चिटफंड पीड़ित निवेशकों के आवेदनों पर कार्रवाई तेज, कंपनियों को भेजे जा रहे नोटिस

 

*-माइनिंग टास्क फोर्स की अहम बैठक, अवैध खनन पर होती रहेगी समन्वय से कार्रवाई

दुर्ग ।

असल बात न्यूज़।। 

दुर्ग जिले से रायपुर, दुर्ग, भिलाई, बिलासपुर की 29 चिटफंड कंपनी को नोटिस में भेजी जा रही है।


चिटफंड और अवैध खनन को लेकर आज दो महत्वपूर्ण बैठक कलेक्टर डॉ. सर्वेश्वर नरेंद्र भुरे के चेंबर में हुई। दोनों ही बैठकों में एसएसपी श्री बद्रीनारायण मीणा भी शामिल हुए। इस अहम बैठक में अवैध खनन पर कार्रवाई से लेकर चिटफंड कंपनियों में निवेशकों को राहत पहुँचाने की जा रही कार्रवाई पर चर्चा हुई। चिटफंड कंपनियों के निवेशकों ने बड़ी संख्या में राहत के लिए आवेदन कलेक्ट्रेट में लगाये हैं जिन पर प्रकरण बनाये जा रहे हैं। बैठक में एडीएम श्रीमती नूपुर राशि पन्ना ने बताया कि अभी 125 कंपनियों को नोटिस के लिए चिन्हांकित किया गया है। इसमें रायपुर-दुर्ग-भिलाई-बिलासपुर की 29 कंपनियां शामिल हैं। कलेक्टर ने इन सभी कंपनियों को नोटिस जारी करने के निर्देश दिये। एसएसपी श्री मीणा ने कहा कि इसके लिए पुलिस विभाग से जिस तरह के समन्वय एवं जानकारी की जरूरत होगी, विभाग द्वारा इसे प्राथमिकता के तौर पर उपलब्ध कराया जाएगा। कलेक्टर ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल की मंशानुरूप चिटफंड निवेशकों के आवेदनों पर शीघ्रताशीघ्र कार्रवाई करनी है। इसके लिए जिन्हें नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है वे तेजी से कार्रवाई करें ताकि प्रक्रिया तेजी से बढ़ाकर निवेशकों को राहत प्रदान की जा सके। उन्होंने कहा कि पुलिस विभाग के समन्वय से राजस्व अमला इस दिशा में कार्य करें। यह सबसे प्राथमिकता वाला कार्य है। बैठक में अपर कलेक्टर श्रीमती पद्मिनी भोई, सहायक कलेक्टर श्री हेमंत नंदनवार सहित अन्य अधिकारी भी मौजूद रहे।

*पासिंग जोन पर रहेगी विशेष नजर-* इस मौके पर माइनिंग टास्क फोर्स की भी बैठक हुई। बैठक में कलेक्टर और एसएसपी ने कहा कि खनिज विभाग पुलिस के समन्वय के साथ इस संबंध में तेजी से कार्रवाई करे। कलेक्टर ने अब तक की गई प्रगति की जानकारी भी ली। खनिज अधिकारी श्री दीपक मिश्रा ने बताया कि जिले में खनिज के अवैध परिवहन पर पूरी तरह विभाग सतर्क है और इनपुट के आधार पर टीम रात-दिन एलर्ट है।

 कलेक्टर ने कहा कि जिले में पड़ोसी जिलों से भी गाड़ियां आती हैं अतएव पासिंग जोन पर विशेष रूप से नजर रखें। खनिज अधिकारी ने बताया कि कुम्हारी, अंडा, तरीघाट और रानीतराई में खनिज विभाग की टीम एलर्ट हैं जहां से अवैध परिवहन पर नजर रखी जा रही है। खनिज विभाग की जांच उड़नदस्ता की गाड़ी की नियमित पेट्रोलिंग होती रहे, सख्त मानिटरिंग से अवैध खनन हतोत्साहित होता है। आरटीओ श्री अनुभव शर्मा ने बताया कि ओवरलोडिंग जैसे मामलों पर आरटीओ का दस्ता पूरी तरह नजर रखा हुए है और इस पर लगातार कार्रवाई की जा रही है। कलेक्टर ने कहा कि बड़े निर्माण कार्यों में लगे लोग अधिकतर रेत स्टोर कर रखते हैं। इनकी भी जांच करते रहें ताकि पूरी तरह से अवैध खनन को हतोत्साहित किया जा सके। एसएसपी ने कहा कि इसके लिए संयुक्त टीम अच्छा कार्य कर रही है। आगे भी संयुक्त टीम समन्वय के साथ कार्य करें। पेपरवर्क अच्छा रखें, इससे कार्रवाई पुख्ता करने में मदद मिलती है।