मेडिकल शिक्षा में मोदी सरकार द्वारा ओबीसी वर्ग को 27 प्रतिशत आरक्षण देना ऐतिहासिक कदम-- कोमल जंघेल


राजनांदगांव । असल बात न्यूज।

 देश में  नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार के द्वारा पिछड़े वर्ग को चिकित्सा शिक्षा की प्रवेश परीक्षा में 27 प्रतिशत एवम आर्थिक रुप से कमजोर वर्ग के छात्रों को 10 परसेंट आरक्षण देने के फैसले को  ऐतिहासक कदम बताते हैं भारतीय जनता पार्टी के पिछड़ा वर्ग मोर्चा के प्रदेस सहप्रभारी एवं खैरागढ़ के पूर्व विधायक कोमल जंघेल ने  इस निर्णय का स्वागत किया है।

  उन्होंने कहा है कि पिछड़े वर्ग के संपूर्ण विकास एवं समाज को राष्ट्र के मुख्यधारा में जोड़ने देश की प्रधानमंत्री कृत संकल्पित है ।पिछड़ा वर्ग के युवावर्ग चिकित्सा शिक्षा छेत्र में आगे बढ़ेंगे। यह कदम आजादी के बाद पहली बार उठाया गया है जिससे 27 प्रतिसत आरक्षण दिये जाने से ओबीसी वर्ग के युवाओं को अपना भविष्य बनाने का सुनहरा अवसर प्राप्त होगा। यह फैसला 2021-22  के सत्र से लागू होगा जिसमे एमबीबीएस एमएस,बीडीएस,एमडीएस,डेंटल मेडिकल और डिप्लोमा के 5550 विद्यार्थियों को इसका फायदा होगा।

उन्होंने कहा कि  अभी हुए मंत्रिमंडल के विस्तार में भी  मोदी जी ने पिछड़े वर्ग से बहुत से ओबीसी सांसदों को इस कोटे से केंद्रीय मंत्री बनाकर पिछड़ा वर्ग को सम्मान दिया है यह निर्णय भी ऐतिहासिक कदम है।इसी तरह पूर्व कार्यकाल में माननीय मोदी जी ने  पिछड़ा वर्ग के लोगो  कल्याण के लिए पिछड़ा वर्ग आयोग का भी गठन किया गया  जो इस वर्ग के लोगो के शैक्षणिक आर्थिक सामाजिक रूप आगे बढ़ने हेतु संवैधानिक अधिकार देकर आयोग बनाया गया है जिस पर लगातार काम किया जा रहा है जिससे इस देश मे पिछड़ा वर्ग के लोगो का विकास होना निश्चित है कोमल जंघेल ने कहा है कि मोदी जी का इन सब निर्णयों के पीछे उनका उद्देश्य पिछड़े वर्ग के लोगो का उत्थान करना है जो देश के आजादी के बाद यह पहली बड़ी निर्णय है।