जिला अस्पताल में निःशुल्क डायलिसिस की सुविधा मिलने से किडनी के मरीजों को मिल रहा है नवजीवन

 

अब तक 3 हजार 4 सौ 99 डायलिसिस सेशन किया गया

दुर्ग । असल बात न्यूज़।

 किडनी रोग से ग्रसित मरीजों को लंबे समय तक बार-बार डायलिसिस कराना पड़ता है इससे मरीजों पर बहुत अधिक आर्थिक बोझ बढ़ता है। निजी अस्पतालों में डायलिसिस कराने से मरीजों को होने वाली आर्थिक समस्या से निजात दिलाने की दिशा में प्रदेश के 08 जिला अस्पतालों में निःशुल्क डायलिसिस की सुविधा मुहैया कराई जा रही है। दुर्ग जिला अस्पताल में अब तक 3 हजार 4 सौ 99 डायलिसिस सेशन किए जा चुके हैं। इससे दुर्ग जिले के साथ-साथ आसपास जिले के किडनी रोग से ग्रसित मरीजों को नवजीवन मिला है।  

राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन अंतर्गत राष्ट्रीय निःशुल्क डायलिसिस कार्यक्रम के तहत् जीवनधारा नाम से निःशुल्क डायलिसिस की सुविधा प्रदान की जा रही है। स्थानीय स्तर पर डायलिसिस की सुविधा मिलने से किडनी रोग से पीड़ित मरीजों को अब निजी अस्पताल अथवा दूर के अस्पतालों में जाने की समस्या से भी निजात मिला है। उल्लेखनीय है कि प्रदेश में यह सुविधा 2020 से दुर्ग, कांकेर, कोरबा, बिलासपुर, महासमुंद और बीजापुर में प्रदाय किया जा रहा था। अब जून 2021 से जशपुर और सरगुजा में भी डायलिसिस की सुविधा प्रारंभ की गई है। 

प्रदेश के 08 जिला अस्पतालों में अब तक 12 हजार 9 सौ 33 डायलिसिस सेशन किए जा चुके हैं। दुर्ग जिला अस्पताल में डायलिसिस की सुविधा होने से किडनी रोग से ग्रसित मरीजों को अब स्थानीय स्तर पर डायलिसिस कराने का लाभ मिल रहा है। जिले के मरीजों को इससे काफी राहत मिला है। मरीजों को न केवल स्थानीय स्तर पर डायलिसिस सुविधा का लाभ मिल रहा है, अपितु दुर जाने और डायलिसिस से होने वाली आर्थिक खर्च से भी राहत मिल रहा है।