रसायन विभग द्वारा 15 दिवसीय सर्टिफिकेट कार्यक्रम का आयोजन

 

भिलाई। असल बात न्यूज़।

सेंट थॉमस महाविद्यालय के रसायन स्नातकोत्तर विभाग एवं शासकीय स्नातकोतर महाविद्यालय कवर्धा के संयुक्त तत्वावधान में “पानी की गुणवत्ता” विषय पर 15 दिवसीय सर्टिफिकेट कार्यक्रम का आयोजन किया गया| इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि बी. एस. पी. नगर सेवा विभाग के उप प्रबंधक डॉ आर. पी. देवांगन थे| कार्यक्रम के मुख्य वक्ता जलशक्ति मंत्रालय भारत सरकार नागपुर के वैज्ञानिक डॉ. रजनीकांत शर्मा थे| 

मुुख्य संरक्षक हिस ग्रेस डॉ जोसेफ मार डायनोशियस मैनेजर बिशप, संरक्षक प्रशासक फादर डॉ जोशी वर्गीस, प्राचार्य डॉ एम. जी. रोईमोन अधिष्ठाता अकादमिक डॉ. विनीता थॉमस, रसायन विभाग के विभागाध्यक्ष एवं कार्यक्रम के संयोजक डॉ. जेम्स मैथ्यू, कार्यक्रम की सह-संयोजक डॉ. चंदा वर्मा रसायन विभाग कवर्धा स्नातकोत्तर महाविद्यालय की विभागाध्यक्ष डॉ दीप्ति जांगड़े, माइक्रोबायोलॉजी एवं बायोटेक्नोलोजी विभाग कवर्धा की विभागाध्यक्ष डॉ. रिचा मिश्रा आदि इस सर्टिफिकेट कार्यक्रम में उपस्थित थे|

 महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ एम. जी. रोईमोन ने सभी अतिथियों एवं प्रतिभागियों का स्वागत किया| रसायन विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ. जेम्स मैथ्यू ने सर्टिफिकेट कार्यक्रम के उद्देश्यों की संक्षिप्त जानकारी दी| प्रशासक फादर डॉ जोशी वर्गीस ने इस कार्यक्रम के माध्यम से पानी के गुणों को समझने तथा मुख्य रूप से 4 R जैसे रिड्यूस, रियुस, रिसायकिल एवं रिकवर पर ध्यानाकर्षण किया| सह-संयोजक डॉ. चंदा वर्मा ने प्रतिभागियों को 15 दिवसीय सर्टिफिकेट कार्यक्रम की तिथिवार सुचना प्रदान की| उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया कि इस समय छात्र अपने घर में ही रहकर कार्यक्रम का पूरा लाभ लेते हुए इसमें अपना कैरियर चुन सकते हैं| कार्यक्रम के मुख्य अतिथि डॉ आर. पी. देवांगन ने अधिकांश भूमिगत जल के प्रदुषण की चर्चा करते हुए भवनों में रेनवाटर हार्वेस्टिंग की व्यवस्था करने पर जोर दिया| उन्होंने रेनवाटर हार्वेस्टिंग तकनीक के विभिन्न मोडलों को समझाया| मुख्य वक्ता डॉ. रजनीकांत शर्मा ने जल बोर्ड से सम्बन्धित विभिन्न कैरियर अवसरों की जानकारी दी| उन्होंने जल के अध्ययन से संबंधित पहलुओं की आवश्यकता की जानकारी दी|

 कार्यक्रम का संचालन डॉ दीप्ति जांगड़े द्वारा किया गया| कार्यक्रम बहुत ही सजीव रहा एवं वक्ताओं द्वारा सभी पूछे गए प्रश्नों के उत्तर भी दिए गए| अंत में वक्ता एवं प्रतिभागियों के मध्य एक बहुत ही स्वस्थ चर्चा हुई एवं उसका परिणाम बहुत ही फलदायक रहा| इस अवसर पर प्रशासक फादर डॉ जोशी वर्गीस एवं प्राचार्य डॉ एम. जी. रोईमोन ने वर्तमान से संबंधित कार्यक्रम के आयोजन के लिए रसायन विभाग की सराहना की| उद्घाटन सत्र का संचालन डॉ चंदा वर्मा द्वारा किया गया एवं धन्यवाद ज्ञापन डॉ रिचा मिश्रा द्वारा दिया गया|