओं के समस्याओं के निराकरण की दिशा में पहल होनी चाहिए। उन्हें रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने की दिशा में प्राथमिकता पूर्वक पहल होनी चाहिए।

 पदभार ग्रहण समारोह के अवसर पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने नव निर्वाचित प्रतिनिधियों से कहा कि  विकास को लेकर लोगों की जो उम्मीदें हैं  जो सपने देखे हैं उन्हें पूरा करने का अवसर जनता ने आपको दिया है।  जिसे आप सभी को  संकल्पबद्ध होकर युद्ध स्तर पर पूरा करने के लिए कदम उठाना होगा। उन्होंने इस पर जोर दिया है कि जनता से जो वादे अपने किए गए हैं, उसे निभाने युद्ध स्तर पर जुट जाने की जरूरत है। मुख्यमंत्री ने इस मौके पर महापौर श्री नीरज पाल को बधाई देते हुए कहा कि नीरज ने सेक्टर 5 एरिया में जिस तरह से विकास किया है,पटरी पार का भी तेजी से ऐसा ही विकास होना चाहिए  कोसा नगर, राधिका नगर हुडको आदि क्षेत्रों में भी तेजी से विकास कार्य बढ़ना चाहिए।

मुख्यमंत्री ने छत्तीसगढ़ सरकार की योजनाओं के बारे में बताते हुए शहरी के साथ ग्रामीण क्षेत्रों को भी आत्मनिर्भर बनाने के बारे में लंबी चौड़ी बातें रखी। भिलाई, पिछले वर्षों के दौरान शिक्षा, खेलकूद औद्योगिक विकास के क्षेत्र में निश्चित रूप से काफी पिछड़ गया है। इस पदभार ग्रहण समारोह में मुख्यमंत्री की स्पीच में भी भिलाई को हो रहे ऐसे नुकसान पर चिंता झलकती नजर आई। उन्होंने भिलाई की पहले जो शिक्षा, खेलकूद, उद्योग के क्षेत्र में जो पहचान थी उसका भी उल्लेख किया।  उन्होंने, यह मंशा जाहिर की है कि इन क्षेत्रों में भिलाई की पहचान पूर्व की तरह वैसे ही लगातार बनाने की कोशिश की जाएगी और हम इसके लिए प्रयास करेंगे। साफ है कि निगम की नई कार्यकारिणी को उन्होंने इस दिशा में काम करने को कहा है।

सब जानते हैं कि औद्योगिक तीर्थ भिलाई की पूरे देश में अपनी अलग पहचान रही है। कभी यहां संक्रामक बीमारी कहीं नहीं फैलती थी और ना ही इसके संक्रमण से लोगों की मौत होती थी। यहां हर साल बड़ी संख्या में विद्यार्थी आई आई टी में चुने जाते रहे हैं। यहां के औद्योगिक संस्थानों से लाखों लोगों को रोजगार मिला हुआ है। यहां की  हरियाली और स्वच्छता की अलग पहचान रही है।अब यह सब काफी कुछ, गए दिनों की बातें हो गई है और यदि मुख्यमंत्री श्री बघेल चाहते हैं कि भिलाई की पहचान वापस लौटनी चाहिए तो भिलाई के लोगों के लिए वास्तव में इससे बड़ी खुशी की बात कोई नहीं हो सकती। लेकिन इसके लिए सुखद शुरुआत होने का अभी इंतजार है।


असल बात न्यूज़

सबसे तेज, सबसे विश्वसनीय 

अपने आसपास की खबरों के लिए हम से जुड़े रहे , यहां एक क्लिक से हमसे जुड़ सकते हैं आप

https://chat.whatsapp.com/KeDmh31JN8oExuONg4QT8E

...............

................................

...............................

असल बात न्यूज़

खबरों की तह तक, सबसे सटीक , सबसे विश्वसनीय

सबसे तेज खबर, सबसे पहले आप तक

मानवीय मूल्यों के लिए समर्पित पत्रकारिता