10 वीं सदी की बकरी सिर प्रमुख योगिनी माता की पत्थर की मूर्ति लंदन से भारत आएगी

 

उत्तर प्रदेश के बांदा के लोखरी में एक मंदिर से अवैध रूप से हटाई गई बकरी प्रमुख योगिनी की 10वीं सदी की पत्थर की मूर्ति को भारत लौटाया जा रहा है :श्री जी. किशन रेड्डी

हमारी सही कलाकृतियों का प्रत्यावर्तन जारी : संस्कृति मंत्री

नई दिल्ली।
असल बात न्यूज़।। 
भारतीय संस्कृति और धार्मिकता की प्रमुख कृति 10 वीं सदी की बकरी सिर योगिनी माता की पत्थर की महत्वपूर्ण कलाकृति लंदन से देश में लाई जा रही है। बताया जाता है कि  उत्तर प्रदेश के बांदा के लोखरी में एक मंदिर से यह बेशकीमती मूर्ति अवैध रूप से हटा दी गई थी। इसके लंदन के कला बाजार में होने की जानकारी मिली थी। तब से कलाकृतियों के प्रत्यावर्तन की कड़ी में इसे भी देश में लाने का प्रयास किया जा रहा है। 
उल्लेखनीय है कि देश से कई सारी हमारी धार्मिकता, लोक संस्कृति को प्रदर्शित, करने वाली कई बेशकीमती लोकप्रिय मूर्तियों की चोरी हो गई अथवा इससे देश से आवेदन से बाहर निकाल दिया गया। इन बेशकीमती मूर्तियों की चोरी के पीछे दुनियाभर के तस्कर सक्रिय रहे हैं और काफी षड्यंत्र पूर्वक इन मूर्तियों की चोरी की गई। ऐसी ही एक मूर्ति उत्तर प्रदेश के इसी मंदिर से भैंस के सिर वाली वृषणा योगिनी की एक समान मूर्ति, जो जाहिर तौर पर लोखरी गांव के उसी मंदिर से चुराई गई थी, जोकि 2013 में भारत के दूतावास, पेरिस द्वारा बरामद की गई थी और वापस भेज दी गई थी। सितंबर 2013. में राष्ट्रीय संग्रहालय, नई दिल्ली में वृष्णन योगिनी स्थापित की गई थी। लोखरी उत्तर प्रदेश के बुंदेलखंड के बांदा जिले में मऊ अनुमंडल में स्थित एक छोटा सा गाँव है। योगिनियां तांत्रिक पूजा पद्धति से जुड़ी लगभग 64 शक्तिशाली महिला देवताओं का एक समूह हैं। उन्हें एक समूह के रूप में पूजा जाता है,  और माना जाता है कि उनके पास अनंत शक्तियां हैं।इन शक्तिशाली देवी की मूर्तियों की चोरी कर ली गई।


लंदन से भारत लाई जा रही उक्त लोकप्रिय मूर्ति एक बकरी के सिर वाली योगिनी की है जो मूल रूप से बलुआ पत्थर में पत्थर के देवताओं के एक समूह से संबंधित है और लोखरी मंदिर में स्थापित है। ये 1986 में नई दिल्ली में राष्ट्रीय संग्रहालय की ओर से भारतीय विद्वान विद्या दहेजिया द्वारा एक अध्ययन का विषय थे, जिसे बाद में "योगिनी पंथ और मंदिर: एक तांत्रिक परंपरा" शीर्षक के तहत प्रकाशित किया गया था।

यह पता चला है कि उक्त पाषाण मूर्ति 1988 में लंदन में कला बाजार में होने की जानकारी मिली थी। अक्टूबर 2021 में,लंदन के पास एक निजी निवास का बगीचा में  भारत के उच्चायोग को एक बकरी के सिर वाली योगिनी मूर्तिकला की खोज के बारे में जानकारी मिली, जो लोखरी सेट के विवरण से मेल खाती थी। ।केंद्रीय संस्कृति, पर्यटन और डोनर मंत्री, श्री जी. किशन ने घोषणा की है कि उत्तर प्रदेश के बांदा के लोखरी में एक मंदिर से अवैध रूप से हटाई गई बकरी प्रमुख योगिनी की 10 वीं शताब्दी की पत्थर की मूर्ति भारत वापस की जा रही है।  एक ट्वीट में इसकी घोषणा करते हुए संस्कृति मंत्री ने कहा कि हमारी महत्वपूर्ण ख्याति प्राप्त कलाकृतियों का प्रत्यावर्तन जारी है। 

इससे पहले, लंदन में भारतीय उच्चायोग ने कहा कि 10वीं शताब्दी की एक विशेष पत्थर की मूर्ति की वसूली और प्रत्यावर्तन की घोषणा करते हुए प्रसन्नता हो रही है, जिसे 1980 के दशक में कभी-कभी उत्तर प्रदेश के बांदा के लोखरी में एक मंदिर से अवैध रूप से हटा दिया गया था।

 इंडिया प्राइड प्रोजेक्ट सिंगापुर और आर्ट रिकवरी इंटरनेशनल, लंदन ने मूर्ति की पहचान और उसे वापस पाने में भारतीय उच्चायोग, लंदन की तेजी से मदद की, जबकि भारतीय उच्चायोग ने स्थानीय और भारतीय अधिकारियों के साथ अपेक्षित दस्तावेज तैयार किए।

मकर संक्रांति के शुभ दिन पर लोकप्रिय पुरातात्विक महत्व की ख्याति प्राप्त प्रतिमा बकरी सिर योगिनी माता की मूर्ति उच्चायोग में प्राप्त हो गई है जिसे भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण, नई दिल्ली भेज दिया गया है।