सावधान।साइबर अलर्ट।कैशबैक या रिवॉर्ड से सम्बंधित मेसेज पर क्लिक ना करें

 आप,फोन पे, पेटीएम,अमेज़न और पेयू का अधिक इस्तेमाल करते हैं तो सतर्क हो जाइए

रायपुर । असल बात न्यूज।

कैशबैक या रिवॉर्ड से सम्बंधित मेसेज पर क्लिक ना करें।छत्तीसगढ़ पुलिस मुख्यालय ने यह अपील की है।पुलिस मुख्यालय  आम लोगों से   किसी भी कैशबैक या रिवॉर्ड सम्बंधित ऑफर के झांसे में नहीं आने तथा सतर्क रहने की अपील की गई है।                

पुलिस मुख्यालय स्थित साइबर क्राइम हेल्पलाइन नंबर 155260 पर फोन पे, पेटीएम आदि के माध्यम से कैशबैक या रिवॉर्ड मिलने का लालच देकर ठगी की शिकायतें लगातार प्राप्त हो रही हैं | पिछले दो वर्षों में प्रदेश में घटित ऑनलाइन ठगी के मामलों में तीन सौ से अधिक में कैशबैक या रिवॉर्ड का लालच देकर ठगी की गयी| इस प्रकार से ठगी में सबसे ज्यादा फोने पे के उपभोक्ताओं को निशाना बनाया जा रहा है| इसके अलावा पेटीएम, अमेज़न और पेयू के मामले भी शामिल हैं | अतः पुलिस मुख्यालय द्वारा अपील है कि ऐसे आमजन सतर्क रहें एवं किसी भी कैशबैक या रिवॉर्ड सम्बंधित ऑफर के झांसे में ना आयें |

कैसे होता है कैशबैक या रिवॉर्ड सम्बंधित फ्रॉड?

 पीड़ित के पास सबसे पहले फर्जी कस्टमर केयर नंबर से फ़ोन कॉल/ लिंक आता है जिसमें बताया जाता है कि पीड़ित के यूपीआई में कैशबैक/रिवॉर्ड सम्बंधित जानकारी देते हुए अपने फोने पे / पेटीएम में जाकर नोटिफिकेशन चेक करने को कहा जाता है | पीड़ित द्वारा नोटिफिकेशन चेक करने पर वाकई कैशबैक/रिवॉर्ड सम्बंधित मेसेज दिखाई देता है जिससे पीड़ित को विश्वास हो जाता है की ऑफर वास्तवित है और वो पैसे प्राप्त करने हेतु मेसेज पर क्लिक कर देता है | यूपीआई पिन डालने के बाद तुरंत उसके खाते से उतनी ही राशि कट जाती है, और इस तरह जानकारी के आभाव एवं लालच के कारण वो ठगी का शिकार हो जाता है |

क्या करें ?

            फ़ोनकॉल के माध्यम से आये ऐसे किसी भी कैशबैक/रिवॉर्ड/स्क्रैच कार्ड से सम्बंधित ऑफर पर ध्यान ना दें एवं ऐसे नम्बरों की शिकायत ऑनलाइन https://www.cybercrime.gov.in पर दर्ज करें |

           हमेशा याद रखें की यूपीआई के माध्यम से पैसा प्राप्त करने हेतु कभी पिन डालने की आवश्यकता नहीं होती है | पिन केवल तभी डालना होता है जब आपके खाते से किसी और को पैसे देना होता है |

          पैसे कटने पर तुरंत हेल्पलाइन नंबर 155260 पर कॉल कर ट्रांजेक्शन की पूरी जानकारी समेत शिकायत दर्ज करवाएं | नजदीकी पुलिस स्टेशन से संपर्क करें।