सुआ नृत्य पर डाक विभाग के द्वारा विशेष आवरण जारी , डाक टिकट संग्राहको में इसका संग्रह करने लगी होड़ , सांसद विजय बघेल ने किया आवरण विमोचन

 00  गेड़ी नृत्य पर भी जारी होगा विशेष आवरण

भिलाई दुर्ग।

असल बात न्यूज़।।

      0 विशेष संवाददाता

छत्तीसगढ़ के ख्याति प्राप्त लोकनृत्य सुआ नृत्य पर  डाक विभाग के द्वारा विशेष आवरण  जारी किया गया है। राज्य के मुख्य पोस्ट मास्टर जनरल छत्तीसगढ़ परिमंडल रायपुर और प्रवर अधीक्षक डाकघर दुर्ग संभाग के संयुक्त तत्वाधान में छत्तीसगढ़ की लोक संस्कृति को प्रदर्शित करने वाला यह आवरण जारी किया गया है। यहां डिस्ट्रिक्ट लेवल वर्चुअल फिलाटेलिक एग्जीबिशन philatelic exhibition, Steel City pex 2021 मे फर्स्ट डे कवर के रूप में इसका अनावरण किया गया। सांसद विजय बघेल ने इसका अनावरण और प्रदर्शनी का शुभारंभ किया।

विभिन्न अवसरों पर जारी किए जाने वाले फर्स्ट डे डाक आवरण का अपना विशेष महत्व होता है। विशेष अवसरों पर प्रदर्शित होने वाले डाक टिकट को संग्रहित करने वाले फिलेटलिस्ट में ऐसे आवरण की काफी मांग रहती है। उल्लेखनीय है कि काफी अर्से के बाद छत्तीसगढ़ की लोक संस्कृति पर डाक विभाग के द्वारा ही यह आवरण जारी किया गया है। कार्यक्रम में बोलते हुए सांसद विजय बघेल ने कहा कि छत्तीसगढ़ की लोक संस्कृति अत्यंत समृद्ध और वैभवशाली है। यह संस्कृति, हम सभी को एक दूसरे के साथ जोड़ने का काम करती है। सुआ नृत्य के माध्यम से हम सभी के समृद्ध , खुशहाल और साधन संपन्न बनने की प्रार्थना की जाती है।

इस अवसर पर डाक टिकट संग्रहाको के टिकटो की प्रदर्शनी लगाई गई है। इसका वर्चुअल तौर पर आयोजन किया गया है। जिसमें डाक टिकट संग्राहको ने अपने टिकटों को स्कैन कर वेबसाइट पर अपलोड किया है। इस प्रदर्शनी को विभाग की वेबसाइट पर साल भर देखा जा सकता है। प्रवर अधीक्षक, डाकघर दुर्ग हरीश कुमार महावर ने हमें इस बारे में जानकारी देते हुए बताया कि हमारे द्वारा, विभाग के द्वारा यह कोशिश की जा रही है कि वर्चुअल मोड में इस प्रदर्शनी को अधिक से अधिक लोग देख सकें। डाक टिकटों की यह एक उत्कृष्ट प्रदर्शनी है। उन्होंने बताया कि हम छत्तीसगढ़ के प्रसिद्ध गेड़ी नृत्य पर भी एक विशेष आवरण जारी करने जा रहे हैं। यह इस प्रदर्शनी के समापन समारोह के अवसर पर जारी किया जाएगा। हम उम्मीद कर रहे हैं कि छत्तीसगढ़ ही नहीं पूरे देश में इसे पसंद किया जाएगा। इससे छत्तीसगढ़ की संस्कृति का परिचय मिलता है। निश्चित रूप से देशभर के लोग इसे जानना चाहते हैं।

जिला स्तरीय आभास डाक टिकट प्रदर्शनी तथा विशेष आवरण विरूपण विमोचन के अवसर पर पोस्ट मास्टर जनरल रामचंद्र जायधाय और वरिष्ठ फिलेटलिस्ट ए शंकरा सुब्रमण्यम भी विशेष रुप से उपस्थित थे। बताया जा रहा है कि इस अवसर पर प्रदर्शित सुआ नृत्य पर आधारित डाक टिकट कि पूरे देश में मांग की जा रही है।  प्रदर्शनी में वर्षों पहले रिलीज डाक टिकटों को प्रदर्शित किया गया है।

कार्यक्रम में सर्वश्री पोस्ट मास्टर दुर्ग महेंद्र कुमार शर्मा, सहायक डाकपाल दुर्ग एस सैमसन, पोस्ट मास्टर सुपेला मोहम्मद अकबर, पोस्ट मास्टर सिविक सेंटर हरजीत सरकार, सहायक निदेशक रायपुर परिमंडल जे एस पारधी, सहायक अधीक्षक दुर्ग ज्ञानेश मिश्रा, सहायक अधीक्षक भिलाई श्रीमती सीमा श्रीवास्तव, सहायक अधीक्षक विनीत सिंह, श्रीमती सुनीता लाउटरे, कुम्हारी उप डाकपाल श्रीमती गीता बोडके की भी उल्लेखनीय भूमिका रही है।