आपसी समन्वय से नक्सली समस्या और मादक पदार्थों की तस्करी रोकना संभव- श्री जुनेजा

 

छत्तीसगढ़ एवं उड़ीसा के मध्य इंटरस्टेट कॉर्डिनेशन मीटिंग संपन्न

रायपुर ।

असल बात न्यूज़।।

छत्तीसगढ़ एवं उड़ीसा राज्य के मध्य आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से इंटर स्टेट कॉर्डिनेशन मीटिंग संपन्न हुई । वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में छत्तीसगढ़ के डीजीपी श्री अशोक जुनेजा, उड़ीसा के डीजीपी श्री अभय समेत वरिष्ठ पुलिस अधिकारी मौजूद रहे । इसके साथ ही दोनों राज्यों के सीमावर्ती जिलों जिनमें छत्तीसगढ़ के रायगढ़, महासमुंद, जशपुर, बिलासपुर, सरगुजा, बस्तर, सुकमा, धमतरी, गरियाबंद, एवं उड़ीसा के कोरापुट, नवरंगपुर, मलकानगिरी, कटक, नुआपाड़ा, भुवनेश्वर, और राउरकेला के एसपी उपस्थित रहे । 

बैठक के प्रारंभ में उड़ीसा के डीजीपी श्री अभय ने कहा कि मुझे खुशी है कि छत्तीसगढ़ के डीजीपी श्री अशोक जुनेजा ने पदभार संभालने वाले दिन ही मुझसे कहा कि दोनों राज्यों की इंटर स्टेट कॉर्डिनेशन मीटिंग होनी चाहिये  क्योंकि दोनों राज्यों के मध्य नक्सली समस्या एवं मादक पदार्थों की तस्करी एक गंभीर मुद्दा है । जिसका हल दोनों राज्यों के समन्वय से ही संभव है । 

डीजीपी श्री अशोक जुनेजा ने संबोधित करते हुये कहा कि बस्तर रेंज में नक्सलियों के विरुद्ध लगातार कार्रवाई की जा रही है । विगत वर्षों में छत्तीसगढ़-उड़ीसा सीमा में पुलिस और अर्धसैनिक बलों ने कई नक्सलियों को मार गिराया है । इसके साथ ही नक्सल प्रभावित इलाकों में सड़क निर्माण में बहुत प्रगति हुई है । श्री जुनेजा ने कहा कि दोनों राज्यों के मध्य बेहतर समन्वय स्थापित कर नक्सल समस्या शीघ्र खत्म की जा सकती है । उन्होंने कहा दोनों राज्यों की सीमा में बहुत से रिमोट इलाके हैं जहां पर संचार सुविधा हेतु शीघ्र ही मोबाईल टॉवर लग जाएंगे । उन्होंने दोनों राज्यों के मध्य इंटेलीजेंस शेयरिंग, ज्वाईंट ऑपरेशन, ज्वाईंट इंटेरोगेशन पर जोर दिया ।

बैठक में दोनों राज्यों के मध्य मादक पदार्थों की अवैध तस्करी पर भी चर्चा की गई । छत्तीसगढ़ के डीजीपी श्री अशोक जुनेजा ने कहा कि छत्तीसगढ़ में उड़ीसा की ओर से होने वाली गांजा तस्करी पर चिंता व्यक्त की । उन्होंने कहा कि गांजा तस्करी का रूट और खपत दोनों ही गंभीर समस्या है । इसके समाधान हेतु छत्तीसगढ़ सभी सीमावर्ती जिलों में सीसीटीवी युक्त चेकपोस्ट लगा रहे हैं । 

बैठक में एडीजी श्री विवेकानंद सिन्हा, आईजी रायपुर इंटेलीजेंस डॉ आनंद छावड़ा, आईजी सीआईडी श्री एससी द्विवेदी, एआईजी श्री यूबीएस चौहान उपस्थित रहे ।