व्यय लेखा जमा करने की अंतिम तिथि निर्धारित

 

दुर्ग ।

असल बात न्यूज़।।

नगरीय निकाय चुनाव के अभ्यर्थियों के लिए अपने निर्वाचन में किए गए व्यय का अंतिम व्यय लेखा प्रस्तुत करने का 4 जनवरी तक समय दिया गया है। चुनाव परिणाम की घोषणा  के पश्चात निकाले गए जुलूस तथा अन्य खर्चों का भी व्यय लेखा प्रस्तुत करना अनिवार्य है। अभी तक 222 अभ्यर्थियों ने यह व्यय लेखा प्रस्तुत नहीं किया है।

 नगरीय निकाय निर्वाचन के अंतर्गत 20 दिसंबर को पार्षद पद के  निर्वाचन का मतदान हुआ था। अभ्यर्थियों को उनके नामांकन की तिथि से परिणाम की घोषणा उपरांत जुलुस निकालने तक व्यय लेखा 03 भाग में प्रस्तुत करना अनिवार्य है। जिसमें प्रथम लेखा 08-10 दिसंबर तक, द्वितीय लेखा 14-17 दिसंबर तक प्राप्त कर लिया गया है। नगर पालिक निगम भिलाई में 318 पार्षद अभ्यर्थियों में से 96 अभ्यर्थियों द्वारा अंतिम व्यय लेखा प्रस्तुत कर लिया गया है। इनमें 222 अभ्यर्थियों के द्वारा अंतिम व्यय लेखा प्रस्तुत किया जाना शेष है। इन्हें 04 जनवरी तक अंतिम व्यय लेखा प्रस्तुत करने का समय दिया गया है।

भिलाई-चरौदा में 147 अभ्यर्थियों में 20 अभ्यर्थियों के द्वारा अंतिम व्यय लेखा प्रस्तुत कर लिया गया है। शेष अभ्यर्थियों को 05 जनवरी तक अंतिम व्यय लेखा जमा करने का समय दिया गया है। इसी तरह रिसाली में 163 अभ्यर्थि में से 62 अभ्यर्थियों के द्वारा अंतिम व्यय लेखा प्रस्तुत कर लिया गया है। शेष अभ्यर्थियों को 05 जनवरी तक जमा करने का समय निर्धारित किया गया है। इसी प्रकार नगर पालिक जामुल में 87 अभ्यर्थियों में से 09 अभ्यर्थियों के द्वारा अंतिम व्यय लेखा प्रस्तुत कर लिया गया है। शेष अभ्यर्थियों को 06 जनवरी तक का समय निर्धारित किया गया है। नगर पंचायत उतई में 05 अभ्यर्थियों को अंतिम व्यय लेखा प्रस्तुत करने के लिए 05 जनवरी तक का समय निर्धारित किया गया है।

अंतिम व्यय लेखा जमा करते समय व्यय लेखा के प्रपत्र ’’क’’ में व्यय का पूरा हिसाब लिखकर प्रपत्र ‘‘ख’’ में संपूर्ण व्यय का विवरण तैयार कर मूल बिल के साथ नोटरी द्वारा अभिप्रमाणित शपथ पत्र जमा कर लेखा जमा की पावती व्यय संपरीक्षक से प्राप्त करना होगा। अभ्यर्थियों से अनुरोध किया गया है कि निर्धारित तिथि तक अंतिम व्यय लेखा प्रस्तुत करें। जिससे नियमानुसार लगने वाली फाइन से बचा जा सके।