विश्व आदिवासी दिवस के अवसर पर पोस्टर प्रतियोगिता का आयोजन

 

भिलाई। असल बात न्यूज़।

स्वामी श्री स्वरूपानंद सरस्वती महाविद्यालय हुडको भिलाई में जातिगत भेदभाव निवारण समिति एवं कला संकाय के संयुक्त तात्वावधान में ”छत्तीसगढ़ की आदिवासी संस्कृति कला, नृत्य, गीत, आभूषण के संदर्भ में“ विषय पर चित्रकला प्रतियोगिता का आयोजन किया गया जिसमें निर्णायक डाॅ. पूनम निकुम्भ स.प्रा. शिक्षा विभाग, डाॅ. शिवानी शर्मा विभागाध्यक्ष बायोटेक्नोलाॅजी, स.प्रा. सुनीता शर्मा विभागाध्यक्ष जुलाॅजी थी। 

कार्यक्रम प्रभारी डाॅ. एस. रजनी मुदलियार ने बताया छत्तीसगढ़ की संस्कृति आदिवासी बाहुल्य संस्कृति है छत्तीसगढ़ की पहचान यहाॅं के लोक-कला व लोक सांस्कृति से है इन्ही संस्कृतियों से परिचित कराने के उद्धेश्य से पोस्टर प्रतियोगिता का आयोजन किया गया ।

डाॅ. हंसा शुक्ला ने कला संकाय व जाजिगत भेदभाव निवारण समिति की सराहना करते हुये कहा छत्तीसगढ़ की जनजाति कला एवं संस्कृति अनमोल है आदिवासी समाज का जीवन जल, जंगल, जमीन से जुड़ा है अतः इस आयोजन से विद्यार्थी आदिवासी जनजीवन को समझ पायेंगे।

महाविद्यालय के मुख्य कार्यकारी अधिकारी डाॅ. दीपक शर्मा ने आदिवासी दिवस की बधाई दी एवं आदिवासी संस्कृति व कला के प्रति विद्यार्थियों को जागरूक करने की महाविद्यालय के पहल की सराहना की व कहा यह दिन दुनिया भर के आदिवासी समुदायों के अधिकारों और उनकी संस्कृति और भाषा को सम्मान देने का अवसर है। 

कला संकाय प्रभारी डाॅ. सुनीता वर्मा ने बताया विद्यार्थियों ने बहुत सुन्दर पोस्टर बनाये जिसमें आदिवासियों की कला संस्कृति जीवंत हो उठी है जो विद्यार्थियों के कलात्मक रूचि के साथ-साथ छत्तीसगढ़ संस्कृति के प्रति उनके जुड़ाव को प्रगट करता है। पोस्टर में विद्यार्थियों ने आदिवासियों के जनजीवन, संस्कृति उनके खेल तथा पारंपरिक उत्सव को उकेरा इससे स्पष्ट होता है कि विद्यार्थी आदिवासी जनजीवन को जानते है।

पोस्टर प्रतियोगिता में विजयी प्रतिभागियों के नाम इस प्रकार है - 

प्रथम- दिव्या ठाकुर एवं विश्णु कुमार - बी.एड.-चतुर्थ सेमेस्टर

द्वितीय- रुचि निशाद - बी.एस.सी.-द्वितीय वर्श पीसीएम एवं सुपर्णा भगत - पीजीडीसीए-द्वितीय सेमे.

तृतीय- सोनिया जसवाल - बी.एस.सी. - प्रथम वर्ष बायोटेक एवं दीपा साहू - बी.एड.-चतुर्थ सेमेस्टर

सांत्वना- मंजु नेताम - बी.एस.सी.- प्रथम बायोलाॅजी एवं दिशा यादव - बी.बी.ए. - चतुर्थ सेमेस्टर

कार्यक्रम को सफल बनाने में जातिगत भेदभाव निवारण समिति सदस्य स.प्रा. जानकी जंघेल, स.प्रा. गणित ने विशेष योगदान दिया।