कर्मचारियों अधिकारियों के हड़ताल के चलते विभागा अध्यक्ष कार्यालय पूरी तरह से बंद

 

 मंत्रालय पर हड़ताल का असर नहीं

रायपुर। असल बात न्यूज़।

राज्य के कर्मचारी अपनी विभिन्न मांगों को लेकर अब सरकार के खिलाफ उतर आए हैं। इन कर्मचारियों का आंदोलन, प्रदर्शन लगातार बढ़ता जा रहा है। इसी कड़ी में अधिकारियों कर्मचारियों के द्वारा घोषित हड़ताल के चलते  आज इंद्रावती भवन का कामकाज  पूरी तरह से बंद नजर आया। कर्मचारी संगठनों ने उनकी मांग पूरी न होने पर अपना आंदोलन और तेज करने की चेतावनी दी है। इधर पता चला है कि मंत्रालयिन कर्मचारी संघ के द्वारा अपनी मांगों को लेकर अलग से आंदोलन करने की तैयारी करने की जा रही है। कर्मचारियों की मांगे तो एक है लेकिन अलग-अलग विभागों  में ये अलग-अलग संगठनों के साथ खेमे में बंटे भी नजर आने लगे हैं।डायरेक्टरेट में वैसे हड़ताल काफी कुछ सफल नजर आई है।

कर्मचारियों की 14 सूत्रीय मांगे हैं। ये कर्मचारी अभी छत्तीसगढ़ कर्मचारी अधिकारी फेडरेशन इंद्रावती भवन के बैनर तले संगठित हुए हैं।कर्मचारियों के द्वारा  मुख्य तौर पर  केंद्र के समान 28% महंगाई भत्ता स्वीकृत करने की मांग की जा रही है। इस हड़ताल के दौरान हालांकि मंत्रालय में कुछ मंत्रियों ने अपनी भी बैठकें  ली। ऐसे हालात में यहां मंत्रालतीन कामकाज पर हड़ताल का ना के बराबर असर नजर आया।

जानकारी के अनुसार अधिकारियों, कर्मचारियों के हड़ताल के बारे में जन सामान्य को सही जानकारी नहीं थी जिसके चलते बहुत सारे लोगों को यहां directorate   आकर वापस लौटते भी देखा गया।

जानकारी के अनुसार वैसे नया रायपुर में दूसरे कई शासकीय कार्यालय सामान्य तौर पर खुले रहे और वहां अबाध रूप से काम काज चलता रहा।