समितियों के माध्यम से 6 लाख क्विंटल जैविक खाद का वितरण

 

जैविक खेती को लेकर किसानों का रूझान बढ़ा


रायपुर, । असल बात न्यूज।

राज्य में जैविक खेती को बढ़ावा देने तथा रासायनिक उर्वरकों पर निर्भरता एवं कृषि लागत को कम करने के उद्देश्य से किसानों द्वारा अब वृहद पैमाने पर जैविक खाद का उपयोग शुरू कर दिया गया है। गोधन न्याय योजना के तहत गौठानों में क्रय किए गए गोबर संबंधित वर्मी कम्पोस्ट एवं सुपर कम्पोस्ट खाद का उपयोग राज्य के किसान करने लगे हैं। सहकारी समितियों के माध्यम से अब तक 4 लाख 91 हजार 913 क्विंटल से अधिक वर्मी कम्पोस्ट तथा 1 लाख 6 हजार 510 क्विंटल से अधिक सुपर कम्पोस्ट का उठाव किसानों द्वारा किया गया है।
यहां यह उल्लेखनीय है कि गौठानों में गोधन न्याय योजना के तहत 2 रूपए किलो में गोबर क्रय कर इसके जरिए वृहद पैमाने पर वर्मी कम्पोस्ट एवं सुपर कम्पोस्ट खाद का निर्माण किया जा रहा है। महिला स्व-सहायता समूहों द्वारा अब तक गौठानों में 6 लाख 71 हजार 510 क्विंटल वर्मी कम्पोस्ट तथा 2 लाख 80 हजार 162 क्विंटल से अधिक सुपर कम्पोस्ट खाद तैयार की जा चुकी है, जिसमें से 5 लाख 98 हजार 423 क्विंटल से अधिक जैविक खाद का वितरण किसानों को सोसायटियों के माध्यम से किया जा चुका है।