छत्तीसगढ़ में सरकार इस साल खरीदेगी एक करोड़ 5 लाख quintal धान, मंत्रिमंडल की उप मंडलीय समिति की बैठक में निर्णय, कब से खरीदी शुरू होगी इसका निर्णय दिवाली के बाद

 रायपुर।

 असल बात न्यूज़।।

छत्तीसगढ़ में राज्य सरकार इस साल एक  करोड़ 5 लाख क्विंटल धान की खरीदी करेगी। न्यूनतम समर्थन मूल्य पर राज्य में इतने  बड़े पैमाने पर धान की खरीदी पहली बार होने जा रही है। सरकार का मानना है कि इस साल किसानों पर भगवान मेहरबान है जिसके चलते किसानों की मेहनत से राज्य में धान का बंपर उत्पादन होने जा रहा है। धान की खरीदी कब से की जाएगी ? इस पर निर्णय दिवाली के बाद लिया जाएगा। फिलहाल राज्य को अभी भी बारदाने की कमी के संकट से जूझना पड़ रहा है।

राज्य के खाद्य मंत्री अमरजीत भगत की अध्यक्षता में धान खरीदी के लिए गठित मंत्रिमंडल की उप समिति की आज हुई बैठक में इस संबंध में महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए है। इस बैठक में खाद्य मंत्री श्री भगत के साथ कृषि मंत्री रविंद्र चौबे, सहकारिता मंत्री डॉक्टर प्रेमसाय सिंह टेकाम, तथा अपेक्स बैंक के अध्यक्ष बैजनाथ चंद्राकर भी उपस्थित थे। बैठक के बाद कृषि मंत्री रविंद्र चौबे ने बैठक में हुए निर्णय के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ में राज्य सरकार पूरी तरह से किसानों के साथ है। सरकार के पास संसाधनों की कोई कमी नहीं है। किसानों का पूरा धान खरीदा जाएगा। इस साल राज्य सरकार न्यूनतम समर्थन मूल्य पर सबसे अधिक धान खरीदने जा रही है। इसके लिए एक करोड़ 5 lakh क्विंटल धान खरीदी का लक्ष्य रखा गया है। मंत्री श्री चौबे ने बताया कि पिछले साल न्यूनतम समर्थन मूल्य पर राज्य में 92 lakh क्विंटल धान की खरीदी की गई। राज्य को इस साल भी बारदाने की कमी के संकट से जूझना पड़ रहा है। बारदाने की आपूर्ति के लिए देश के जूट कमिश्नर को लगभग 2 महीने पहले से बोला गया है। लेकिन धान की खरीदी शुरू होने तक यहां लगभग 30% तक ही बारदाने की आपूर्ति हो पाने की संभावना है। इसके चलते इस बार धान की खरीदी शुरू होने के साथ ही किसानों के बारदाना का उपयोग किया जाएगा। प्लास्टिक के बोरे भी इस्तेमाल में लाए जाएंगे। मिलर्स, पीडीएस दुकानों से भी बारदाने जुटाए जा रहे हैं।