गांजा तस्करी को रोकने बॉर्डर पर 24 घंटे निगरानी के लिए सीसीटीवी कैमरे और पुलिस जवान होंगे तैनात

 *मुख्यमंत्री श्री बघेल की पहल पर छत्तीसगढ़ और ओडिशा के पुलिस अधिकारियों की होगी उच्चस्तरीय बैठक

*गांजा तस्करी को रोकने के लिए तैयार होगी कार्ययोजना* 

*सीमावर्ती जिलों में बनेंगे स्थाई चेक पोस्ट


रायपुर ।

असल बात न्यूज।।

छत्तीसगढ़ राज्य गांजे की तस्करी से त्रस्त है। खबर के अनुसार यहां बस्तर और रायपुर के रास्ते से जो भी गांजा जाता है वह ज्यादातर उड़ीसा और आंध्रप्रदेश से लाया जाता है। राज्य सरकार के द्वारा ओडिशा के रास्ते से लाए जाने वाले गांजे की तस्करी को रोकने के लिए कदम उठाए जा रहे हैं।इस कड़ी में गांजा तस्करी को रोकने के लिए सीमावर्ती चेक पोस्ट पर सीसीटीवी कैमरा लगाया जाएगा और पुलिस बल की तैनाती की जाएगी।मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने ओडिशा राज्य से गांजा तस्करी को रोकने के लिए ओडिशा और छत्तीसगढ़ के पुलिस अधिकारियों की उच्च स्तरीय संयुक्त बैठक आहूत करने के निर्देश दिए हैं।

छत्तीसगढ़ राज्य में लगभग हर दूसरे दिन कहीं ना कहीं गांजे की तस्करी का मामला पकड़ में आ जाता है और यह जो गांजा बरामद किया जाता है वह ज्यादातर उड़ीसा और आंध्र प्रदेश से लाया जाता है। ऐसी खबर वर्ष पहले से रही है कि यह गांजा तस्करी का काम करने में काफी पहले से बहुत बड़ा गिरोह सक्रिय है। अभी अभी जसपुर के पत्थर गांव में जो कांड हुआ है उसमें भी गांजा तस्करों की बड़ी भूमिका सामने आई है और यह गांजा भी उड़ीसा चलाया जा रहा था।

 ऐसे हालात को देखते हुए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने गांजा तस्करी को रोकने के लिए ठोस कार्ययोजना बनाने और सीमावर्ती चेक पोस्ट में सी.सी.टी.वी कैमरे की व्यवस्था के साथ ही चौबीस घंटे निगरानी के लिए पुलिस बल तैनात करने को कहा है। 

 मुख्यमंत्री ने राज्य के पुलिस महानिदेशक और विशेष पुलिस महानिदेशक नक्सल आपरेशन को इस संबंध में तत्काल आवश्यक कार्यवाही के निर्देश दिए हैं।

       मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने छत्तीसगढ़ के सभी सीमावर्ती जिलों में जिनकी सीमाएं ओडिशा राज्य से लगती हैं वहां के कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक को स्थाई अधोसंरचना और चेक पोस्ट बनाने को कहा है। इन स्थानों में सी.सी.टीवी कैमरा की व्यवस्था के साथ ही 24 घंटे पुलिस बल तैनात रहेंगे और निगरानी करेंगे।

 मुख्यमंत्री श्री बघेल ने राज्य के पुलिस महानिदेशक और विशेष पुलिस महानिदेशक नक्सल आपरेशन को तत्काल इस दिशा में पहल करते हुए आवश्यक समन्वय सुनिश्चित करने को कहा है। छत्तीसगढ़ और ओडिशा के पुलिस अधिकारियों की उच्च स्तरीय बैठक में छत्तीसगढ़ के पुलिस महानिदेशक और पुलिस महानिरीक्षक इंटेलिजेंस के साथ-साथ सीमावर्ती जिले के पुलिस अधीक्षक और ओडिशा पुलिस के उच्चाधिकारी शामिल होंगे।