कर्नाटक में दो नए 100 बिस्तर वाले ईएसआईसी अस्पताल खोले जाएंगे

 

ईएसआईसी की 185वीं बैठक में प्रमुख फैसलों की घोषणा

'अटल बीमित व्यक्ति कल्याण योजना' के लिए सात नए औषधालय जून 2022 तक बढ़ाए गए

नई दिल्ली। असल बात न्यूज।

कर्मचारी राज्य बीमा निगम (ईएसआईसी) की 185वीं बैठक आज उत्तराखंड के ऋषिकेश में संपन्न हुई, जिसमें केंद्रीय श्रम और रोजगार मंत्री श्री भूपेंद्र यादव द्वारा कई बहुत पूर्व घोषणा की गई।

 

श्री यादव ने कर्नाटक के हरहोली और नरसापुर में नए 100 बिस्तरों वाले ईएसआईसी अस्पतालों, केरल के लिए सात नए ईएसआईसी औषधालयों के अलावा अन्य चीजों के अधिग्रहण के लिए 5 एकड़ भूमि पार्सल को मंजूरी देने की घोषणा की।

यह कहते हुए कि प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी के मार्गदर्शन और दिशा में सरकार अंतिम मील वितरण को तुरंत सुनिश्चित करके सेवाओं के लक्षित वितरण के लिए केंद्रित और प्रतिबद्ध है, मंत्री ने आगे घोषणा की कि 'अटल बीमित व्यक्ति कल्याण योजना' का अब विस्तार किया गया है। 30 जून 2022 तक। यह उन बीमित व्यक्तियों को 3 महीने के लिए 50 प्रतिशत वेतन पर बेरोजगारी भत्ता देने की योजना है जो किसी भी कारण से अपनी नौकरी खो देते हैं।  

बैठक के दौरान यह भी निर्णय लिया गया कि जहां कहीं भी ईएसआईसी अस्पतालों में इन-हाउस सुविधाएं उपलब्ध नहीं हैं, मरीजों को सूचीबद्ध निजी चिकित्सा सेवा प्रदाताओं के पास भेजा जाएगा और इसके अलावा, जहां कहीं भी ईएसआई सुविधा आईपी से 10 किलोमीटर से अधिक की दूरी पर है, मरीज सीधे इलाज के लिए पैनल में शामिल अस्पतालों से संपर्क कर सकते हैं।

उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर के लिए एक 30 बिस्तरों वाले अस्पताल को भी मंजूरी दी गई थी और ईएसआईसी कोविड राहत योजना के लिए दीर्घकालिक देनदारियों को प्रदान करने के लिए एक समर्पित निधि को भी मंजूरी दी गई थी। यह भी निर्णय लिया गया कि दिल्ली में रोहिणी में अस्थायी संरचनाओं से काम कर रहे ईएसआईसी डेंटल कॉलेज को ईएसआईसी अस्पताल बसई दारा पुर परिसर में नए भवन में स्थानांतरित किया जाएगा।

बैठक में श्रम और रोजगार मंत्रालय में राज्य मंत्री श्री रामेश्वर तेली, राज्यसभा से सांसद सुश्री डोला सेन, श्रम और रोजगार और सूचना और प्रसारण मंत्रालय में सचिव, श्री अपूर्व चंद्रा, सुश्री अनुराधा प्रसाद ने भी भाग लिया। , विशेष सचिव, श्रम और रोजगार मंत्रालय।