टकराहट और तनाव के लम्हों से अलग होते हुए स्वास्थ्य मंत्री श्री सिंह देव ने विभागीय अधिकारियों की बैठक लेकर कामकाज की शुरुआत की, स्वास्थ विभाग के कामकाज की समीक्षा

 

0 पहला काम विभागीय कामकाज में कसावट लाना, बैठक में इसी पर जोर

0  कोरोना संक्रमण के घटते मामलों और टीकाकरण की स्थिति पर अधिकारियों से जानकारी प्राप्त की

0  कोरोना की संभावित तीसरी लहर से निपटने की तैयारियों  की चर्चा

0  नई भर्ती और प्रमोशन के विषय पर भी चर्चा



रायपुर। असल बात न्यूज़।

जो टकराहट, खींचतान का दौर चला उससे अलग होते हुए स्वास्थ्य मंत्री टी एस सिंह देव ने आज अपने विभागीय कामकाज की समीक्षा की है। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की बैठक ली।

सत्ता के भीतरी खेमे में टकराहट के जोरदार स्वर उभरने और दिल्ली तक में पार्टी के राष्ट्रीय नेताओं के समक्ष भारी शक्ति प्रदर्शन के बाद नेताओं के वापस छत्तीसगढ़ लौट आने के बाद राजनीतिक विश्लेषकों की नजर अब इस ओर लगी हुई है कि सत्ता और संगठन में क्या कहीं कोई ध्रुवीकरण  होने की नौबत  तो नजर नहीं आने लगेगी। प्रशासनिक कामकाज में भी कहीं कोई तीखापन या  कड़वाहट तो नजर नहीं आने लगेगा। इस बीच स्वास्थ्य परिवार कल्याण एवं पंचायत मंत्री टी एस सिंह देव ने तमाम कयासों को दूर करते हुए विभागीय अधिकारियों की  लंबी बैठक ली है तथा स्वास्थ्य विभाग के कामकाज की समीक्षा की है।

राज्य के राजनीतिक गलियारे में अभी चारों तरफ सिर्फ तथाकथित ढाई ढाई साल की चर्चा चल रही है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल कल शाम को दिल्ली से वापस लौटे हैं। उनके साथ ही पांच मंत्री और कम से कम 50 विधायक भी दिल्ली से वापस आए हैं। इसके लगभग 4 घंटे बाद स्वास्थ्य मंत्री टी एस सिंह देव भी दिल्ली से वापस लौट आए। मंत्री श्री सिंह देव ने वापस लौटने के बाद पत्रकार चर्चा करते हुए यह कहकर कि परिवर्तन ही अंतिम सत्य है बता ने की कोशिश है कि उनकी मुहिम अभी खत्म नहीं हुई है। उम्मीदों के अनुरूप परिवर्तन के साथ ही उनकी मुहिम चलती रहेगी।

इसके बाद राजनीतिक विश्लेषकों को यह लग, समझ आ रहा है कि दिल्ली में राष्ट्रीय नेताओं ने भले ही समझाने की लाख कोशिशों की हो, सुलह करने की कोशिशें की हो, लेकिन अभी भी सब कुछ पटरी पर तो कतई नहीं आया है।ऐसे में राजनीति से जुड़े हुए लोग यह भापने की कोशिश में लगे हुए हैं कि ऐसी तथाकथित टकराहट के बीच राज्य में प्रशासनिक कामकाज कैसे चलेगा। इन कामकाज पर भी तो किसी तरह का प्रतिकूल असर नहीं नजर आने लगेगा।

प्राप्त जानकारी के अनुसार  स्वास्थ्य मंत्री टी एस सिंहदेव ने आज सिविल लाइन्स स्थित निवास स्थान पर स्वास्थ्य विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ विभागीय कार्यों की समीक्षा बैठक की। इस बैठक में उन्होंने कोरोना संक्रमण के घटते मामलों और टीकाकरण की स्थिति पर अधिकारियों से जानकारी प्राप्त की। इस दौरान उन्होंने कोरोना की संभावित तीसरी लहर की तैयारियों को लेकर की विभाग के अधिकारियों से चर्चा की। उन्होंने कहा कि ऑक्सीजन और वेंटिलेटर की उपलब्धता के साथ ही उसके प्रबंधन पर भी विभाग को तैयारियां रखनी चाहिए।

 इसके साथ ही प्रदेश में डेंगू के प्रकरणों की समीक्षा करते हुए उन्होंने दवाओं की उपलब्धता पर दिशा-निर्देश दिए, इसके साथ ही स्वास्थ्य मंत्री श्री सिंहदेव ने जल-ठहराव और गंदगी के संबंध में जन-जागरूकता के लिये भी आग्रह किया। स्वास्थ्य मंत्री श्री सिंहदेव ने इस समीक्षा बैठक में वायरोलॉजी लैब व हमर लैब की स्थापना और आयुष्मान व डॉ खूबचंद बघेल योजना की स्थिति के बारे में चर्चा कर इनके उचित क्रियान्वयन के लिए आवश्यक दिशा निर्देश प्रदान किये। 

 विभाग में नई भर्ती और प्रमोशन के विषय पर भी चर्चा हुई। उन्होंने लैब और जांच केंद्र के संबंध में कहा कि ग्रामीण क्षेत्र में सब हेल्थ सेंटर में खून की जांच की सुविधा आसानी से उपलब्ध करवाने की दिशा में सरकार काम कर रही है। जिससे अब ग्रामीणों को जिला अस्पताल जाने की आवश्यकता नहीं होगी बल्कि उनके सैंपल लेकर लैब भेजे जायेंगे और रिजल्ट भी ऑनलाइन उपलब्ध करा दिया जाएंगे। इस पूरे कार्य के लिए विभाग को 6 महीने का लक्ष्य दिया गया है लेकिन अधिकारियों ने इस अवधि के अंदर ही कार्य पूरा करने की बात कही है। इस बैठक में 3 मेडिकल कॉलेजों में अधोसंरचना विकास व अन्य सुविधाओं को बढ़ाने के विषय में भी चर्चा की गई।