मुख्य सचिव ने सभी संभागायुक्तों और कलेक्टरों को गिरदावरी कार्य पर कड़ी निगरानी रखने के निर्देश दिए

 

अनियमित एवं खंड वर्षा से फसलों के प्रभावित होने की ली जानकारी

रायपुर । असल बात न्यूज़।

मुख्य सचिव श्री  अमिताभ जैन ने आज वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए संभागायुक्तों एवं कलेक्टरों की बैठक लेकर चालू खरीफ सीजन में अनियमित एवं खंड वर्षा के कारण खरीफ फसलों की उत्पादकता पर होने वाले प्रभाव की विस्तार से जानकारी ली। मुख्य सचिव ने कलेक्टरों को गिरदावरी को पूरी सजगता और गंभीरता के साथ पूरा कराने तथा इस पर कड़ी निगरानी रखने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि यह शासन का सबसे महत्वपूर्ण एवं सर्वोच्च प्राथमिकता का कार्य है। इसमें किसी भी तरह की लापरवाही नहीं होनी चाहिए। इस दौरान मुख्यमंत्री के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री सुब्रत साहू भी बैठक में मौजूद थे। 

मुख्य सचिव श्री अमिताभ जैन ने संभागायुक्तों एवं कलेक्टरों को अनियमित एवं खंड वर्षा की वजह से फसलों के नुकसान की स्थिति का तेजी से सर्वे कराने के साथ ही अपने अधीनस्थ अधिकारियों को गांवों का अनिवार्य रूप से दौरा कर फसलों की स्थिति के अवलोकन तथा किसानों से संपर्क करने के भी निर्देश दिए ताकि नुकसान की स्थिति का आंकलन किया जा सके। उन्होंने गांवों से प्राप्त गिरदावरी रिपोर्ट को भी अद्यतन कराए जाने के निर्देश दिए। मुख्य सचिव ने कलेक्टरों को गांवों में जरूरतमंद लोगों को रोजगार उपलब्ध कराने के लिए भी आवश्यक कार्ययोजना तैयार करने तथा मनरेगा, कैम्पा एवं अन्य योजनाओं के माध्यम से काम की उपलब्धता सुनिश्चित करने के भी निर्देश दिए। 

 मुख्य सचिव ने कहा कि खरीफ सीजन में यदि किसी किसान द्वारा फसल विविधिकरण के तहत धान के बदले अन्य फसल की बुआई की गई थी, जो अनियमित एवं खंड वर्षा की वजह से प्रभावित हुई हो तो यथासंभव संबंधित किसान को बुआई के लिए बीज उपलब्ध कराया जाना चाहिए। उन्होंने चालू वर्षा सीजन में औसत से कम वर्षा के मद्देनजर संभागायुक्तों और कलेक्टरों को गांवों में निस्तार एवं पेयजल की स्थिति का भी आंकलन करने तथा इस समस्या के निदान के लिए आवश्यक कार्य योजना तैयार करने के भी निर्देश दिए ताकि समस्यामूलक गांवों में पेयजल की आपूर्ति की जा सके। मुख्य सचिव ने बैठक के दौरान कलेक्टरों से उनके जिले के सिंचाई बांधों, जलाशयों, बैराजों में जल भराव की स्थिति की भी जानकारी ली। उन्होंने कहा कि ऐसे बांध एवं जलाशय जहां पर्याप्त जल भराव है, उन बांधों एवं जलाशयों के कमांड एरिया के किसानों को सिंचाई के लिए नियमित रूप से पानी दिया जाना चाहिए। 

मुख्यमंत्री के अतिरिक्त मुख्य सचिव श्री सुब्रत साहू ने बैठक में कलेक्टरों कोविड-19 संक्रमण की रोकथाम के लिए प्रोटोकॉल का कड़ाई से पालन सुनिश्चित करने और स्थिति पर सतत् निगरानी रखने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि कोरोना टेस्टिंग अनवरत रूप से जारी रहे और ज्यादा से ज्यादा लोगों की टेस्टिंग हो। अपर मुख्य सचिव ने कलेक्टरों को आगामी दिनों में प्रदेश में व्हीआईपी दौरा को देखते हुए सभी आवश्यक तैयारियां करने के निर्देश दिए। बैठक में राजस्व एवं आपदा प्रबंधन विभाग की सचिव सुश्री रीता शांडिल्य ने खंड एवं अनियमित वर्षा से विभिन्न जिलों में होने वाले संभावित प्रभाव की विस्तार से जानकारी दी।